देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के आरोपी विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह को पकड़ने में विफल मप्र पुलिस, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार

देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के आरोपी गोविंद सिंह की गिरफ्तारी करने के लिए पुलिस को मिला 5 अप्रैल तक का अल्टीमेटम, सुप्रीम कोर्ट ने कहा नहीं तो दूसरी ऐजेंसी को सौंप देंगे केस, पुलिस ने 50 हजार का इनाम किया घोषित

Updated: Mar 27, 2021, 06:07 PM IST

देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के आरोपी विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह को पकड़ने में विफल मप्र पुलिस, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार
Photo Courtesy: Naidunia

भोपाल। कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के आरोपी पथरिया विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह की गिरफ्तारी मध्यप्रदेश पुलिस नही कर पाई है। गिरफ्तारी न होने पर सुप्रीम कोर्ट ने कड़ा रुख अपनाया है।केस की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अग़र मध्यप्रदेश पुलिस आरोपी गोविंद सिंह को गिरफ्तार नही कर पा रही है तो केस दूसरी एजेंसी को सौपा जाए। इसके लिए कोर्ट ने 5 अप्रैल तक का समय दिया है।

कोर्ट की सख्ती के बाद पुलिस ने गोविंद सिंह पर 50 हजार रुपए के इनाम की घोषणा की है। वहीं उनके कर्मचारियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। उल्लेखनीय है कि  शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने मध्यप्रदेश पुलिस से शपथ पत्र के साथ स्टेटस रिपोर्ट पेश करने को कहा था। इस पर दमोह एसपी और डीजीपी ने जो एफीडेविट पेस किया उसे कोर्ट ने इसे नकार दिया। 

गौरतलब है कि आरोपी देवेंद्र चौरसिया की गिरफ्तारी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने मध्यप्रदेश सरकार को फटकार लगाई थी, लेक़िन आरोपी की गिरफ्तारी अभी तक नही हो पाई है।बताया जा रहा है 12 दिनों से 17 पुलिस की टीमें  सीमावर्ती इलाकों में खोज कर रही है। इसके बाबजूद हटा के बहुचर्चित कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड का आरोपी गोविंद सिंह का कोई सुराग नही मिल पाया है

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या 2019 में कर दी गई थी। इस केस में दमोह जिले की पथरिया सीट से विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह और उनके देवर का नाम भी सामने आया था। हालांकि अभी तक पुलिस दोनों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। इसी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को फटकार लगाई है। फटकार के बाद मध्यप्रदेश सरकार हरकत में आई और कार्रवाई करना शुरू कर दी, अभी तक पुलिस 13 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर चुकी है। साथ ही छापेमारी के साथ औसतन रोजाना 50 लोगों से पूछताछ भी की जा रही है। इसके बाद भी  आरोपी गोविंद सिंह पुलिस के शिकंजे में नही आया है। आरोपी गोविंद सिंह पर 50 हज़ार का इनाम घोषित है।