Maharashtra political crisis live updates: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जल्द करेंगे एमवीए की मीटिंग, बागियों को सूरत से एयरलिफ्ट करने की तैयारी

शिवसेना ने शिंदे को पार्टी के विभिन्न पदों से हटा दिया है, महाविकास अघाड़ी सरकार में मंत्री एकनाथ शिंदे के साथ लगभग 2 दर्जन विधायक गुजरात के सूरत में हैं.. एनसीपी नेता शरद पवार ने इसे शिव सेना का अंदरूनी संकट बताया है

Updated: Jun 21, 2022 07:33 PM IST

मुंबई। राजस्थान में असफल प्रयास के बाद अब महाराष्ट्र में सरकार गिराने की कोशिशें तेज हो गई हैं.. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उद्धव सरकार के मंत्री एकनाथ शिंदे राज्य के करीब दो दर्जन विधायकों को लेकर गुजरात के सूरत में हैं.. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने नेताओं को भेजकर और खुद भी फोन करके एकनाथ शिंदे से बात की है, लेकिन शिंदे हिंदुत्वव के मुद्दे पर अडिग माने जा रहे हैं..  

सभी 44 विधायक हमारे संपर्क में है: महाराष्ट्र कांग्रेस

लगभग दो दर्जन विधायकों की ताकत के साथ शिवसेना नेता और एमवीए सरकार के मंत्री एकनाथ शिंदे सरकार के खिलाफ बगावती रुख अपनाए हुए हैं। इस बीच कांग्रेस ने साफ किया है कि उनके सभी 44 विधायक संपर्क में हैं। राज्य में कांग्रेस की तरफ से रेवेन्यू मिनिस्टर और पार्टी के नेता बालासाहेब थोराट ने दावा किया है कि उनके विधायक एकजुट हैं और उनके संपर्क में हैं।

खबरें थी कि महाराष्ट्र में हुए विधान परिषद चुनाव के बाद से कांग्रेस विधायकों ने भी साथ छोड़ दिया है। पार्टी ने इस अफवाह का भी खंडन किया है कि थोराट ने सीएलपी लीडर का पद छोड़ दिया है। कांग्रेस ने इसे षडयंत्रकारी करार देते हुए आरोप लगाया है कि बगावती शक्तियां इस तरह के अफवाह फैला रही हैं। वे पूरे घटनाक्रम पर नजर रख रहे हैं। 

शिंदे के साथ शिवसेना नेताओं की बैठक समाप्त

शिवसेना से बगावत करने वाले गुट के नेता एकनाथ शिंदे के साथ उद्धव ठाकरे की ओर से भेजे गए मिलिंद नार्वेकर और रविद्र फाटक की बैठक समाप्त हो गई है। इन दोनों नेताओं को शिंदे की ओर से इजाजत मिलने के बाद होटल के अंदर जाने दिया गया। उन्होंने शिंदे के साथ लगभग दो घंटे मीटिंग की। बैठक के बाद वे मेरिडियन होटल से निकल गए लेकिन इस दौरान उन्‍होंने मीडिया से कोई बात नहीं की।

सूत्रों के मुताबिक मीटिंग में एकनाथ शिंदे ने मिलिंद नार्वेकर के सामने अपनी मांग रखी और कहा कि या शिवसेना को बचाओ या महाविकास आघाड़ी को बचाओ। कांग्रेस और एनसीपी से गठबंधन से शिवसेना कमज़ोर हो रही है। शिवसेना को हिंदुत्व के नाम पर बीजेपी से गठबंधन करना होगा।

MLAs को एयरलिफ्ट करने की तैयारी

सूरत में मौजूद विधायकों को लेकर दो संभावनाएं जताई जा रही हैं। एक संभावना ये है कि इन्हें एयरलिफ्ट करके दिल्ली लाया जा सकता है और यहां बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह के पास ले जाया जा सकता है। इससे पहले सूत्रों ने एक और संभावना जताई थी कि इन्हें अहमदाबाद के किसी रिसॉर्ट में ले जाया जा सकता है और अमित शाह, जेपी नड्डा अहमदाबाद ही आ रहे हैं। सूरत से तीन चार्टर प्लेन बुक किए जाने की खबर है।

यहां ऑपरेशन लोटस संभव नहीं: संजय राउत

संजय राउत ने कहा है कि, 'जो मध्य प्रदेश और अन्य राज्यों में हुआ था वही यहां भी हो रहा है। उसी को ऑपरेशन लोटस के नाम से कोई महाराष्ट्र में भी अंजाम देना चाहता है। लेकिन बीजेपी सरकार गिराकर तो दिखाए। महाराष्ट्र में ऑपरेशन लोटस संभव नहीं है।'

अहमदाबाद जाएंगे अमित शाह

अहमदाबाद जाएंगे अमित शाह

महाराष्ट्र में सियासी उठापटक के बीच खबर आई है कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह आज शाम अहमदाबाद जाएंगे। शाह के साथ बीजेपी चीफ जेपी नड्डा और महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस भी अहमदाबाद जाएंगे। बताया जा रहा है कि यहां शिवसेना के बागी विधायकों से शाह की मुलाकात हो सकती है। इसके बाद आगे की रणनीति तैयार की जाएगी।

अजय चौधरी नए चीफ व्हिप

शिवसेना ने एकनाथ शिंदे को चीफ व्हिप पद से भी हटा दिया है। उनकी जगह पर अजय चौधरी नए चीफ व्हिप बनाए गए हैं। शिंदे अब पार्टी के विधायक दल के नेता नहीं हैं। 

