MP में शर्मसार हुई मानवता, 3 साल की मासूम से रेप, झोपड़ी से दबे पांव उठा ले गया था आरोपी

मां के साथ झोपड़ी में सो रही थी मासूम, खुली झोपड़ी होने के कारण आरोपी उठा ले गया, कमलनाथ बोले- नवरात्र में जहां हम कन्या पूजन करते हैं, इस तरह की घटनाएं दिल को झकझोर देती है

Updated: Oct 07, 2021, 06:38 PM IST

MP में शर्मसार हुई मानवता, 3 साल की मासूम से रेप, झोपड़ी से दबे पांव उठा ले गया था आरोपी
Photo Courtesy : The Jakarta post

रीवा। मध्य प्रदेश के रीवा से मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। यहां बुधवार देर रात एक हैवान ने 3 साल की बच्ची से रेप की घटना को अंजाम दिया। बताया जा रहा है कि बच्ची अपनी मां जब सो रही थी तभी आरोपी उसे उठा ले गया। बच्ची का परिवार बिना दरवाजे की झोपड़ी में रहता है।

रीवा एसपी नवनीत भसीन ने बताया कि यह घटना जनेह में बुधवार रात करीब 11 से 12 बजे के बीच की है। परिजनों के मुताबिक खाना खाने के बाद महिला अपनी बच्ची को गोद में लेकर सो रही थी और आंचल से उसे ढंक रखा था। चूंकि झोपड़ी में दरवाजा नहीं था इसलिए कोई भी अंदर आ सकता था।

यह भी पढ़ें: लखीमपुर के बाद अब अंबाला में BJP सांसद ने किसानों पर चढ़ाई गाड़ी, किसानों में आक्रोश

बच्ची की मां के मुताबिक वह नींद में थी और कब आरोपी बच्ची को लेकर गया उसे पता नहीं चला। कुछ देर बाद आरोपी बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद उसे वापस छोड़कर चला गया। मां को इस बात की जानकारी तब मिली जब थोड़ी देर बाद बच्ची दर्द से चीखने लगी। माना जा रहा है कि जब आरोपी उसे वापस रखने आया था तब बच्ची बेहोश थी।

पुलिस के मुताबिक परिजनों ने पड़ोस के ही 20 वर्ष के एक आवारा युवक को आरोपी बताया है। पुलिस शक के आधार पर उसे गिरफ्तार कर चुकी है। बच्ची को गंभीर हालत में गुरुवार सुबह संजय गांधी मेमोरियल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। मामला सामने आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बच्ची के बेहतर इलाज की मांग की है। 

कमलनाथ ने कहा, 'नवरात्रि के इस पावन पर्व पर एक तरफ जहाँ हम कन्या पूजन करते हैं , वहीं दूसरी तरफ इस तरह की घटनाएं दिल को झकझोर देती है।आज मासूम बच्चियां ना घर में सुरक्षित है ना बाहर ,पता नहीं कब इस तरह की घटनाओं पर अंकुश लगेगा? मै सरकार से मांग करता हूँ कि इस घटना के दोषी को कड़ी से कड़ी सजा मिले, पीड़ित परिवार की हर संभव मदद कर, पीड़ित बच्ची के बेहतर से बेहतर इलाज की तत्काल व्यवस्था की जाए।'