मातम में बदली जीत की खुशियां, सरपंच बनने की खुशी नहीं बर्दाश्त कर पाई महिला, हार्ट अटैक से मौत

हरदा जिले के पानतलाई पंचायत से 65 वर्षीय रूकमणी बाई ने जीता था चुनाव, जश्न मनाकर रात में सोई लेकिन सुबह नहीं उठ पाई, हार्ट अटैक से मौत

Updated: Jun 26, 2022, 04:55 PM IST

मातम में बदली जीत की खुशियां, सरपंच बनने की खुशी नहीं बर्दाश्त कर पाई महिला, हार्ट अटैक से मौत

हरदा। मध्य प्रदेश में पहले फेज के लिए हुए पंचायत चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद से सियासी हलचलें तेज हैं। जिला पंचायत चुनावों में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों को प्रचंड जीत मिली है। जो प्रत्याशी जीत गए वो जश्न मना रहे हैं वहीं हारने वाले लोगों में मायूसी है। लेकिन हरदा से एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां एक महिला उम्मीदवार जीत की खुशी बर्दाश्त नहीं कर पाई और हार्ट अटैक के कारण उसने दम तोड़ दिया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक हरदा जिले के टिमरनी विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत पानतलाई की नवनिर्वाचित सरपंच प्रत्याशी रूकमणी बाई का बीती रात हृदयगति रुकने से निधन हो गया। 65 वर्षीय रुकमणि बाई देर रात विजयी घोषित हुईं थीं। उन्होंने सरपंच पद पर 365 वोट से बड़ी जीत हासिल की थी। चुनाव जीतने के बाद उनके घर में देर रात तक जश्न का माहौल था।

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनावों में कांग्रेस का जलवा: भोपाल, देवास, छिदवाड़ा, धार में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों की प्रचंड जीत

रूकमणी बाई भी जीत की खुशी में देर रात तक जागी हुई थी। रात के 12 बजे के करीब वह खाना खाकर सोने गईं। लेकिन अगली सुबह वह उठ नहीं पाईं। परिजनों ने जाकर देखा तो उनकी मौत हो चुकी थी। उनके बेटे राजेश ने बताया कि गांव के सभी लोगों के सहयोग से मां को सरपंच पद के लिए खड़ा किया था। जिसमें उन्हें बड़ी जीत हासिल हुई है।

राजेश ने बताया कि रूकमणी बाई को ब्लड प्रेशर और गैस की समस्या रहती थी। उन्होंने कहा कि उनकी मां चुनाव जीत गई थी तो पूरे परिवार और गांव में खुशी का माहौल था। लेकिन उनके अचानक मौत से पूरा परिवार सदमे में है। रूकमणी बाई के दो बेटे राजेश और मुकेश एवं एक बेटी है। वहीं पति की पहले ही मौत हो चुकी है। उनकी मौत से पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है।