US Elections LIVE Updates: जो बाइडेन चुने गए अमेरिका के राष्ट्रपति, जनादेश के खिलाफ कोर्ट जाएंगे ट्रंप

US Presidential Elections LIVE Updates: डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति होंगे। चार दिनों से जारी इंतज़ार आखिरकार तब खत्म हुआ, जब 20 इलेक्टोरल वोट्स वाले पेनसिल्वेनिया में बाइडेन की जीत का एलान हो गया। इस जीत ने दो दिन से 264 वोट्स पर अटके बाइडेन को सीधे 284 पर पहुंचा दिया। और फिर नेवादा के 6 वोटों के जुड़ते ही उनका आंकड़ा 290 पर जा पहुंचा। अमेरिका का अगला राष्ट्रपति बनने के लिए उन्हें सिर्फ 270 वोट ही चाहिए थे। इस बीच, रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप का खाता 214 पर ही अटका रह गया। बहरहाल, बाइडेन की इस ज़बरदस्त जीत के साथ ही 4 दिन से चली आ रही उहापोह की स्थिति खत्म हुई। हालांकि डोनाल्ड ट्रंप बाइडेन की जीत के एलान के बावजूद अब तक हार मानने को तैयार नहीं हैं। वे अब भी यही कह रहे हैं कि सोमवार से उनकी टीम कानूनी लड़ाई में जुट जाएगी और बाइडेन के चुनाव को गलत साबित करके रहेगी। लेकिन ट्रंप कुछ भी कहें, सच यही है कि अमेरिका की जनता ने बाइडेन को अपना नया राष्ट्रपति चुन लिया है।

Updated: Nov 08, 2020 10:13 AM IST

Live Updates

जो बाइडेन ने जीता अमेरिकी राष्ट्रपति का चुनाव

अमेरिकी राष्ट्रपति का चुनाव जो बाइडेन ने जीत लिया है। उनके पक्ष में अब तक कुल 290 इलेक्टोरल वोट आ चुके हैं। जबकि जीत के लिए 270 वोट की जरूरत थी। ट्रंप का खाता अब तक 214 पर ही अटका है।

राष्ट्रपति चुने जाने के बाद जो बाइडेन का अमेरिकी जनता के नाम पहला संदेश

अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपनी शानदार जीत के बाद अमेरिकी जनता को धन्यवाद दिया है। राष्ट्रपति चुने जाने के बाद अमेरिकी जनता के नाम अपने पहले संदेश में बाइडेन ने कहा, "हमारे इस महान देश का नेतृत्व करने के लिए आपने मुझे चुना यह मेरे लिए बेहद सम्मान की बात है। हमें आगे चलकर जो काम करने हैं वे कठिन हैं, लेकिन मैं आपसे वादा करता हूं कि मैं सभी अमेरिकी नागरिकों का राष्ट्रपति बनूंगा - भले ही आपने मुझे वोट दिया हो या न दिया हो। मैं उस भरोसे पर खरा उतरूंगा जो आपने में मुझमें जाहिर किया है।"

 

 

अमेरिका की पहली महिला उप-राष्ट्रपति चुनी गईं कमला हैरिस ने जीत के बाद एक लाइन का ट्वीट किया। इसके साथ ही उन्होंने जो बाइडेन के साथ फोन पर की गई बातचीत का एक वीडियो भी शेयर किया है। जिसमें जीत के समाचार से गदगद कमला हैरिस सिर्फ एक ही लाइन बोल रही हैं, जो, हमने ये कर दिखाया, अब आप अमेरिका के अगले राष्ट्रपति होंगे। 

 

 

थोड़ी ही देर बाद कमला ने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा, "इस चुनाव का संबंध सिर्फ जो बाइडेन या मुझसे नहीं है। ये चुनाव अमेरिका की आत्मा और उसके लिए लड़ने के हमारे जज़्बे से जुड़ा है। हमें अभी बहुत काम करना है। आइए इसे अभी से शुरू कर दें।"

