अनिश्चितकाल के लिए लोकसभा हुई स्थगित, स्पीकर ने कहा, सत्र की कार्यवाही अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं रही

विपक्ष संसद में लगातार सरकार से पेगासस जासूसी कांड, किसानों की समस्या, महंगाई जैसे मुद्दों पर चर्चा की मांग करता रहा, लेकिन केंद्र सरकार इन मुद्दों पर चर्चा करने के लिए राज़ी नहीं हुई

Updated: Aug 11, 2021, 12:30 PM IST

अनिश्चितकाल के लिए लोकसभा हुई स्थगित, स्पीकर ने कहा, सत्र की कार्यवाही अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं रही

नई दिल्ली। मॉनसून सत्र में लगातार हंगामे के बाद संसद के निचले सदन लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई है। लोकसभा की कार्यवाही को अनश्चितकाल के लिए स्थगित करते हुए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सदन की कार्यवाही अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं रही। 

ओम बिरला ने कहा कि इस सत्र की उत्पादकता महज़ 22 फीसदी ही रही। ओम बिरला ने इसके लिए जिम्मेदार लागतार पैदा हुए व्यवधानों को ठहराया। संसद के मॉनसून सत्र के चौथे हफ्ते का आज तीसरा दिन था। और आज ही लोकसभा की कार्यवाही को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया। 

इस सत्र में विपक्ष लगातार संसद में पेगासस जासूसी कांड, किसान आंदोलन, महंगाई जैसे अहम मुद्दों पर चर्चा करने के लिए सरकार पर दबाव बनाता रहा। लेकिन सरकार इन मुद्दों पर चर्चा के लिए राज़ी नहीं हुई। सरकार के आनाकानी भरे रवैए के कारण सदन की कार्यवाही के दौरान विपक्ष ने लगातार सरकार पर आक्रमक रुख अपनाए रखा। जिसके बाद आखिरकार मॉनसून सत्र की अवधि पूर्ण होने से पहले ही लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई।

वहीं राज्यसभा की भी कार्यवाही भी दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है। सदन की कार्यवाही स्थगित करते हुए सभापति वंकैया नायडू ने मंगलवार की घटना के बारे में बोलते हुए कहा कि इससे सदन की पवित्रता चली गई। मंगलवार को सरकार द्वारा जनसरोकार के मुद्दों पर चर्चा न करने के विरोध में विपक्षी दल के संसद मेज पर बैठ गए, वहीं सदन के कुछ सदस्य मेज़ पर चढ़ गए। जबकि आसन की तरफ एक सांसद ने रूल बुक भी फेंक दिया। सभापति ने उन सांसदों पर कार्रवाई करने की बात कही है।