दलित बच्ची की मौत पर मैजिस्ट्रेट जाँच कराएगी दिल्ली सरकार, परिजनों को 10 लाख की सहायता राशि का एलान

आरोप है कि दिल्ली में 9 साल की दलित बच्ची की रविवार शाम को एक शवदाह गृह के साधु ने रेप के बाद जला दिया और माँ को ख़बर की कि बच्ची की मौत शॉर्ट सर्किट से हो गयी

Updated: Aug 04, 2021, 07:42 PM IST

दलित बच्ची की मौत पर मैजिस्ट्रेट जाँच कराएगी दिल्ली सरकार, परिजनों को 10 लाख की सहायता राशि का एलान
Photo Courtesy: Praveen Negi EPS

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नौ साल की दलित बच्ची के रेप और हत्या मामले में मैजेस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। अरविंद केजरीवाल ने पीड़ित परिवार को दस लाख की सहायता राशि देने का भी एलान किया है। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि इस मामले में दोषियों को कड़ी सज़ा दिलाने के लिे सरकार बड़े वकीलों से मदद लेगी और दिल्ली की कानून व्यवस्था दुरूस्त करने के लिए कड़े कदम उठाएगी। यही नहीं केजरीवाल ने यह भी दावा किया है कि बच्ची के लिे कानूनी लड़ाई में वो बड़े बड़े वकीलों को उतारेंगे।

दिल्ली के दक्षिण पश्चिम इलाके, नांगल में एक दलित बच्ची की रेप और हत्या से लोगों में आक्रोश है। रविवार को जब बच्ची श्मशान घाट पर ठंडा पानी लेने गयी थी, तब वहां के पुजारी और कुछ लोगों ने उसका रेप किया और बिना परिजनों को बताए उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया। बच्ची की मां का आरोप है कि पुजारी ने उसका रेप किया, इस वजह से परिजनों को बिना बताए अंतिम संस्कार को अंजाम दिया गया। 

इस घटना के बाद से स्थानीय तौर पर लोगों का प्रदर्शन जारी है। दलित नेता चंद्रशेखर रावण भी परिवार को न्याय दिलाने के समर्थन में प्रदर्शन कर चुके हैं। बुधवार सुबह राहुल गांधी के परिवार से मिलने से सत्ता पक्ष भड़क उठा है। बीजेपी का आरोप है कि विपक्ष इस मामले पर राजनीति कर रहा है। मगर राहुल गांधी के बाद अब केजरीवाल भी बच्ची के परिजनों के समर्थन में आ गए हैं। मामला राजनीतिक भले ही हो चला है, लेकिन बच्ची के साथ हुए अन्याय के समर्थन में दिल्ली की अधिकांश जनता इसे उचित मान रही है।