एकनाथ शिंदे शिवसेना से बाहर

बगावत के बाद शिवसेना ने कद्दावर नेता एकनाथ शिंदे को पार्टी के सभी पदों से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इस कार्रवाई के बाद शिंदे ने कहा कि हम बालासाहब के कट्टर शिवसैनिक हैं। उन्होंने हमें हिंदुत्व की शिक्षा दी है। सत्ता के लिए हमने कभी शिकायत नहीं की है और न कभी करेंगे।

सरकार चलती रहेगी: शरद पवार

तमाम हलचलों के बीच एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार भी मीडिया के सामने आए। उन्होंने करीब 11 मिनट प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उनसे पूछा गया कि शिंदे क्या खुद मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं तो बोले कि कभी एकनाथ शिंदे ने हमें यह बताया ही नहीं कि वे खुद मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। पवार ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गिराने की साजिश पहले भी हुई है पर चिंता की बात नहीं... उद्धव सरकार चलती रहेगी। उन्होंने यह भी कहा कि यह सरकार का मसला नहीं है, यह शिवसेना का अंदरूनी मसला है।

आपात बैठक कर रहे हैं सीएम ठाकरे

रिपोर्ट्स के मुताबिक हालात को संभालने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आपात बैठक कर रहे हैं। इस बैठक में पार्टी के कद्दावर नेता संजय राउत समेत कई अन्य नेता मौजूद हैं। सीएम ठाकरे सभी पहलुओं पर राय विचार कर रहे हैं और लगातार गठबंधन के घटक दलों कांग्रेस और एनसीपी के संपर्क में हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक शिवसेना का एक प्रतिनिधिमंडल एकनाथ शिंदे से मिलने सूरत जाने वाला है।

कमलनाथ जाएंगे मुंबई

कमलनाथ जाएंगे मुंबई

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ डैमेज कंट्रोल करने मुंबई जाएंगे। बताया जा रहा है कि कांग्रेस हाईकमान ने कमलनाथ को कॉल कर मुंबई जाने का निर्देश दिया है। वे वहां महाराष्ट्र कांग्रेस नेताओं से मुलाकात करेंगे। गठबंधन को जारी रखने के लिए उन्हें मोर्चा संभालने के लिए कहा गया है। कांग्रेस ने उन्हें AICC कि ओर से उन्हें महाराष्ट्र का ऑब्जर्वर बनाया है। बता दें कि कांग्रेस और शिवसेना को करीब लाने में कमलनाथ की अहम भूमिका रही है।

शिंदे रख सकते हैं अपना प्रस्ताव

एक अन्य मीडिया रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि एकनाथ शिंदे समर्थक 3 विधायक जय राठोड, संजय बांगर और दादा भुसे कुल मातोश्री में सीएम ठाकरे से बातचीत करने पहुंचेंगे। दावा किया गया है कि वे शिवसेना के समक्ष एनसीपी और कांग्रेस से गठबंधन तोड़ बीजेपी से मिलकर सरकार बनाने की मांग रख सकते हैं। यह भी कहा गया है कि शिंदे थोड़ी देर में प्रेस कांफ्रेंस करेंगे।

दिल्ली पहुंचे फडणवीस

दिल्ली पहुंचे फडणवीस

महाराष्ट्र में सियासी उठापटक के बीच नेता प्रतिपक्ष व पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस दिल्ली पहुंच गए हैं। बताया जा रहा है कि वे गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करेंगे। बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने कहा है कि बगावत के पीछे सबसे बड़ी वजह संजय राउत हैं। उनके बयान से पार्टी के कई नेता असहज हैं। हम सरकार बनाने के बारे में अभी नहीं सोच रहे हैं। वहीं केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने कहा है कि एकनाथ शिंदे ने सही समय पर सही फैसला लिया है।

 

बहुमत के लिए 144 विधायक चाहिए

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना के एक दर्जन विधायक बागी हुए, तो सरकार गिर सकती है। दरअसल, राज्य में उद्धव सरकार के पास 153 विधायकों का समर्थन है। सरकार बनाने के लिए 144 विधायक चाहिए, क्योंकि 1 सीट अभी खाली है। हालांकि, शिवसेना डैमेज कंट्रोल में जुट गई है। एनसीपी महाराष्ट्र के अध्यक्ष जयंत पाटिल ने उद्धव ठाकरे से मातोश्री में मुलाकात की है।

विधायकों को कैद किया गया: शिवसेना

विधायकों को कैद किया गया: शिवसेना

शिवसेना के राज्य सभा सांसद संजय राउत ने मामले पर कहा है, 'मैंने सुना है कि हमारे विधायक गुजरात के सूरत में हैं और उन्हें वहां से जाने नहीं दिया जा रहा है। उन्हें कैद कर लिया गया है। वे सभी विधायक शिवसेना को समर्पित हैं। मुझे विश्वास है कि हमारे सभी विधायक समय आने पर वापस लौट आएंगे और सबकुछ पहले की तरह ठीक हो जाएगा। कुछ विधायकों को गुमराह किया गया है, लेकिन सभी वापस लौटना चाहते हैं। महाराष्ट्र में कोई भूकंप नहीं आने वाला।'

सूरत के ली मेरिडियन होटल में रुके हैं सभी विधायक

सूरत के ली मेरिडियन होटल में रुके हैं सभी विधायक

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महाराष्ट्र के सभी विधायक सूरत के ली मेरिडियन होटल में रुके हैं। विधायकों को सूरत लाने में बीजेपी के दो बड़े दिग्गज नेताओं के नाम सामने आ रहे हैं। विधायकों के साथ 3 मंत्री भी बाड़ेबंदी में शामिल हैं। शहरी विकास और लोक निर्माण मंत्री एकनाथ शिंदे बीजेपी नेताओं से बातचीत कर रहे हैं।