ट्रंप की बाइडेन से बेहद दिलचस्प अपील

मतगणना में लगातार पिछड़ते जा रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अब अजीबो-गरीब अपील करने पर उतर आए हैं। ट्रंप ने चुनावी रेस में आगे निकल चुके प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन से एक बेहद हास्यास्पद अपील कर डाली। ट्रंप ने बाइडेन से गुज़ारिश की है कि उन्हें राष्ट्रपति के पद पर गलत ढंग से दावा नहीं करना चाहिए। ट्रंप ने ट्विटर के जरिये यह अपील करते हुए लिखा है, "जो बाइडेन को गलत ढंग से राष्ट्रपति के ओहदे पर दावा नहीं करना चाहिए। यह दावा तो मैं भी कर सकता हूं। कानूनी कार्यवाही अभी शुरू ही हो रही है।"

 

 

ट्रंप की ये अपील इसलिए भी हैरान करने वाली है, क्योंकि बाइडेन ने राष्ट्रपति पद पर दावेदारी की बात तो दूर अब तक चुनाव जीतने का दावा भी नहीं किया। ये दावा तो खुद ट्रंप ही बार-बार कर रहे हैं, वो भी मतगणना में पिछड़ने के बावजूद और चुनाव के नतीजों का इंतज़ार किए बगैर। जबकि बाइडेन ने तो सिर्फ यही कहा है कि उन्हें भरोसा है कि वोटों की गिनती पूरी होने पर उनकी जीत होगी।

हार सामने देखकर ट्रंप और भी तरह-तरह की बातें कर रहे हैं। अपने एक ट्वीट में उन्होंने ये भी लिख दिया कि मतगणना के शुरुआती दौर में उन्हें तमाम राज्यों में अच्छी खासी बढ़त मिली हुई थी, लेकिन वक्त गुज़रने के साथ-साथ किसी चमत्कार की तरह गायब हो गई। अब शायद कानूनी कार्यवाही के आगे बढ़ने पर वो बढ़त वापस लौट आएगी।

 

 

ट्रंप की इन प्रतिक्रियाओं से लगता है वे हार का सामना करने को तैयार नहीं हैं और जो जीत वे मतदाताओं के वोट  से हासिल नहीं कर पाए, उसे कानूनी कार्रवाई के दम पर हासिल करना चाहते हैं। लेकिन सवाल ये है कि क्या एक लोकतंत्र में चुनाव हारने के बाद सिर्फ अदालत के दम पर जीत हासिल की जा सकती है? और अगर ऐसी जीत किसी तरह मिल भी गई तो क्या वो जनता के जनादेश का अपमान नहीं होगा? 

जो बाइडेन धमाकेदार जीत के क़रीब

डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन ने पहले नेवादा, फिर जॉर्जिया और अब पेनसिल्वेनिया में भी डोनाल्ड ट्रंप को पीछे छोड़ दिया है। अब जिन चार राज्यों की गिनती पर राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों का सारा दारोमदार है, उनमें से सिर्फ नॉर्थ कैरोलाइना में  ही ट्रंप आगे रह गए हैं। इसका मतलब यह हुआ कि अब व्हाइट हाउस में वापसी की उनकी उम्मीद न के बराबर रह गई है। राष्ट्रपति बने रहने के लिए ट्रंप का चारों राज्यों में जीतना ज़रूरी था और अब तीन में वो पिछड़ चुके हैं।

ताज़ा गणित कुछ ऐसा है

ज़ाहिर है ट्रंप के पिछड़ने से उनके प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन जीत के और करीब पहुंच गए हैं। बाइडेन की 264 इलेक्टोरल वोट्स पर दावेदारी तो पहले ही पक्की हो चुकी है। अब पेनसिल्वेनिया के 20 वोट, जॉर्जिया के 16 वोट और नेवादा के 6 वोट और जुड़ते नज़र आ रहे हैं। इनमें से एक भी राज्य की जीत उन्हें व्हाइट हाउस पहुंचाने के लिए काफी है। और अगर जिन तीन राज्यों में वो आगे हो गए हैं, उन सबमें जीत गए तो 306 इलेक्टोरल वोट्स के साथ वो धमाकेदार जीत के नायक बन जाएंगे।

जो बाइडेन ने रुझानों में लगाई बड़ी छलांग, जॉर्जिया में ट्रंप से आगे निकले

वैसा ही हुआ जैसा हमने आपको थोड़ी देर पहले बताया था। अमेरिका के जॉर्जिया प्रांत में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को बड़ा झटका लगा है। डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन ने 16 इलेक्टोरल वोट्स वाले इस राज्य में ट्रंप को पीछे छोड़ दिया है। इसके साथ ही रेस में वापसी की ट्रंप की रही सही उम्मीदें भी डूबती नज़र आ रही हैं।नेवादा में लंबे अरसे से लगातार आगे चल रहे हैं।

