भोपाल: CM के कार्यक्रम में बत्ती गुल, माइक हुआ बंद, नौकरशाहों को संबोधित कर रहे थे मुख्यमंत्री

प्रशासन अकादमी में सिविल सर्विस डे पर सीएम शिवराज सिंह चौहान के भाषण के बीच बिजली गुल होने के मामले में ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने जांच के आदेश दे दिए हैं, वहीं विपक्ष इस घटना पर मजे लेना शुरू कर दिया है

Updated: Apr 21, 2022, 08:46 PM IST

भोपाल: CM के कार्यक्रम में बत्ती गुल, माइक हुआ बंद, नौकरशाहों को संबोधित कर रहे थे मुख्यमंत्री

भोपाल। गर्मी शुरू होते ही मध्य प्रदेश  बिजली संकट की ओर बढ़ चला है। प्रदेश में जितनी खपत है उस हिसाब से बिजली नहीं आ रही है। जनता पॉवर कट से परेशान है। गुरुवार को राजधानी भोपाल में आयोजित सीएम शिवराज के कार्यक्रम के दौरान भी अचानक बत्ती गुल हो गई। इस घटना को लेकर विपक्ष ने शिवराज सरकार को आड़े हाथों लिया है।

दरअसल, यह वाकया उस वक्त हुआ जब सीएम मंच से भाषण दे रहे थे। तभी लाइट चली गई। इसके बाद मुख्यमंत्री ने बिजली गुल होने पर उर्जा विभाग के प्रमुख सचिव का नाम लेकर पूछा-संजय दुबे हैं क्या...? सीएम के इस अंदाज कार्यक्रम में मौजूद कर्मचारी और अधिकारी अपनी हंसी नहीं रोक पाए और ठहाका लगाने लगे। 

यह भी पढ़ें: दबंगों ने कब्जाया मकान, मदद के लिए मंत्री की कार के आगे लेटा पीड़ित, मंत्री जी ने देखा तक नहीं

मुख्यमंत्री गुरुवार को सिविल सर्विस डे के मौके पर भोपाल की प्रशासन अकादमी के प्रोग्राम में पहुंचे थे। सीएम ने अभी अपना भाषण शुरू किया ही था कि अचानक बिजली गुल हो गई। बिजली गुल होने के बाद भी सीएम अपना भाषण देते रहे। इस दौरान पूरे पांच मिनट तक बिजली गुल रही। 

CM के कार्यक्रम में बिजली गुल होने पर कांग्रेस ने तंज कसा है। कांग्रेस मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट किया, ' सिविल सेवा दिवस पर प्रशासन अकादमी में मामाजी के संबोधन के दौरान काफी देर तक बिजली हुई गायब। माइक भी बंद। मामाजी ने कोयले संकट का भी जिक्र किया। प्रदेश में बिजली संकट को समझा जा सकता है।'

सोशल मीडिया यूजर्स भी इस घटना को लेकर सीएम शिवराज के मजे ले रहे हैं। ट्विटर यूजर फिरोज सिद्दकी ने लिखा कि, 'MP सीएम के कार्यक्रम में बिजली गुल...! शिवराज जी की बिजली तो जनता ने 2018 में ही गुल कर दी थी, जैसे तैसे महाराज के जनरेटर पर बिजली वापस आई, लेकिन डीजल महंगा होने के कारण जनरेटर भी बंद।'