चेन्नई में काली पट्टी बांधकर क्यों उतरी इंग्लैंड की टीम

इंग्लैंड टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया, चार टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेला जा रहा है

Updated: Feb 05, 2021, 04:03 PM IST

चेन्नई में काली पट्टी बांधकर क्यों उतरी इंग्लैंड की टीम
Photo Courtesy : Twitter

नई दिल्ली। भारत और इंगलैंड के बीच पेटीएम (Paytm) सीरीज के पहले मुकाबले में इंग्लैंड के खिलाड़ी काली पट्टी बांधकर मैदान में उतरे हैं। चेन्नई के एमए चिदंबरम (MA Chidambaram) स्टेडियम यानी चेपॉक में खेले जा रहे इस मुकाबले को देखने वाले दर्शकों के मन में यह सवाल ज़रूर उठ रहा होगा कि आखिर इंग्लैंड की टीम ने खेल के दौरान काली पट्टी क्यों बांधी है।  

दरअसल इंगलैंड टीम ने यह काली पट्टी इंग्लैंड में दूसरे विश्व युद्ध के हीरो माने जाने वाले सर टॉम मूर को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए बांधी है। इसी हफ्ते सर टॉम मूर का कोरोना के कारण देहांत हुआ है। लिहाज़ा अपना हीरो की याद में इंग्लैंड टीम के खिलाड़ी काली पट्टी बांध कर मैदान में उतरे हैं।

सर टॉम मूर का भारत से भी था नाता 

सर टॉम मूर ब्रिटिश सेना में थे। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश सेना में उनका बड़ा योगदान माना जाता है। वे महज़ 20 वर्ष की उम्र में ब्रिटिश सेना में शामिल हो गए थे। इतना ही नहीं एक सैनिक के रूप में भी उनका भारत से गहरा नाता रहा है। दरअसल ब्रिटिश आर्मी का हिस्सा होने की वजह से सर टॉम मूर को भारत में भी अपनी सेवाएं देनी पड़ी थीं। भारत में मूर ने अपने सैनिक साथियों को टैंक युद्ध का प्रशिक्षण भी दिया था। वतन वापसी से पहले टॉम मूर ने 1946 में बर्मा (अब म्यांमार) में जापानी सेना के विरुद्ध जंग भी लड़ी थी।

हालांकि सर मूर को हीरो मानने की सिर्फ यही वजह नहीं है। कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में मदद के लिए सौ साल के सर मूर ने करीब 387 करोड़ रुपये का फंड जुटाया था। अंत में इसी महामारी ने उनकी जान ले ली।