शराबबंदी को लेकर फिर एक्टिव हुईं उमा भारती, घर छोड़ने का किया ऐलान, मकर संक्रांति तक झोपड़ी में रहेंगी

उमा भारती ने आज फेसबुक लाइव पर आकर कहा कि 7 नवंबर से वह घर में नहीं रहेगी, बल्कि झोपड़ी या टैंट में रहेगी, 14 जनवरी यानी मकर संक्रांति तक वह घर नहीं लौटेंगी

Updated: Oct 07, 2022, 07:32 PM IST

शराबबंदी को लेकर फिर एक्टिव हुईं उमा भारती, घर छोड़ने का किया ऐलान, मकर संक्रांति तक झोपड़ी में रहेंगी

भोपाल। मध्य प्रदेश की पूर्व सीएम उमा भारती शराबबंदी की मांग को लेकर एक बार फिर एक्टिव हो गईं हैं। उमा भारती ने शुक्रवार को फेसबुक पर लाइव आकर घर छोड़ने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि 7 नवंबर 2022 से 14 जनवरी 2023 तक वह झोपड़ी और जंगलों में रहेंगी।

उमा भारती ने कहा कि वह 7 नवंबर से प्रदेशव्यापी शराबबंदी का अभियान शुरू करने जा रही हैं। पूर्व सीएम ने कहा, 'प्रदेश में शराबबंदी होना ही चाहिए, क्योंकि शराब से लगातार प्रदेश में दुर्घटनाएं बढ़ रही हैं, जिससे महिलाओं के साथ अभद्र घटनाएं भी सामने आ रही है। शराब के दुष्प्रभाव से, लोग बीमारी के चपेट में आ रहे हैं।'

उमा भारती ने आगे कहा कि, 'शराब से कई घर बर्बाद हो चुके हैं, इसलिए जब तक हमारी लक्ष्य प्राप्ति नहीं हो जाती, तब तक मैं अभियान चलाती रहूंगी। मैं जंगलों में रहूंगी, टेंट में रहूंगी, झोपड़ी में रहूंगी, तीर्थ स्थानों पर रहूंगी। मैं मध्यप्रदेश की सड़कों पर घूमती रहूंगी। दो महीने की यह साधना मुझे धन्य करेगी। जब तक मध्य प्रदेश की सरकार नई शराबनीति लागू नहीं करती है, तब तक मेरा यह अभियान चलता रहेगा।'

हालांकि उन्होंने शिवराज सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि यह देश का पहला प्रदेश है, जहां नशा मुक्ति को अभियान बनाया गया है। बता दें कि इससे पहले भाजपा नेत्री ने 2 अक्टूबर को शराबबंदी के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाली थीं। बाद में उन्होंने शासकीय कार्यक्रम में शामिल होकर राज्य सरकार को अपना समर्थन दिया। इस दौरान सीएम चौहान ने कहा कि लोगों को नशा मुक्ति के लिए जागरूक किया जाएगा।