किसान नेताओं की अपील, पुलिस फ़र्ज़ी मामले में गिरफ्तार करने आए तो विरोध करे पूरा गांव

किसान नेताओं का आरोप है कि पुलिस झूठे केस दर्ज कर किसानों को परेशान कर रही है, ऐसे में नेताओं ने गांव गांव जा कर एकजुटता की अपील की है

Updated: Feb 22, 2021, 10:07 AM IST

किसान नेताओं की अपील, पुलिस फ़र्ज़ी मामले में गिरफ्तार करने आए तो विरोध करे पूरा गांव

नई दिल्ली। केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान नेताओं ने अपील की है कि अगर दिल्ली पुलिस आंदोलन में शामिल होने या मदद करने वाले किसानों को फर्जी मामलों में गिरफ्तार करने आती है, तो पूरे गांव को मिलकर उनका विरोध करना चाहिए।  किसान नेताओं ने पंजाब सरकार से भी अपील की है कि राज्य सरकार को दिल्ली पुलिस के साथ सहयोग नहीं करना चाहिए। किसान नेताओं की यह अपील बता रही है कि किसानों और केंद्र सरकार के बीच विश्वास का संकट लगातार और गहरा हो रहा है, जो एक चिंताजनक स्थिति है।  

दरअसल किसान नेताओं का बड़ा आरोप यह है कि दिल्ली की पुलिस किसानों के खिलाफ झूठे केस दर्ज कर रही है। लिहाजा उसका विरोध करना ज़रूरी है। केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार किसान आंदोलन से डरी हुई है और इसीलिए किसानों आंदोलन में शामिल होने वालों या उसमें किसी भी तरह से सहयोग करने वालों को झूठे मामलों में फंसाकर परेशान करने की कोशिश की जा रही है। 

भारतीय किसान यूनियन के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने पंजाब के बरनाला में रविवार को आयोजित किसान मजदूर एकता महारैली में किसानों से कहा, ''अगर दिल्ली पुलिस के कर्मी आपको गिरफ्तार करने आते हैं तो पूरा गांव इकट्ठा हो जाए और उनका विरोध करे।'' राजेवाल ने किसानों से कहा कि दिल्ली पुलिस अगर जांच में शामिल होने के लिए नोटिस जारी करती है तो किसानों को उनके सामने पेश नहीं होना चाहिए। अगर दिल्ली पुलिस के जवान उनकी गिरफ्तारी करने आते हैं, तो उनका घेराव कीजिए। उन्होंने दावा किया कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार किसान आंदोलन से डरी हुई है।

राजेवाल ने आरोप लगाया कि जो लोग दिल्ली की सीमाओं के पास प्रदर्शन स्थल पर 'लंगर चला रहे हैं या किसानों का सहयोग कर रहे हैं उन्हें पुलिस नोटिस जारी कर रही है। रैली का आयोजन भारतीय किसान यूनियन (एकता उगराहां) और पंजाब खेत मजदूर संघ ने किया था।

किसान नेता जोगिंदर सिंह उग्रहान ने कहा है कि किसानों के संगठन से किसी को गिरफ्तार करना मुश्किल है। अगर सरकार ऐसा करेगी तो यह उसकी मूर्खता होगी। किसान नेता ने कहा कि यह बात पंजाब के लोगों को पहले से ही पता है। उग्रहान ने कहा कि अगर दिल्ली पुलिसकर्मी गिरफ्तार करने आएं तो उनका विरोध करें, क्योंकि उनके खिलाफ जो नोटिस जारी किए गए हैं, वे गलत हैं। अगर वे गिरफ्तार करने आपके गांवों में गिरफ्तार करने आते हैं तो उनका घेराव कीजिए। दो दिन पहले हरियाणा बीकेयू के प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी ने भी इसी तरह की अपील की थी।