बाइडेन के खाते में 264 वोट पहले ही पक्के हो चुके हैं, उनमें अगर नेवादा के 6 और जॉर्जिया के 16 वोट जुड़ गए तो आंकड़ा 280 का हो जाएगा, जबकि राष्ट्रपति बनने के लिए बाइडेन को सिर्फ 270 वोट ही चाहिए।

क्या है उन 4 राज्यों का ताज़ा हाल, जहां अटकी है नतीजों की गाड़ी

अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में नतीजों की गाड़ी जिन चार राज्यों में अटकी है, उन पर सारी दुनिया की निगाहें अटकी हैं। आइए एक नज़र डाल लेते हैं इन चारों राज्यों की ताज़ा स्थिति पर।

1. नेवादा: नेवादा में इलेक्टोरल कॉलेज के कुल 6 वोट हैं। यानी ठीक उतने ही जितने 264 सीटें जीत चुके जो बाइडेन को राष्ट्रपति बनने के लिए चाहिए। यहां बाइडेन आगे भी चल रहे हैं। डोनाल्ड ट्रंप को यहां 48.5 फीसदी वोट मिले हैं, तो बाइडेन को 49.4 फीसदी। लेकिन अब तक यहां 84 फीसदी वोटों की गिनती ही हो पाई है। इसलिए नतीजों का एलान नहीं किया जा सकता। हालांकि गिनती के आगे बढ़ने के साथ ही साथ बाइडेन की स्थिति और मज़बूत होने के आसार हैं। यही वजह है कि बाइडेन की जीत काफी हद तक पक्की मानी जा रही है।

2. पेनसिल्वेनिया: चारों राज्यों में सबसे ज्यादा 20 सीटें यहीं पर हैं। यहां पर मतगणना के शुरूआती दौर में ट्रंप काफी आगे चल रहे थे। लेकिन पोस्टल बैलेट की गिनती जैसे जैसे आगे बढ़ी बाइडेन ने अंतर कम कर दिया। अब तो हालत यह है कि दोनों के बीच सिर्फ 0.3 फीसदी वोटों का अंतर बाकी बचा है। ट्रंप को यहां 49.6 फीसदी वोट मिले हैं तो बाइडेन को 49.3 फीसदी। यहां अब तक 97 फीसदी वोटों की गिनती हो चुकी है, लेकिन आबादी के लिहाज से बड़ा राज्य होने के कारण 3 फीसदी वोट भी संख्या में काफी हैं और जिस हिसाब से बाइडेन अंतर को कम करते जा रहे हैं, पेनसिल्वेनिया में उलट-फेर से इनकार नहीं किया जा सकता। 

3. नॉर्थ कैरोलाइना: यहां 15 इलेक्टोरल वोट हैं। फिलहाल यहां ट्रंप आगे चल रहे हैं। जो बाइडेन के 48.7 फीसदी वोटों के मुकाबले ट्रंप को 50.10 फीसदी वोट मिले हैं। लेकिन ट्रंप के लिए चिंता की बात यह है कि यहां अभी 94 फीसदी वोटों की गिनती ही हुई है और पोस्टल बैलेट में बाइडेन की बेहतर स्थिति के मद्देनज़र ट्रंप निश्चिंत नहीं हो सकते। 

4. जॉर्जिया: इलेक्टोरल कॉलेज में 16 महत्वपूर्ण वोट रखने वाले जॉर्जिया की ताज़ा स्थिति बेहद दिलचस्प है। वोटों की गिनती के शुरुआती दौर में ट्रंप यहां आगे चल रहे थे। लेकिन मतगणना आगे बढ़ने के साथ ही साथ बाइडेन ने अपनी स्थिति मज़बूत कर ली। और अब तो वो ट्रंप के लगभग बराबर पहुंच गए हैं। वोट प्रतिशत के तौर पर देखें तो दोनों ही उम्मीदवारों को यहां एक बराबर 49.4 फीसदी वोट मिले हैं। अंतिम सूचना मिलने तक ट्रंप महज 665 वोटों से आगे चल रहे थे। पोस्टल बैलेट की मतगणना में बाइडेन के बेहतर प्रदर्शन के रुझान को देखते हुए यहां स्थिति किसी भी पल बदल सकती है।

