अब लगेंगे मिक्स डोज: कोवैक्सीन और कोविशिल्ड वैक्सीन के मिक्स डोज की क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी

DCGI सूत्रों के मुताबिक दोनों वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल और स्टडी को मंजूरी दे दी गई है, आईसीएमआर ने किया है ज्यादा प्रभावी होने का दावा

Updated: Aug 11, 2021, 01:18 PM IST

अब लगेंगे मिक्स डोज: कोवैक्सीन और कोविशिल्ड वैक्सीन के मिक्स डोज की क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी
Photo Courtesy: Oxford

नई दिल्ली। कोरोना की संभवित तीसरी लहर और खतरनाक डेल्टा वैरिएंट को देखते हुए दुनियाभर में सुरक्षित वैक्सीन को लेकर अबतक शोध जारी है। इसी बीच ड्रग्स कंट्रोल जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने कोवैक्सीन और कोविशिल्ड के मिक्स डोज की स्टडी और क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी है। बताया जा रहा है कि क्लीनिकल ट्रायल वेल्लोर स्थित क्रिस्चियन मेडिकल कॉलेज में कराए जाएंगे।

जानकारी के मुताबिक यह स्टडी इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) स्टडी से थोड़ा अलग होगा। दरअसल, आईसीएमआर ने दावा किया है कि मिश्रित डोज के परिणाम काफी बेहतर आए हैं। यानी पहला डोज कोवैक्सीन ले चुके व्यक्ति को यदि दूसरी बार कोविशिल्ड लगाई जाए तो शरीर पर यह ज्यादा सुरक्षित और असरदार साबित होगा।

यह भी पढ़ें: बकरी चराने वाले बच्चों को शिक्षा देने में जुटी झाबुआ की बेटी, स्कूल बंद हुए तो गांवों में जाकर पढ़ा रही हैं प्रियंका

आईसीएमआर के मुताबिक शोध में पाया गया है कि एडिनोवायरस वेक्टर प्लेटफॉर्म के आधार पर दो वैक्‍सीन को जब मिलाया गया तो उसके काफी बेहतर परिणाम देखने को मिले। इससे न केवल कोरोना के संक्रमण को कम किया जा सका बल्कि इससे शरीर में अच्‍छी इम्‍यूनिटी भी बनती देखी गई। ऐसे में अब माना जा रहा है कि डीसीजीआई का सकारात्मक रिपोर्ट आने के बाद कॉकटेल डोज को लेकर फैसला लिया जा सकता है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में नर्स ने गलती से एक शख्‍स को दो अलग-अलग वैक्‍सीन की डोज दे दी थी। इस लापरवाही को लेकर देश में बवाल मच गया था और स्वास्थ्य विशेषज्ञ में चिंतित हो गए थे। हालांकि, उस व्यक्ति को 24 घंटे डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया। अब वह शख्‍स पूरी तरह से स्‍वस्‍थ है और उसे कभी कोई दिक्‍कत नहीं आई।