Maharashtra political crisis: 37 MLAs ने शिंदे को अपना नेता माना, राउत बोले- महाराष्ट्र में घूमना मुश्किल हो जाएगा

शिंदे की ओर से 48 MLAs का समर्थन होने का दावा, शिवसेना से बगावत के बाद एकनाथ शिंदे गुवाहाटी में मौजूद हैं, उनके साथ करीब 48 विधायकों का समर्थन है, इनमें 41 शिवसैनिक और दो निर्दलीय हैं, इसी बीच गुवाहाटी में बागी विधायकों की सुरक्षा को लेकर बीजेपी जिस बात से डर रही थी वही होता दिख रहा है, तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रेडिशन ब्लू होटल के बाहर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है

Updated: Jun 24, 2022 08:34 AM IST

गुवाहाटी। असम के जिस रेडिशन ब्लू होटल में शिवसेन के बागी विधायक ठहरे हुए हैं, वहां तृणमूल कांग्रेस के सैंकड़ों कार्यकर्ता पहुंच गए हैं। टीएमसी कार्यकर्ता यहां खरीद फरोख्त की राजनीति के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका कहना है कि जब राज्य प्राकृतिक आपदा से जूझ रहा है, तब सीएम हिमांता बिस्वा सरमा महाराष्ट्र सरकार गिराने में व्यस्त हैं। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया। शिंदे कैंप में इस तरह के प्रदर्शनों को लेकर कल से ही चिंता थी। बीच में यह भी खबर आई थी की गुवाहाटी में सेंधमारी संभव है, इसलिए सभी विधायकों को इंफाल भेजा जाएगा।

 

महाराष्ट्र में घूमना मुश्किल हो जाएगा: राउत

इसी बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने बागी विधायकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि, 'आने दो हमारे विधायक फ्लोर हाऊस पर फिर देख लेंगे। देखो ये जो विधायक चले गए हैं, इन्हें महाराष्ट्र में आना घूमना बहुत मुश्किल होगा।'

वापस आना ही होगा: शरद पवार

NCP सुप्रीमो शरद पवार ने शिवसेना के बागी विधायकों को लेकर कहा है कि, 'एमवीए सरकार के भाग्य का फैसला विधानसभा में होगा, न कि गुवाहाटी में। सरकार सदन पटल पर अपना बहुमत साबित करेगी। बागी विधायकों को मुंबई वापस आना होगा और विधानसभा का सामना करना होगा। उन्होंने कहा कि गुजरात और असम के भाजपा नेता उनका मार्गदर्शन करने के लिए यहां नहीं आएंगे।'

शिंदे को 37 MLAs का समर्थन

शिवसेना के बागी विधायकों के नेता एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र विधानसभा के उपाध्यक्ष को शिवसेना विधायक दल के नेता के रूप में अपनी नियुक्ति की पुन: पुष्टि और पार्टी के मुख्य सचेतक के रूप में भरतशेत गोगावाले की नियुक्ति के संबंध में पत्र लिखा है। पत्र में शिवसेना के 37 विधायकों के हस्ताक्षर हैं और पत्र की एक कॉपी डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल, राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और विधान परिषद के सचिव राजेंद्र भागवत को भेजी गई है।

BJP को रोकने के लिए शिवसेना के साथ: कांग्रेस

इसी बीच कांग्रेस की ओर से प्रतिक्रिया आई है की वह बीजेपी को रोकने के लिए कांग्रेस के साथ है। महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि, 'बीजेपी को सत्ता में आने से रोकने के लिए हम शिवसेना के साथ हैं। ईडी की वजह से यह खेल हो रहा है। हम महा विकास आघाड़ी के साथ हैं और रहेंगे। वे किसी के साथ गठबंधन करना चाहते हैं तो हमें कोई समस्या नहीं है।

