Chhattisgarh : किसानों के मुद्दे पर सरकार को घेरने की कवायद, 28 जिले में बीजेपी कर रही उग्र प्रदर्शन

धान खरीदी, बारदाने की कमी समेत किसानों के विभिन्न मुद्दों पर बीजेपी कर रही आंदोलन, 28 जिलों में कलेक्ट्रेट का घेराव और जेल भरो आंदोलन शुरू

Updated: Jan 22, 2021, 04:56 PM IST

Chhattisgarh : किसानों के मुद्दे पर सरकार को घेरने की कवायद, 28 जिले में बीजेपी कर रही उग्र प्रदर्शन
Photo Courtesy: twitter

रायपुर। छत्तीसगढ़ में बीजेपी प्रदेश के 28 जिलों में किसानों के मुद्दों पर प्रदर्शन कर रही है। बीजेपी का आरोप है कि प्रदेश में धान खरीदी में गडबड़ी हुई है, बारदाने की कमी से किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ा। किसानों को उनकी फसल का भुगतान तीन दिन में किया जाए। वहीं धान खरीदी में अव्यवस्था के कारण आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को 25 लाख रुपए की मांग समेत कई मुद्दों पर भूपेश बघेल सरकार को घेराने की कोशिश है।

 पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए निशाना साधा है। उन्होंने अपने ट्वीट संदेश में लिखा है कि ‘किसानों के साथ छल और धोखा करने वाली भूपेश सरकार के विरोध में आज जंगी प्रदर्शन किया जाएगा, बीजेपी किसान भाइयों के साथ है।’उन्होंने लोगों से इस आंदोलन को सफल बनाने की अपील भी की है।

बीजेपी का आरोप है कि धान खरीदी में देरी और बारदाने की कमी का बहाना बनाने और सरकार अपनी जिम्मेदारियों से भाग रही है। बीजेपी ने नकली खाद, बीज के नाम पर किसानों को ठगने का आरोप लगाया है। इन्हीं किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ बीजेपी कलेक्ट्रेट का घेराव और जेल भरो आंदोलन कर रही है।

रायपुर में बीजेपी प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी, पूर्व मुख्यमंत्री डाक्टर रमन सिंह, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय समेत बड़े बीजेपी नेता शामिल होंगे। बीजेपी का आरोप है कि कांग्रेस सरकार छत्तीसगढ़ के किसानों को प्रताड़ित कर रही है। वहीं कांग्रेस ने बीजेपी नेताओं पर पलटवार करते हुए किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस ने बीजेपी से कहा है कि आंदोलन करने की जगह किसानों को धान का हिसाब दें। गौरतलब है कि कांग्रेस ने 575 बीजेपी नेताओं द्वारा धान बेचने के आंकड़े सार्वजनिक किए है। कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी नेताओं को सरकार की न्याय योजना पर भरोसा है, इसलिए अपना धान सरकारी मंडी में बेचा गया है।