खास बात ये है कि इन चारों में से एक भी राज्य में जीत बाइडेन को अमेरिका का अगला राष्ट्रपति बना देगी। जबकि ट्रंप को अपनी कुर्सी बचाने के लिए चारों ही राज्यों में जीत का परचम लहराना पड़ेगा। मौजूदा हालात में ऐसा कर पाना ट्रंप के लिए आसान नहीं लगता। यानी हर लिहाज़ से बाइडेन अभी बेहतर स्थिति में हैं और इसीलिए ट्रंप चुनावी प्रक्रिया पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

 

चार राज्यों पर टिकी हैं निगाहें, क्या है आगे का गणित

अमेरिका के अगले राष्ट्रपति के चुनाव में अंतिम परिमाण के लिए सारी दुनिया की निगाहें चार राज्यों में जारी मतगणना पर टिकी हैं। ये चार राज्य हैं 1. नेवादा, 2.पेनसिल्वेनिया, 3.नॉर्थ कैरोलाइना और 4.जॉर्जिया। इनमें से नेवादा में जो बाइडेन आगे चल रहे हैं, जबकि बाकी तीनों राज्यों में ट्रंप को बढ़त मिली हुई है। हालांकि बाइडेन अगर सिर्फ नेवादा के 6 इलेक्टोरल वोट्स ही जीत पाए, तो भी वे अमेरिका के अगले राष्ट्रपति बन सकते हैं, क्योंकि उन्हें 270 इलेक्टोरल वोट्स के जादुई आंकड़े तक पहुंचने के लिए अब सिर्फ इतने ही वोट चाहिए। जबकि ट्रंप को चुनाव जीतने के लिए चारों राज्यों में विजय की ज़रूरत होगी। 

ट्रंप के लिए बुरी खबर यह भी है कि वोटों की गिनती जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, ट्रंप की बढ़त कम हो रही है। मिसाल के तौर पर जिस पेनसिल्वेनिया में वे शुरुआत में काफी आगे चल रहे थे, वहां अब बाइडेन उनके बिलकुल करीब आ चुके हैं। यही वजह है कि ट्रंप मतगणना रुकवाने के लिए इतने बेताब हैं।

बाइडेन की टीम ने कहा, ट्रंप ने मतगणना रुकवाने की कोशिश की तो करेंगे विरोध

डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन की लीगल टीम ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट जाकर मतगणना रुकवाने की डोनाल्ड ट्रंप की किसी भी कोशिश का मुकाबला करने के लिए तैयार हैं। ट्रंप साफ तौर पर कह चुके हैं कि वे चुनाव जीत चुके हैं और अब मतगणना बंद हो जानी चाहिए। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट जाने की बात भी कही है। लेकिन अब तक उनकी तरफ से कोर्ट में ऐसी कोई याचिका दिए जाने की बात सामने नहीं आई है। जो बाइडेन कह चुके हैं कि चुनाव में कौन जीतेगा ये मुझे या ट्रंप को नहीं, अमेरिका की जनता को तय करना है।

 

ट्रंप का जीत का दावा, मतगणना पर उठाए सवाल

ट्रंप का जीत का दावा, मतगणना पर उठाए सवाल

Photo Courtesy: Twitter

अमेरिका में नए राष्ट्रपति के चुनाव में ऐसा विवाद इससे पहले शायद ही कभी हुआ होगा। मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप वोटों की गिनती पूरी होने से पहले ही बार-बार खुद को विजेता घोषित करने पर अड़े हुए हैं। अब से थोड़ी देर पहले ट्रंप ने मीडिया के सामने आकर मतगणना की प्रक्रिया पर भी तरह-तरह के सवाल उठाए। डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन अमेरिका के अगले राष्ट्रपति बनने के ज्यादा करीब हैं। लेकिन ट्रंप ने एक बार फिर से दावा किया कि वैध वोटों की गिनती में वे चुनाव जीत चुके हैं और अवैध वोटों को गिनती करवाकर बाइडेन जनादेश को लूटने की कोशिश कर रहे हैं। हैरानी की बात है कि खुद सत्ता में रहते हुए भी वे विपक्षी उम्मीदवार पर चुनाव लूटने के आरोप लगा रहे हैं।

