इंदौर में दूषित पानी पीने से पूरा गांव बीमार, करीब 35 लोगों में डेंगू व मलेरिया के लक्षण

इंदौर के पास बेटमा के गांव उत्तरसी का मामला, लोगों में सर्दी, बुखार, उल्टी, शरीर में दर्द के लक्षण, 10 लोग अस्पताल में भर्ती

Updated: Nov 21, 2022, 01:12 PM IST

इंदौर में दूषित पानी पीने से पूरा गांव बीमार, करीब 35 लोगों में डेंगू व मलेरिया के लक्षण

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में दूषित पानी पीने से एक गांव के करीब तीन दर्जन लोग बीमार पड़ गए हैं। ग्रामीणों में डेंगू व मलेरिया के लक्षण हैं। लोग सर्दी, बुखार, उल्टी, शरीर में दर्द से परेशान हैं। इनमें से 10 लोगों को गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जिनमे से दो इंदौर के एक निजी अस्पताल में भर्ती हैं।

मामला इंदौर के पास बेटमा के गांव उत्तरसी का है।अचानक एक साथ इतने लोगों के बीमार होने के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया है। विभाग ने वहां टीमें भेजकर 40 से ज्यादा लोगों के सैंपल लिए हैं जिनमें से कुछ में डेंगू के लक्षण मिले हैं। ग्रामीणों का कहना है कि क्षेत्र की चंबल नदी में किसी फैक्टरी का केमिकल उसमें मिल गया है जिससे लोग बीमार पड़ रहे हैं।

करीब ढाई सौ लोगों की आबादी वाले उत्तरसी गांव के लोगों में दहशत का माहौल है। ग्रामीणों के मुताबिक चंबल नदी में लेबड (धार के पास) की एक निजी कम्पनी द्वारा केमिकल वाला पानी छोड़ा जा रहा है। इस कारण से लोग डेंगू व मलेरिया के शिकार हो रहे हैं। शनिवार को बेटमा स्वास्थ्य विभाग से सीएचओ दीपिका प्रचंड (राठौर), एएनएम सीमा जाट, आशा कार्यकर्ता भावना पोरवाल की टीम गांव में पहुंची। वहां लोगों ने बताया कि उन्हें ठण्ड के साथ बुखार, उल्टी, लूज मोशन, शरीर दर्द के लक्षण हैं। 

गंभीर रूप से बीमार समन्दर सिंह पटेल व दीपक पटेल को इंदौर एक प्राइवेट अस्पताल में एडमिट किया है जबकि सत्यनारायण पोरवाल व भावना को बेटमा के अस्पताल तथा कलाबाई पोरवाल व रोहित पोरवाल को गौतमपुरा के अस्पताल में एडमिट किया गया है। इनमें से कुछ मरीजों की प्लेटलेट्स काफी कम हो गई है तथा इलाज चल रहा है। गांव के कमल पटेल व अनिल नागर ने बताया कि नदी में मिले केमिकल से पानी दूषित हुआ है। संभवत: इसी कारण लोग बीमार पड़ रहे हैं।