भारतीय किसान यूनियन में दो फाड़, भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक का गठन, राकेश टिकैत और नरेश टिकैत पर लगाए गंभीर आरोप

राकेश टिकैत किसान आंदोलन के दौरान देश भर के किसानों की आवाज व चेहरा बने और उन्हीं के नेतृत्व में किसान आंदोलन एक वर्ष से अधिक समय तक चला और केंद्र सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने पड़े थे।

Updated: May 15, 2022, 04:51 PM IST

भारतीय किसान यूनियन में दो फाड़, भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक का गठन, राकेश टिकैत और नरेश टिकैत पर लगाए गंभीर आरोप
Photo Courtesy : Lokmat

लखनऊ:
देश में किसान आंदोलन और किसानों की आवाज बने भारतीय किसान यूनियन संगठन में दो फाड़ हो गई।
राजेश सिंह चौहान फतहपुर को भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक का अध्यक्ष बनाया गया है। राजेश सिंह चौहान ने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के मिशन को आगे बढ़ाएंगे, चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के आदर्शों को भूल गए है इसी के चलते संगठन में राजनीति हावी हुई।
राजेश सिंह चौहान ने कहा कि राकेश टिकैत, नरेश टिकैत राजनीति से प्रेरित है, मैने राजनीतिक दलों से जुड़ने का विरोध किया, हम किसी राजनैतिक दल से नहीं जुड़ेंगे, हम अपने सिद्धांतों के विपरीत नही जायेंगे।
गौरतलब है कि राकेश टिकैत किसान आंदोलन के दौरान देश भर के किसानों की आवाज व चेहरा बने और उन्हीं के नेतृत्व में किसान आंदोलन एक वर्ष से अधिक समय तक चला और केंद्र सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने पड़े थे,राकेश टिकैत अमरोहा से 2014 में राष्ट्रीय लोकदल के टिकट पर चुनाव भी लड़ चुके हैं। भारतीय किसान यूनियन की स्थापना चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत ने की थी।