 

 

 

बाइडेन ने कहा, हमारी जीत अमेरिकी जनता की जीत होगी

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में जीत के बेहद करीब पहुंचने के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कहा कि उन्हें जीत हासिल करने का पूरा भरोसा है, लेकिन ये सिर्फ उनकी जीत नहीं होगी। ये अमेरिकी जनता की जीत होगी, अमेरिकी राष्ट्र की जीत होगी। उन्होंने कहा कि हमें चुनाव की प्रक्रिया और एक-दूसरे पर भरोसा बनाए रखना चाहिए। हम सब मिलकर जीत हासिल करेंगे।

 

इससे पहले जो बाइडेन ने मिशिगन और विस्कॉन्सिन में जीत हासिल करके राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को काफी पीछे छोड़ दिया। हालांकि ट्रंप ने मिशिगन और पेनसिल्वेनिया में मतगणना रोकने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। ट्रंप के वकीलों ने यह भी कहा है कि वे विस्कॉन्सिन में वोटों की गिनती दोबारा किए जाने का अनुरोध करेंगे, क्योंकि वहां बड़े पैमाने पर धांधली हुई है।

ट्रंप ने बाइडेन पर लगाया चुनाव में फ्रॉड का इल्ज़ाम, सुप्रीम कोर्ट जाने का किया एलान

ट्रंप ने बाइडेन पर लगाया चुनाव में फ्रॉड का इल्ज़ाम, सुप्रीम कोर्ट जाने का किया एलान

मौजूदा राष्ट्रपति और राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने नतीजे आने से पहले ही उन पर विवाद शुरू कर दिया है। ट्रंप ने डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन और उनकी टीम पर चुनाव में फ्रॉड करने का आरोप लगाया है। अब से थोड़ी देर पहले लोगों और मीडिया को संबोधित करते हुए ट्रंप ने आरोप लगाया कि बाइडेन को पता था कि वे चुनाव नहीं जीत सकते, इसलिए उन्होंने धांधली की है। ट्रंप ने कहा, "हम इस चुनाव को जीतने जा रहे हैं। सच कहूं तो हम जीत चुके हैं। लेकिन हम देश की भलाई के लिए नतीजों की विश्वसनीयता सुनिश्चित करना चाहते हैं। इसलिए हम अमेरिका की सर्वोच्च अदालत में जाएंगे। यह अमेरिकी जनता के साथ धोखाधड़ी है, यह शर्मनाक है।" ट्रंप ने मतगणना को फौरन रोकने की मांग भी की है।

अपने संबोधन से थोड़ी देर पहले ट्रंप ने ट्विटर के जरिए भी विरोधियों पर चुनावी नतीजों को 'चुराने' की कोशिश करने का आरोप लगाया था।

 

 

 

भारतीय मूल के सांसद राजा कृष्णमूर्ति लगातार तीसरी बार जीते

भारतीय मूल के सांसद राजा कृष्णमूर्ति लगातार तीसरी बार जीते

Photo Courtesy: Indian Express

भारतीय मूल के सांसद राजा कृष्णमूर्ति अमेरिका के हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स यानी प्रतिनिधि सभा का चुनाव लगातार तीसरी बार जीत गए हैं। डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार राजा कृष्णमूर्ति 47 साल के हैं। उनके माता-पिता मूल रूप से तमिलनाडु के रहने वाले हैं, लेकिन दिल्ली में रहते रहे हैं। राजा का जन्म भी दिल्ली में ही हुआ था। पीटीआई के मुताबिक राजा को अब हुई वोटों की गिनती में 71 फीसदी वोट मिले हैं।

 

एरिज़ोना में बिडेन की जीत के आसार

एरिज़ोना में जो बिडेन जीत रहे हैं। ये कहना है अमेरिकी समाचार चैनल फॉक्स न्यूज़ का। अब तक के रुझानों में ये बिडेन के खाते में जाने वाला ऐसा पहला राज्य है, जहां 2016 में ट्रंप को जीत मिली थी। एरिज़ोना में कुल 11 इलेक्टोरल वोट्स हैं।

