पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की पीएम को लिखी चिट्ठी नहीं आई स्वास्थ्य मंत्री को रास, सुप्रिया श्रीनेत ने हर्षवर्धन के जवाब को बताया सड़क छाप

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की चिट्ठी पर जवाब दिया है, जबकि पूर्व पीएम ने यह पत्र प्रधानमंत्री को लिखा था

Publish: Apr 19, 2021, 03:11 PM IST

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की पीएम को लिखी चिट्ठी नहीं आई स्वास्थ्य मंत्री को रास, सुप्रिया श्रीनेत ने हर्षवर्धन के जवाब को बताया सड़क छाप

नई दिल्ली। कोरोना के कहर को रोकने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रधानमंत्री मोदी को लिखी चिट्ठी पर स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने जवाब दिया है। हर्षवर्धन के जवाब पर राजनीतिक गलियारों में स्वास्थ्य मंत्री की किरकिरी शुरू हो गई है। कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने हर्षवर्धन के जवाब को सड़क छाप करार दे दिया है। 

यह भी पढ़ें : टीकाकरण के लिए फ्रंटलाइन वर्कर्स की परिभाषा तय करने का फैसला राज्यों पर छोड़े केंद्र सरकार, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री ने चिट्ठी प्रधानमंत्री को लिखी थी। लेकिन इस चिट्ठी पर एक विफल मंत्री को सड़क छाप बयान देने की क्या ज़रूरत थी। कांग्रेस नेता ने हर्षवर्धन की चिट्ठी को रीट्वीट करते हुए कहा कि 'वैसे चिट्ठी तो एक पूर्व प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी जी को लिखी थी, एक विफल मंत्री को बौखला कर इतना सड़क छाप बयान देने की क्या ज़रूरत थी? अपना काम सम्भल नहीं रहा है, चले हैं।' 

दरअसल पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार को प्रधानमंत्री मोदी को देश भर में टीकाकरण अभियान में तेज़ी लाने का सुझाव दिया था। लेकिन इसका जवाब स्वास्थ्य मंत्री ने देना ज़्यादा मुनासिब समझा। लेकिन जवाब में स्वास्थ्य मंत्री को सबसे ज़्यादा यह बात खटक गई कि आखिर कांग्रेसी नेताओं ने अब तक वैज्ञानिकों की तारीफ क्यों नहीं की? हर्षवर्धन ने अपने जवाब में पूर्व पीएम को लिखा है कि टीकाकरण के लिए मनमोहन सिंह को सबसे पहले कांग्रेसी नेताओं को समझाने की ज़रूरत है। 

यह भी पढ़ें : उत्तरप्रदेश में बुजुर्ग महिलाओं को कोरोना टीका के बदले लगा दिया एंटी रैबीज वैक्सीन

हर्षवर्धन ने यह आरोप लगाया है कि जो नेता शुरू में वैक्सीन का विरोध कर रहे थे उन्हीं नेताओं ने लोगों से छिप कर वैक्सीन लगाई है। सरकार में मंत्री होने के बावजूद अपनी ज़िम्मेदारियों से पल्ला झाड़ते हुए हर्षवर्धन ने यहां तक कहा है कि देश में कोरोना की नई लहर लाने में सबसे बड़ी भूमिका कांग्रेस शासित राज्यों ने निभाई है।