राजस्थान कांग्रेस प्रभारी पद से अजय माकन का इस्तीफा, खड़गे के सामने बड़ी संगठनात्मक चुनौती

अजय माकन ने अपने पद पर बने रहने में असमर्थता और अनिच्छा जताई है, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को लिखे अपने लेटर में राजस्थान में 25 सितंबर को हुए घटनाक्रम का हवाला दिया है।

Updated: Nov 16, 2022, 03:33 PM IST

राजस्थान कांग्रेस प्रभारी पद से अजय माकन का इस्तीफा, खड़गे के सामने बड़ी संगठनात्मक चुनौती

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता अजय माकन ने राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी पद से इस्तीफा दे दिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को पत्र लिखकर अपने पद पर बने रहने में असमर्थता और अनिच्छा जताई है। साथ ही कहा है कि राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा के प्रवेश से पहले किसी नए व्यक्ति को प्रभारी का दायित्व सौंपा जाए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को संबोधित पत्र में अजय माकन ने राजस्थान में 25 सितंबर को हुए घटनाक्रम का हवाला दिया है। माकन ने यह पत्र बीते 8 नवंबर को लिखा था। अजय माकन ने लिखा कि दिसंबर के पहले सप्ताह में राजस्थान में आने वाली भारत जोड़ो यात्रा को देखते हुए जल्द से जल्द नए प्रभारी का चयन किया जाना चाहिए।

अजय माकन ने आगे दिल्ली में पार्टी को बढ़ाने पर काम करने की इच्छा जताई है। माकन ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि वह दिल्ली में ट्रेड यूनियन और एनजीओ के जरिए एयर पॉल्युशन, स्ट्रीट वेंडर्स, स्लम एरिया समेत कई मुद्दों को उठाएंगे। माकन ने पत्र में लिखा है कि वह पिछली तीन पीढ़ियों से कांग्रेस की विचारधारा से जुड़े हैं. उन्होंने कांग्रेस के साथ अपने पारिवारिक संबंधों का हवाला देते हुए खुद को राहुल गांधी का सिपाही भी बताया।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश की सहरिया जनजाति में तेजी से फैल रहा है टीबी: आईसीएमआर रिपोर्ट में खुलासा

अजय माकन का इस्तीफे के बाद नवनिर्वाचित अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के समक्ष राजस्थान में कांग्रेस को एकजुट रखने की चुनौती होगी। बीते दिनों ही खड़गे ने राजस्थान संकट को लेकर उच्चस्तरीय बैठक की थी। इस बैठक में सचिन पायलट, दिग्विजय सिंह और केसी वेणुगोपाल शामिल थे। बैठक के बाद से ही राजस्थान में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलें लगाई जा रही थी। अब माकन के इस्तीफे के बाद माना जा रहा है कि हाईकमान द्वारा जल्द ही कोई फैसला लिया जा सकता है।

बता दें कि सितंबर में अशोक गहलोत गुट के विधायकों ने अजय माकन पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। मंत्री शांति धारीवाल ने साफ तौर पर कहा था कि राजस्थान में जो भी कुछ हुआ उसमें अजय माकन की बड़ी भूमिका थी।