फ्लोरिडा में ट्रंप की जीत

फ्लोरिडा में ट्रंप की जीत

Photo Courtesy: ABP News

फ्लोरिडा में डोनाल्ड ट्रंप ने जीत दर्ज की है। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव का इतिहास रहा है कि कोई भी रिपब्लिकन उम्मीदवार फ्लोरिडा को जीते बिना राष्ट्रपति नहीं बना है। अगर इस इतिहास को देखें तो फ्लोरिडा में जीतने के बाद ट्रंप के दोबारा राष्ट्रपति बने रहने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। फ्लोरिडा में 29 इलेक्टोरल वोट हैं।

बाइडेन ने कहा वोटों की गिनती रुकवाने की कोशिश का विरोध करेंगे

बाइडेन ने कहा वोटों की गिनती रुकवाने की कोशिश का विरोध करेंगे

Photo Courtesy: Twitter

डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडेन ने कहा है कि डोनाल्ड ट्रंप कोर्ट के जरिए अमेरिकी जनता के वोटों की गिनती रुकवाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन हम उनकी इस कोशिश को कामयाब नहीं होने देंगे। बाइडेन ने कहा है कि उनकी टीम चुनाव प्रक्रिया की रक्षा के लिए इतिहास की सबसे बड़ी मुहिम चला रही है। बाइडेन ने इस कोशिश में लोगों से मदद करने की अपील भी की है। 

 

 

 

Joe Biden: लोकतंत्र में सत्ता दावा करने से नहीं मिलती, जनता करती है फ़ैसला

जो बाइडेन ने अभी - अभी एक वीडियो संदेश ट्विटर पर शेयर किया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि लोकतंत्र में दावेदारी करने से सत्ता नहीं मिलती। यह तो सिर्फ और सिर्फ जनता ही तय करती है कि जीत किसकी होगी। उन्होंने कहा कि मैं अपनी जीत का दावा नहीं कर रहा, लेकिन ये भरोसा जाहिर कर रहा हूं कि अब तक हमें जितने राज्यों में जीत मिली है, उससे हम 270 इलेक्टोरल वोट हासिल करने के बेहद करीब हैं। उन्होंने विश्वास जाहिर किया कि वोटों की गिनती खत्म होने पर जीत हमारी ही होगी।

जो बाइडेन अब तक 264 इलेक्टोरल वोट जीत चुके हैं। उन्हें 270 के जादुई आंकड़े तक पहुंचकर अमेरिका का अगला राष्ट्रपति बनने के लिए अब सिर्फ 6 इलेक्टोरल वोट्स और हासिल करने हैं।

बाइडेन ने एरिज़ोना में पलटी बाज़ी

डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडेन ने एरिज़ोना के रुझानों में जीत हासिल करके ट्रंप को बड़ा झटका दिया है। 2016 के चुनाव में एरिज़ोना में ट्रंप की जीत हुई थी। लेकिन इस बार पासा पलट गया और बाइडेन को एरिज़ोना की जीत ने 11 इलेक्टोरल वोट दिला दिए। 

बाइडेन 264, ट्रम्प 214, टार्गेट 270

बाइडेन 264, ट्रम्प 214, टार्गेट 270

Photo Courtesy: Economic Times

अमेरिकी चैनल फॉक्स न्यूज़ के मुताबिक डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन 264 इलेक्टोरल वोटों पर जीत के साथ अमेरिका के अगले राष्ट्रपति बनने के बेहद करीब पहुंच गए हैं। उन्हें अब सिर्फ 6 और वोट चाहिए व्हाइट हाउस तक पहुंचने के लिए। वहीं मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का आंकड़ा 214 वोटों पर ही अटका हुआ है। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव जीतने के लिए 538 में कम से कम 270 इलेक्टोरल वोट्स हासिल करना ज़रूरी है। 