सोचकर बयान दें: एनसीपी

संजय राउत के गठबंधन तोड़ने संबंधी बयान पर NCP की ओर से तल्ख प्रतिक्रिया आई है। NCP ने शिवसेना नेताओं को हिदायत देते हुए कहा है कि सोच समझकर बयान दिया करें। एनसीपी कोटे से मंत्री छगन भुजबल ने कहा कि राउत ने गैरजिम्मेदराना तरीके से बयान दिया है। सहयोगी दलों से चर्चा करना जरूरी था।

कांग्रेस ने बुलाई आपात बैठक

महा विकास अघाड़ी गठबंधन से निकलने पर विचार के शिवसेना सांसद संजय राउत के बयान के बीच कांग्रेस ने अपने विधायकों की आपात बैठक बुलाई है। कांग्रेस नेता बालासाहेब थोराट, नाना पटोले औऱ अशोक चह्वाण आदि नेता इस बैठक में हिस्सा ले रहे हैं। इससे पहले कांग्रेस ने कहा था कि अगर एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाया जाता है तो उसे ऐतराज नहीं है।

हम गठबंधन से निकलने पर विचार करेंगे: राउत

हम गठबंधन से निकलने पर विचार करेंगे: राउत

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा है कि हम मौजूदा गठबंधन से बाहर निकलने पर विचार करेंगे। उन्होंने बागी विधायकों से कहा, 'वापस आइये... आमने-सामने बैठकर बात करते हैं। बागी शिवसेना विधायक 24 घंटे में लौट आएं। हम महाविकास अघाड़ी से निकलने पर विचार करेंगे।'

शाम 5 बजे NCP MLAs की बैठक

डिप्टी सीएम जयंत पाटिल ने कहा कि, 'हम उद्धव ठाकरे के साथ खड़े होंगे, हम इस सरकार के साथ हैं। आज शाम 5 बजे, मैंने अपने सभी विधायकों को एक बैठक के लिए आमंत्रित किया है ताकि उन्हें चल रहे घटनाक्रम से अवगत कराया जा सके। शरद पवार भी इस बैठक में शामिल होंगे।'

चिट्ठी के पीछे कई कारण हैं: जयंत पाटिल

शिवसेना के बागी विधायकों द्वारा उद्धव ठाकरे को लिखी गई चिट्ठी पर एनसीपी नेता जयंत पाटिल ने कहा, 'इस चिट्ठी और आरोपों के पीछे कई कारण हैं, जो मैं वक्त आने पर बताऊंगा। यह बात उनको ढाई साल के बाद क्यों याद आई, अगर उनको कोई इश्यू है तो वे मुख्यमंत्री से बात कर सकते हैं। उनका कारण अलग है। सही समय पर यह बात पता चल जाएगी. कल तो खुद मुख्यमंत्री ने उन्हें कहा है कि अगर उन्हें पद चाहिए तो मैं पद छोड़ने को तैयार हूं।तो शिंदे मुख्यमंत्री से मिलकर बात कर लें।'

उद्धव ठाकरे ने CM हाउस छोड़ा है पद नहीं: जयंत पाटिल

उद्धव ठाकरे के मातोश्री में शिफ्ट होने को लेकर जयंत पाटिल ने कहा, 'वर्षा बंगले में वह रहने के लिए पहले भी तैयार नहीं थे। लेकिन हम लोगों के निवेदन पर वह वहां रहने के लिए गए थे…ताकि सरकारी काम आसान हो। उद्धव ने वर्षा छोड़ा यानी मुख्यमंत्री पद छोड़ा ऐसा नहीं है। अभी फ्लोर टेस्ट के बारे में कुछ कह नहीं सकता। विरोधी पक्ष में बैठने के लिए तैयारी नहीं होती…ऐसी स्थितियां बन जाती हैं।'

