Panna: टाइगर रिजर्व में हाथी ने ली रेंजर की जान

Panna Tiger Reserve: टाइगर ट्रेकिंग के दौरान पन्ना टाइगर रिजर्व में हाथी ने गिराकर दांतों से कुचला, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने जताया दु:ख

Updated: Aug-15, 2020, 02:08 AM IST

Panna: टाइगर रिजर्व में हाथी ने ली रेंजर की जान
photo courtesy : bansal news

भोपाल। पन्ना टाइगर रिजर्व में टाइगर ट्रेकिंग के दौरान एक हाथी ने हिनौता रेंजर बीआर भगत को कुचलकर मार डाला। रेंजर भगत मूल रूप छत्तीसगढ़ के रहने वाले थे और 8 साल से वह एक ही रेंज में पदस्थ थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रेंजर बीआर भगत की मौत पर शोक संवेदना प्रगट की है।

फील्ड डायरेक्टर केएस भदौरिया ने बताया कि हिनौता रेंज के रेंजर बीआर भगत स्टाफ के साथ जंगल में टाइगर ट्रेकिंग के लिए निकले थे। हाथी रामबहादुर रेंजर भगत से अच्छे से परिचित था। रेंजर ने हाथी को बैठने का निर्देश दिया लेकिन हाथी ने आदेश नहीं माना। उसने रेंजर को पहले तो अपनी पीठ से नीचे गिराया और अपने नुकीले दांतों से उन्हें कुचल दिया। रेंजर बीआर भगत को गंभीर हालत में मझगंवा स्थित एनएमडीसी के स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया जहां ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर में कहा है कि रेंजर ने कर्तव्य पालन करते हुए अपने प्राण न्योछावर किये हैं। उन्होंने रेंजर को श्रद्धांजलि अर्पित कर उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना की है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघों के बीच लड़ाई हुई थी। जिसमें एक बाघ के मारे जाने की खबर थी मौत हो गई थी। बाघ की मौत की खबर वन विभाग को चार दिन बाद लगी थी। रेंजर बीआर भगत अपने स्टाफ के साथ दूसरे बाघ की तलाश में जंगल में जा रहे थे। तभी वो अपने ही हाथी का शिकार हो गए।

पन्ना टाइगर रिजर्व के 542 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल वाले कोर एरिया में बाघों की संख्या बढ़ती जा रही है   कोर और बफर जोन दोनों को मिलाकर इस क्षेत्र में करीब 60 बाघ रहते हैं।