इन तीन राज्यों पर है हार-जीत का दारोमदार

अमेरिका का अगला राष्ट्रपति कौन होगा? डोनाल्ड ट्रंप को दोबारा मिलेगी जीत या जो बाइडेन पहुंचेंगे व्हाइट हाउस? ये फैसला अब मुख्य तौर पर अमेरिका के तीन अहम राज्यों के नतीजों पर निर्भर है, ऐसा विशेषज्ञों का मानना है। ये तीन अहम राज्य हैं 1. पेनसिल्वेनिया, 2. मिशिगन और 3.विस्कॉन्सिन। इन तीनों ही राज्यों में वोटों की गिनती अभी जारी है। पेनसिल्वेनिया में 20, मिशिगन में 16 और विस्कॉन्सिन में 10 इलेक्टोरल वोट्स हैं। यानी इन तीनों राज्यों में कुल मिलाकर 46 इलेक्टोरल वोट्स दांव पर हैं।

अमेरिका के कई राज्यों में पोस्टल बैलट मतदान के दिन के तीन दिन बाद तक स्वीकार किए जाते हैं, बशर्ते उन्हें मतदान के दिन तक पोस्टल सिस्टम के हवाले कर दिया गया हो। पेनसिल्वेनिया भी ऐसे ही राज्यों में शामिल है। पेनसिल्वेनिया के गवर्नर ट्विटर के जरिए बता चुके हैं कि उनके राज्य में अभी करीब 10 लाख वोटों की गिनती बाकी है और उन्होंने अपने राज्य के मतदाताओं से वादा किया है कि उनका हर एक वोट गिना जाएगा। हालांकि ट्रंप गिनती रुकवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कर चुके हैं, लेकिन अमेरिकी कानून व्यवस्था के जानकार अब तक समझ नहीं पा रहे हैं कि वे ऐसा किन कानूनी प्रावधानों के तहत कर सकते हैं।

 

ट्रंप-बाइडेन में जारी है कड़ा मुकाबला

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भले ही चुनाव प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए सर्वोच्च अदालत में जाने की बात कही हो, लेकिन अमेरिकी चुनाव में अब तक के रुझान पूरी तरह से किसी एक उम्मीदवार के पक्ष में झुकते नज़र नहीं आ रहे हैं। अलग-अलग चैनल और एजेंसियां अलग अलग प्रोजेक्शन दे रही हैं, लेकिन सभी में बाइडेन और ट्रंप में कड़ी टक्कर ही दिखाई दे रही है। दो प्रमुख अमेरिकी चैनलों के प्रोजेक्शन पर नज़र डालने से ये बात और भी साफ हो जाएगी।

FOX News का प्रोजेक्शन

जो बाइडेन - 238, डोनाल्ड ट्रंप - 213

CNN का प्रोजेक्शन

जो बाइडेन - 224, डोनाल्ड ट्रंप - 213

ध्यान रहे कि अमेरिका में राष्ट्रपति चुने जाने के लिए कम से कम 270 इलेक्टोरल वोट्स हासिल करना ज़रूरी है। 

डेमोक्रेट सांसद ने ट्रंप के जीत के दावे को असंवैधानिक, खतरनाक और तानाशाही भरा बताया

डेमोक्रेट सांसद ने ट्रंप के जीत के दावे को असंवैधानिक, खतरनाक और तानाशाही भरा बताया

Photo Courtesy: Indian Express

डेमोक्रेटिक पार्टी की सांसद एलेक्जेंड्रिया ओकेसियो कॉर्टेज़ ने मतगणना पूरी होने से पहले ही जीत हासिल करने के ट्रंप के दावे को असंवैधानिक, खतरनाक और तानाशाही रवैये वाला करार दिया है। एलेक्जेंड्रिया ने कहा है कि वोटों की गिनती का इंतज़ार करके जनता के फैसले का सम्मान करना चाहिए। 

 

भारतीय मूल के चार सांसदों की जीत

भारतीय मूल के चार सांसदों की जीत

Photo Courtesy: Indian Express

अमेरिका में राष्ट्रपति पद के साथ ही साथ वहां की संसद के लिए भी चुनाव हो रहा है, जिसमें भारतीय मूल के चार लोगों ने डेमोक्रेटिक पार्टी के टिकट पर जीत हासिल की है। हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव यानी प्रतिनिधि सभा में पहुंचने वाले ये चार भारतीय-अमेरिकी हैं - डॉक्टर अमी बेरा, प्रमिला जयापाल, रो खन्ना और राजा कृष्णमूर्ति। ये चारों फिर से जीतकर अमेरिकी संसद में पहुंचे हैं। 

