इंदौर और नीमच में मुर्गियों में मिले बर्ड फ्लू के लक्षण, एक किमी के दायरे में चिकन मार्केट बंद

हरियाणा और राजस्थान के रास्ते आती हैं मुर्गियां, बर्ड फ्लू की पुष्टि होने पर तमाम पोल्ट्रियां नष्ट की जाएंगी

Updated: Jan 08, 2021, 02:52 PM IST

इंदौर और नीमच में मुर्गियों में मिले बर्ड फ्लू के लक्षण, एक किमी के दायरे में चिकन मार्केट बंद
Photo Courtesy: Gaon Connection

भोपाल। प्रदेश के इंदौर और नीमच के पोल्ट्री फॉर्म में बर्ड फ्लू के लक्षण मिलने शुरू हो गए हैं। इंदौर के डेली कॉलेज के पास मुसाखेड़ी और नीमच के मुर्गी बाज़ार से लिए गए सैंपल में बर्ड फ्लू के लक्षण मिले हैं। बर्ड फ्लू के लक्षण मिलने के बाद दोनों जगह पर एक किमी के दायरे में आने वाले चिकन मार्केट को सात दिन के लिए बंद करने का आदेश जारी कर दिया गया है। 

दरअसल प्रारंभिक जांच में चिकन के बजाय चिकन को काटने के लिए इस्तेमाल में लाए जाने वाले चाकुओं में बर्ड फ्लू के वायरस पाए हैं। ऐसे में पशुपालन विभाग ने दोनों जगह के कलेक्टरों को आसपास के जलाशय और आसपास के सैंपल भोपाल भेजने के आदेश दिए हैं। विभाग ने कहा है कि यदि विस्तृत जांच में इनमें बर्ड फ्लू की पुष्टि होती है तो एक किमी के दायरे के भीतर चूज़ों समेत पोल्ट्री फार्म को नष्ट किया जाएगा।

इंदौर और नीमच में राजस्थान और हरियाणा के रास्ते मुर्गियां आती हैं। राज्य सरकार ने सीमावर्ती ज़िलों के सभी कलेक्टरों से कहा है कि अब तक जिन राज्यों के पोल्ट्री में बर्ड फ्लू जाने की जानकारी मिली है, उन सभी राज्यों से मुर्गियों के कारोबार पर फिलहाल रोक लगाई जाए। इससे पहले केरल व उसके आसपास के दक्षिण राज्यों से मुर्गियों के व्यापार पर फिलहाल के लिए रोक लगाई जा चुकी है। 

प्रदेश के अब तक 19 ज़िलों में पक्षियों की अचानक मौत हुई है। पक्षियों की मौत का आंकड़ा 700 पार कर गया है। अकेले मंदसौर में 300 कौवों की मौत हो चुकी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इनमें से चार में बर्ड फ्लू का वायरस भी मिला है। अशोकनगर में गुरुवार को 30 कौवों की मृत्यु हुई है। विदिशा, सिरोंज, बासौदा और आसपास के क्षेत्र में पक्षियों की मौत के मामले सामने आए हैं। इन सभी पक्षियों के सैंपल को जांच के लिए भोपाल भेजा गया है।