चीनी युतु 2 रोवर ने चांद पर देखी रहस्यमय आकृति, लोगों ने कहा एलियंस ने बनाया है घर, नाम दिया मिस्ट्री हाउस

करीब 3 साल से चीनी युतु 2 रोवर चांद की सुदूर सतह की स्टडी में जुटा, रोवर युतु-2 चंद्रमा पर सबसे लंबे समय तक काम करने वाला रोवर बना

Updated: Dec 06, 2021, 07:03 PM IST

चीनी युतु 2 रोवर ने चांद पर देखी रहस्यमय आकृति, लोगों ने कहा एलियंस ने बनाया है घर, नाम दिया मिस्ट्री हाउस
Photo Courtesy: twitter

चांद पर सूत कातती बुढ़िया की कहानी लगभग सभी ने सुनी है, पर क्या आपने चांद पर किसी का घर देखा है। हाल ही में चांद की धरती पर एक घर जैसी आकृति दिखाई दी है। इसकी तस्वीरें एक चीनी रोवर ने भेजी हैं। कोई इसे रहस्यमयी झोपड़ी कह रहा है तो कोई इसे एलियंस का घर बता रहा है। रोवर में नजर आई आकृति क्यूब के आकार की है। इसे मिस्ट्री हाउस करार दिया गया है। वहीं यह भी अटकलें लगाई जा रही हैं कि यह क्यूब चंद्रमा का पता लगाने वाले पिछले मिशनों का स्पेसक्राफ्ट का हिस्सा हो सकती है। रोवर ने इसे 80 मीटर की दूरी से देखा है। संभावना जताई जा रही है कि रोवर को इस आकृति के और पास ले जाया जाएगा।

चीन की स्पेस एजेंसी ने इस क्यूब के आकार की चीज की फोटो कुछ दिनों पहले ही जारी की थी। मीडिया रिपोर्ट्स का कहना है कि रोवर ने इसे तब देखा जब वह चंद्रमा से दूर वॉन कर्मन क्रेटर में अपना रास्ता देख रहा था। चीनी रोवर युतु-2 चंद्रमा के लिए चीन का चांग'ई 4 मिशन का हिस्सा है।  

और पढ़ें: सिर्फ़ एक क्लिक से उतरें सिक्कों के बाज़ार में और बनें लखपति, करोड़पति

इस युतु 2 रोवर को चीन के चांग’ई-4 प्रोब के द्वारा चंद्रमा के सूदूर इलाकों तक ले जाया गया। 8 दिसंबर 2018 को लॉन्च होने के बाद इसने 3 जनवरी  2019 को चंद्रमा के सबसे दूर दक्षिणी ध्रुव-ऐटकेन बेसिन में वॉन कर्मन क्रेटर पर पहली बार सॉफ्ट लैंडिंग की थी।

यह रोवर युतु-2  चंद्रमा पर सबसे लंबे समय तक काम करने वाला रोवर बन चुका है। इसमें 6 शक्तिशाली पहिए लगे हैं। इसकी खूबी है कि यह 20 डिग्री की पहाड़ की चढ़ाई कर सकता है, रास्ते की 8 इंच ऊंचाई की बाधाओं को पार कर सकता है। यह 200 मीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलता है।इस रोवर का नाम चीनी लोककथाओं के अनुसार  युतु चांद की देवी चांग’ई के सफेद पालतू खरगोश पर रखा गया है। चीनी कहावतों में कहा गया है कि चांग’ई ने एक जादू को गोली खा ली थी जिसके बाद वह अपने पालतू जानवर को लेकर चांद पर चली गईं थी। तब से सफेद खरगोश के साथ वहीं रह रही है।