बाइडेन 238, ट्रंप 213, फॉक्स न्यूज़ का अनुमान

अमेरिकी न्यूज़ चैनल फॉक्स न्यूज़ के अनुमानों के मुताबिक मौजूदा स्थिति के मुताबिक डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन 238 इलेक्टोरल वोट जीत रहे हैं, जबकि मौजूदा राष्ट्रपति और रिपब्लिकन पार्टी के प्रत्याशी डोनाल्ड ट्रंप को 213 इलेक्टोरल वोट मिलते नज़र आ रहे हैं। अमेरिका का राष्ट्रपति बनने के लिए कम से कम 270 इलेक्टोरल वोट्स की ज़रूरत है।

मोंटाना में होगी ट्रंप की जीत, CNN का अनुमान

अमेरिका के बड़े न्यूज़ चैनल CNN में मोंटाना में ट्रंप की जीत का अनुमान जाहिर किया है। इसके साथ ही ट्रंप के जीतने की संभावना वाले इलेक्टोरल वोट्स की संख्या 213 हो गई है। मोंटाना में 3 इलेक्टोरल वोट्स हैं। आपको बता दें कि अमेरिका के चुनाव के बारे में आ रहे तमाम आंकड़े रुझानों और अनुमानों पर आधारित हैं। आधिकारिक परिणामों की घोषणा अब तक नहीं हुई है।

 

टेक्सस में ट्रंप की जीत, एपी का अनुमान

टेक्सस में ट्रंप की जीत, एपी का अनुमान

Photo Courtesy: The Guardian

अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस यानी AP ने बेहद महत्वपूर्ण राज्य टेक्सस (Texas) में ट्रंप की जीत का अनुमान जाहिर किया है। जिससे रुझानों में ट्रंप और बाइडेन के बीच का अंतर और कम हो गया है। टेक्सस में 38 इलेक्टोरल वोट्स होते हैं और यहां जीत मिलना ट्रंप के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी होगी। 

ट्रंप का आरोप, चुनाव में धांधली की कोशिश हो रही है

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी चुनाव के नतीजे आने से पहले ही धांधली का आरोप लगाना शुरू कर दिया है। ट्रंप ने ट्वीट करके कहा है कि हम काफी आगे चल रहे हैं, लेकिन वे चुनाव के नतीजों को चुराने की कोशिश कर रहे हैं। हम उन्हें कभी ऐसा नहीं करने देंगे। मतदान बंद होने के बाद कोई वोट नहीं डाल सकता।

 

 

जो बाइडेन ने जीत का भरोसा जाहिर किया

डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन ने अमेरिकी जनता को संबोधित करते हुए कहा है कि उन्हें ये चुनाव जीतने की पूरी उम्मीद है। अंतिम नतीजे आने में वक्त लगेगा लेकिन जीत हमारी ही होगी। उन्होंने कहा कि जबतक हर एक बैलेट की गिनती नहीं हो जाती हम इंतजार करेंगे।
 

 

ओहायो में ट्रंप और हवाई में बिडेन की जीत का अनुमान

ओहायो में राष्ट्रपति ट्रंप की जीत का अनुमान है। ओहायो उन राज्यों में प्रमुख है, जिनके डेमोक्रेट या रिपब्लिकन, किसी भी उम्मीदवार के पक्ष में जाने की संभावना मानी जाती है। एनबीसी और फॉक्स न्यूज़ ने यहां ट्रंप की जीत का अनुमान जाहिर किया है। ओहायो में कुल 18 इलेक्टोरल वोट हैं, जो मौजूदा चुनाव को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। एनबीसी और फॉक्स ने ही 4 इलेक्टोरल वोट वाले हवाई में जो बिडेन के जीतने का अनुमान जाहिर किया है। 

बाइडेन ने 207 इलेक्टोरल वोट हासिल कर बनाई बड़ी बढ़त, ट्रंप 148 पर

 डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन ने बड़ी बढ़त बना ली है। ताज़ा अपडेट में उन्हें 207 इलेक्टोरल वोट मिल रहे हैं, जबकि मौजूदा राष्ट्रपति ट्रंप अभी 148 पर हैं। अमेरिका में राष्ट्रपति बनने के लिए जरूरी हैं कम से कम 270 इलेक्टोरल वोट्स।