रीवा में रिटायर्ड सैनिक ने की आत्मदाह की कोशिश, ज़मीन पर अवैध क़ब्ज़े से हुए हताश

सेवानिवृत्त सैनिक केदारनाथ ने कलेक्ट्रेट में की आत्मदाह की कोशिश, ज़मीन पर दबंगों ने किया है कब्जा, पुलिस पर लगाया अभद्रता का आरोप

Updated: Feb 09, 2021, 01:33 PM IST

रीवा में रिटायर्ड सैनिक ने की आत्मदाह की कोशिश, ज़मीन पर अवैध क़ब्ज़े से हुए हताश
Photo courtesy: Navbharat times

रीवा। मध्य प्रदेश में ज़मीन पर दबंगों के कब्ज़े का मामला लगातार गंभीर होता जा रहा है। इतना गंभीर कि देश की सीमाओं की रक्षा के लिए अपनी जान लड़ा देने वाले और मुश्किलों के आगे कभी हार न मानने की ट्रेनिंग लेने वाले योद्धा भी हालात से निराश हो जा रहे हैं। प्रदेश के रीवा में कुछ ऐसा ही हुआ है, जहां ज़मीन पर कब्जे से परेशान सेना के एक रिटायर्ड जवान ने खुद को जिंदा जलाने की कोशिश की है।

घटना रीवा के कलेक्टरेट परिसर की है, जहां सेना के जवान ने खुद पर पेट्रोल छिड़क लिया और आग लगाने की कोशिश की। राहत की बात यह है कि आसपास मौजूद लोगों ने उसे ऐसा करने से रोक लिया। हाल ही में ग्वालियर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सभा में एक शख्स ने अपनी ज़मीन पर भूमाफिया का कब्ज़ा होने से निराश होकर आत्मदाह की कोशिश की थी। 

रीवा में आत्मदाह की कोशिश करने वाले केदारनाथ पटेल भारतीय सेना के रिटायर्ड सैनिक हैं। वे गुढ़ के करौंदी थाना इलाके के रहने वाले हैं। केदारनाथ ने करीब दस साल पहले 2011 में एक एकड़ जमीन खरीदी थी। केदारनाथ का आरोप है कि उनकी जमीन पर गांव के एक दबंग राजू पटेल ने जबरन कब्जा कर लिया है। 

रिटायर्ड सैनिक ने इसकी शिकायत स्थानीय थाने में की, जब वहां कोई सुनवाई नहीं हुई तो उन्होंने एसपी कार्यालय में डीएसपी वीपी सिंह से अपनी आप बीती सुनाई। केदारनाथ का आरोप है कि वहां उनकी शिकायत पर ध्यान देना तो दूर उलटे उनके साथ गाली गलौज की गई। सेनानिवृत्त सैनिक का आरोप है कि उन्हें एसपी कार्यालय से अपमानित करके भगा दिया गया। आखिरकार उन्होंने दुखी होकर कलेक्ट्रेट की शरण ली। वहां भी उन्हें कलेक्टर से मिलने नहीं दिया जा रहा था। इन हालात में निराश होकर उन्होंने आत्मदाह करने की कोशिश की।

 

फिलहाल अधिकारियों ने उन्हें इंसाफ का भरोसा दिलाया है। कलेक्ट्रेट परिसर में हुए हंगामे के बाद रीवा कलेक्टर इलैया राजा टी ने इस पूरे मामले की जांच के निर्देश दे दिए हैं।