PM Modi Live: 18 से ऊपर के सभी नागरिकों को मुफ्त लगेगा टीका, केंद्र सरकार ने तय की वैक्सीन नीति

राष्ट्र के नाम संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आधुनिक दुनिया ने 100 सालो में नहीं देखी ऐसी आपदा, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को दीपावली तक बढ़ाया गया

Updated: Jun 07, 2021 09:09 PM IST

राष्ट्र के नाम संबोधन कर रहे हैं पीएम मोदी, बोले- मिशन इंद्रधनुष के तर्ज पर देश में हो रहा है वैक्सीनेशन, दूसरी लहर में मेडिकल ऑक्सीजन की डिमांड अकल्पनीय रूप से बढ़ गई थी, भारत के इतिहास में इतनी ऑक्सीजन की जरूरत महसूस नहीं की गई थी

18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को मुफ्त वैक्सीन देगी सरकार

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 21 जून सोमवार से देश के हर राज्य में 18 वर्ष की उम्र के ऊपर के लिए भी सभी नागरिकों को भारत सरकार राज्यों को मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराएगी। 75 फीसदी वैक्सीन कंपनियों से खरीदकर राज्यों को केंद्र सरकार मुहैया कराएगी। देश के सभी राज्यों को केंद्र मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराएगी। सभी देशवासियों को भारत सरकार मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध कराएगी।

नोजल वैक्सीन पर रिसर्च जारी- पीएम

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में एक नेजल वैक्सीन पर रिसर्ज जारी है। इसे सीरिंज से न देकर नाक में स्प्रे किया जाएगा। देश को अगर निकट भविष्य में इसमें सफलता मिलती है। इससे देश की वैक्सीन वाली स्थिति में और तेजी आएगी।

विश्वास से ही सिद्धि होती है- पीएम मोदी

मोदी ने कहा, 'हमारे यहां कहा जाता है कि विश्वास से ही सिद्धि होती है। हमें पूरा विश्वास था कि हमारे वैज्ञानिक बहुत ही कम समय में वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल कर लेंगे। वैज्ञानिक जब इस बारे में प्रयास कर ही रहे थे तो हमने लॉजिस्टिक की तैयारियां शुरू कर दी थीं। पिछले साल जब कोरोना के कुछ हजार केस ही थे, तभी हमने वैक्सीन टास्क फोर्स का गठन कर दिया था।'

हमने मिशन इंद्रधनुष लॉन्च किया- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि, 'वैक्सीन की समस्या के समाधान के लिए हमने मिशन इंद्रधनुष को लॉन्च किया। इसके माध्यम से युद्धस्तर पर वैक्सीनेशन किया जाएगा। देश में जिसको भी वैक्सीनेशन की जरूरत है, उसे वैक्सीन दिया गया। हमने मिशन मोड में काम किया। सिर्फ 5-6 साल में वैक्सीनेशन कवरेज 60 फीसदी से बढ़कर 90 फीसदी से ज्यादा हो गई।

23 करोड़ से ज्यादा डोज दी गयी- पीएम मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि, 'हम 100 फीसदी टीकाकरण की तरफ बढ़ रहे थे कि कोरोना ने हमें घेर लिया। देश ही नहीं दुनियीा के सामने फिर पुरानी आशंकाएं घिरने लगी कि अब भारत कैसे इतनी बड़ी आबादी को बचा पाएगा. जब नीयत साफ होती है, नीति स्पष्ट होती है, निरंत परिश्रम होता है तो नतीजे भी मिलते हैं। हर आशंका को दरकिनाकर करते हुए भारत ने एक नहीं बल्कि दो मेड इन इंडिया वैक्सीन लॉन्च कर दी। हमारे देश ने, देश के वैज्ञानिकों ने ये दिखा दिया कि भारत बड़े-बड़े देशों से पीछे नहीं है. आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं तो देश में 23 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है।'