PM मोदी के फोटो फ्रेम से CM शिवराज को हटाने के मामले पर कलेक्टर भोपाल की नई थ्योरी

बिरसा मुंडा जयंती पर सोमवार को भोपाल पहुंचे थे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के मुताबिक फोटो फ्रेम के चक्कर में सीएम शिवराज को उनके साथ चलने से रोका गया, भोपाल कलेक्टर ने किया खंडन

Updated: Nov 18, 2021, 11:45 AM IST

PM मोदी के फोटो फ्रेम से CM शिवराज को हटाने के मामले पर कलेक्टर भोपाल की नई थ्योरी

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को अमर शहीद भगवान बिरसा मुंडा की जयंती मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल पहुंचे थे। पीएम मोदी के भोपाल आगमन से जुड़े कई किस्से काफी सुर्खियां बटोर रहे हैं। इनमें एक किस्सा ये है कि प्रधानमंत्री मोदी के फोटो फ्रेम के चक्कर में सीएम शिवराज को उनके साथ चलने के बजाए पीछे चलने को कहा गया। हालांकि, भोपाल कलेक्टर ने अब इसे झूठ बताते हुए नई थ्योरी दी है।

कलेक्टर भोपाल अविनाश लवानिया ने कहा है कि मैं इस बात को पूर्णतः खंडन करता हूं कि पीएम मोदी के भोपाल दौरे में सीएम शिवराज को सुरक्षा अधिकारियों द्वारा रोका गया। भोपाल कलेक्टर ने कहा, 'सत्य ये है कि मैं सीएम को महत्वपूर्ण संदेश देने गया था, जिसे सुनने के लिए वे रुके और सुनकर फिर आगे बढ़ गए।' 

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया था जिसमें सीएम शिवराज पीएम मोदी के साथ चल रहे थे। तभी पीछे से एक अधिकारी आकर सीएम को रोकता है और कान में कुछ कहता है। इस दौरान पीएम मोदी आगे बढ़ जाते हैं। इस वीडियो के साथ दावा किया जा रहा था कि प्रधानमंत्री के सुरक्षा अधिकारी ने उन्हें रोका था ताकि फोटो फ्रेम न बिगड़े। कांग्रेस ने भी इस वीडियो को इसी तरह पेश किया।

एमपी बीजेपी आईटी सेल के पूर्व प्रभारी शिवराज डाबी ने अगले दिन ही इसका खंडन करते हुए दावा किया था कि, 'जो सीएम शिवराज को संदेश देने आए थे वह भोपाल कलेक्टर थे और कुछ महत्वपूर्ण संदेश देकर चले गए।' अब खुद कलेक्टर भोपाल ने भी डाबी के दावे को ही सत्य बताते हुए फोटो फ्रेम वाली बात को खारिज किया है। ऐसे में यह भी कहा जा रहा है कि भोपाल कलेक्टर आईटी सेल की भाषा बोल रहे हैं।