उद्धव ठाकरे को शिंदे गुट ने लिखा पत्र

सियासी उठापटक के बीच एकनाथ शिंदे गुट की ओर से सीएम उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है। इस चिट्ठी को शिंदे ने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया है। पत्र में लिखा गया है कि, 'शिवसेना के विधायकों की बात कभी नहीं सुनी गई। उद्धव के घर के दरवाजे हमेशा उनके लिए बंद रहे।' इसमें यह भी लिखा है कि जब हम अयोध्या जा रहे थे, तब हमें रोका गया। जो लोग वहां चले गए थे, उन्हें भी फोनकर वापस बुलाने की बात कही गई।

20 MLA हमारे संपर्क में: संयज राउत

20 MLA हमारे संपर्क में: संयज राउत

सियासी घटनाक्रमों के बीच शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा, 'मैं किसी खेमे की बात नहीं करूंगा, अपनी पार्टी की बात करूंगा। हमारी पार्टी आज भी मजबूत है…करीब 20 विधायक हमारे संपर्क में हैं…जब वे मुंबई आएंगे तो आपको पता चलेगा…जल्द ही पता चल जाएगा, किन परिस्थितियों में इन विधायकों ने हमें छोड़ा। ईडी के दबाव में पार्टी छोड़ने वाले सच्चे बालासाहेब भक्त नहीं हैं। हम सच्चे बालासाहेब भक्त हैं…ईडी का दबाव भी है, लेकिन उद्धव ठाकरे के साथ खड़े रहेंगे…जब फ्लोर टेस्ट होगा तो सभी देखेंगे कि कौन सकारात्मक है और कौन नकारात्मक है।'

प्रदर्शन कर रहे टीएमसी कार्यकर्ता गिरफ्तार

प्रदर्शन कर रहे टीएमसी कार्यकर्ता गिरफ्तार

गुवाहाटी में रैडिसन ब्लू होटल के बाहर प्रदर्शन कर रहे टीएमसी नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। विरोध कर रहे लोग यहां Go back के नारे लगा रहे थे। टीएमसी का कहना है कि, ‘असम में लगभग 20 लाख लोग बाढ़ से पीड़ित हैं। लेकिन सीएम हिमांता बिस्वा सरमा महाराष्ट्र सरकार को गिराने में व्यस्त हैं।' बताया जा रहा है कि पुलिस को विरोध प्रदर्शन की पहले से सूचना थी, इसीलिए यहां आंसू गैस और वॉटर कैनन का व्यवस्था कर लिया गया था, साथ ही अतिरिक्त पुलिस बल की भी तैनाती की गई है।

पद और पार्टी दोनों गंवाने की कगार पर ठाकरे

पद और पार्टी दोनों गंवाने की कगार पर ठाकरे

शिवसेना के बागी शिंदे कैंप को विधायकों का समर्थन लगातार बढ़ता जा रहा है। पिछले 12 घंटे में करीब 4 से 5 अतिरिक्त विधायक गुवाहाटी पहुंच चुके हैं। खबर है कि शिंदे के साथ अब शिवसेना के 41 विधायक हो चुके हैं, जबकि उन्हें 37 की ही आवश्यकता थी। शिंदे ने पार्टी पर अपना दावा ठोक दिया है। ऐसे में अब माना जा रहा है कि उद्धव पद और पार्टी दोनों गंवाने की कगार पर हैं।

गुवाहाटी: होटल के बाहर TMC का प्रदर्शन

असम के जिस रेडिशन ब्लू होटल में शिवसेन के बागी विधायक ठहरे हुए हैं, वहां तृणमूल कांग्रेस के सैंकड़ों कार्यकर्ता पहुंच गए हैं। टीएमसी कार्यकर्ता यहां खरीद फरोख्त की राजनीति के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बात को लेकर शिंदे कैंप में कल से ही चिंता थी। बीच में यह भी खबर आई थी की गुवाहाटी में सेंधमारी संभव है, इसलिए सभी विधायकों को इंफाल भेजा जाएगा।