हिमाचल में मॉनसून का रौद्र रूप, धर्मशाला में बादल फटने से आई बाढ़, तेज धार में बह गए कई वाहन

हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में फटा बादल, बाढ़ से भागसू का नाला ओवरफ्लो, नाले से सटे कई होटलों को नुकसान, तेज बहाव के चपेट में आए कई चारपहिया वाहन

Updated: Jul 12, 2021, 02:25 PM IST

हिमाचल में मॉनसून का रौद्र रूप, धर्मशाला में बादल फटने से आई बाढ़, तेज धार में बह गए कई वाहन
Photo Courtesy : News18

धर्मशाला। हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में मॉनसून का रौद्र रूप देखने को मिला है। यहां बादल फटने की घटना ने दहशत मचा दी है। मॉनसून की भारी बारिश के बीच आज सुबह अचानक पर्यटन क्षेत्र भागसू में बदल फटने से भयंकर बाढ़ आ गई। थोड़े ही देर में एक छोटे से नाले ने उफनती नदी का रूप ले लिया। इस नाले में पानी का बहाव और ओवरफ्लो इतना तेज था कि देखते ही देखते कई वाहन उसमें समा गए।

बताया जा रहा है कि जिस भागसू नाले में पानी का ओवरफ्लो हुआ उससे सटे कई लग्जरी होटल भी हैं, जहां पर्यटक रुकते हैं। खबर है कि इन होटलों को काफी नुकसान हुआ है। उधर स्थानीय लोग बादल फटने की घटना के बाद पानी का रौद्र रूप देख सहमे हुए हैं। भागसू इलाके में अफरातफरी की माहौल है। भागसू में नाले का ओवरफ्लो होने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें देखा जा सकता है कि जलस्तर किस तरह बढ़ा हुआ है।

सोशल मीडिया पर पानी के साथ बहे कई वाहनों की तस्वीरें भी साझा की जा रही है। जो स्थिति की भयावहता का अंदाजा लगाने के लिए काफी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हिमाचल प्रदेश के कई जिलों में रविवार देर रात से ही मूसलाधार बारिश हो रही है, जिसके बाद नदियों का जलस्तर बढ़ गया है।बताया जा रहा है कि बीते कई दिनों से यहां लोग गर्मी से परेशान थे। सोमवार को गर्मी से थोड़ी राहत तो मिली लेकिन भारी बारिश लोगों के लिए आफत बन गई है। 

यह भी पढ़ें: यूपी में आकाशीय बिजली गिरने से 41 लोगों की मौत, राजस्थान में 20 और मध्यप्रदेश में 7 लोगों ने गंवाई जान

हिमाचल प्रदेश से आए दिन बादल फटने की खबरें आ रही है। आज की इस घटना ने बीते 7 फरवरी को उत्तराखंड के चमोली में बादल फटने की घटना और उससे हुई तबाही की याद दिला दी। यहां बादल फटने से एक ग्लेशियर टूट गई थी और उसके बाद चमोली जिले की ऋषिगंगा घाटी में बाढ़ आ गई थी। इससे एनटीपीसी की तपोवन जल विद्युत परियोजना पूरी तरह ध्वस्त हो गई थी। इस परियोजना से जुड़ी सुरंग में फंसकर काफी संख्या में लोग मारे गए थे।