शिक्षक दिवस पर MP में सड़कों पर उतरेंगे शिक्षक, उज्जैन से करेंगे सत्याग्रह पेंशन यात्रा की शुरुआत

शिक्षकों का सत्याग्रह पेंशन यात्रा कई जिलों से होते हुए 2 अक्टूबर को पहुंचेगी भोपाल, गांधी जयंती के मौके पर सीएम चौहान को ज्ञापन सौंपेंगे आंदोलनकारी शिक्षक

Updated: Sep 05, 2022, 09:13 AM IST

शिक्षक दिवस पर MP में सड़कों पर उतरेंगे शिक्षक, उज्जैन से करेंगे सत्याग्रह पेंशन यात्रा की शुरुआत
Representative Image

भोपाल। आज शिक्षक दिवस के मौके पर देशभर में शिक्षकों को सम्मानित किया जा रहा है। इधर मध्य प्रदेश में लाखों शिक्षक सड़कों पर उतरने को मजबूर हैं। पेंशन सहित अन्य मांगों को लेकर प्रदेशभर के करीब ढाई लाख शिक्षक सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन करेंगे। वहीं उज्जैन से शिक्षकों द्वारा सत्याग्रह पेंशन यात्रा की शुरुआत की जाएगी।

दरअसल, मध्य प्रदेश के शिक्षक पुरानी पेंशन, प्रथम नियुक्ति दिनांक से वरिष्ठता, क्रमोन्नति, ग्रेजुएटी जैसी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। राज्य शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष जगदीश यादव ने बताया कि 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के मौके पर प्रदेश भर के विभिन्न विकास खंडों में संगठन द्वारा ज्ञापन सौंपा जाएगा। सत्याग्रह यात्रा के तहत 24 सितंबर को जिला स्तर पर रैली व धरना प्रदर्शन कर पुरानी पेंशन वरिष्ठता क्रमोन्नति सहित विभिन्न मांगों का ज्ञापन भी सौंपा जाएगा।

यह भी पढ़ें: सड़क दुर्घटना में घायलों के साथ NSUI का प्रदर्शन, भोपाल में राहगीरों को बांटे फर्स्ट एड किट

जगदीश यादव ने आगे बताया कि, 'बाबा महाकाल की नगरी से पूरे प्रदेश में सत्याग्रह पेंशन यात्रा प्रारंभ की जाएगी। यदि हमारी मांगों का निराकरण नहीं होता है तो 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के मौके पर भोपाल की सड़कों पर आंदोलन किया जाएगा।'

यादव ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि, 'यह कैसी विडंबना है कि एक ओर प्रदेश भर के शिक्षकों में कर्मचारियों में सरकार के प्रति आक्रोश है। वहीं शासन झूठी वाहवाही लूट कर नवनियुक्त शिक्षकों को प्रशिक्षण देने के नाम पर करोड़ों रुपए बर्बाद कर भोपाल बुलाया गया। जिसका कोई ओचित्य ही नहीं था। भोपाल में करीब 20 हजार नव नियुक्त शिक्षक व शिक्षिकाएं बड़ी उम्मीद से आए थे। हजारों की संख्या में आई महिला शिक्षिकाएं अपने छोटे-छोटे मासूम बच्चों के साथ की इस उम्मीद के साथ आई थी कि उन्हें प्रदेश के मुखिया शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर उपहार देंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।'