महंगाई और मोदी दोनों देश को मार रहे हैं, बढ़ती महंगाई पर कांग्रेस का मोदी सरकार पर वार

चिदंबरम और सुरजेवाला ने आज बढ़ती महंगाई को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की, प्रेस कॉन्फ्रेंस में चिदंबरम ने महंगाई के लिए पूरी तरह से मोदी सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया, चिदंबरम ने कहा कि मोदी सरकार ऐसा दिखावा करती है कि महंगाई को लेकर चिंता झूठी चिंता है, सरकार लगातार समस्याओं को नजरंअदाज कर रही है

Updated: Jul 13, 2021, 04:57 PM IST

महंगाई और मोदी दोनों देश को मार रहे हैं, बढ़ती महंगाई पर कांग्रेस का मोदी सरकार पर वार

नई दिल्ली। लगातार बढ़ती महंगाई को लेकर आज दिल्ली में कांग्रेस पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। प्रेस कॉन्फ्रेंस में पी चिदंबरम और रणदीप सुरजेवाला मौजूद रहे। पी चिदंबरम ने लगातार बढ़ती महंगाई के लिए मोदी सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया। चिदंबरम ने कहा कि सरकार इस बात का दिखावा कर रही है कि महंगाई को लेकर चिंता, झूठी चिंता है। चिदंबरम ने कहा कि सरकार को लगता है कि अगर वो समस्याओं को नज़रअंदाज़ करेगी, तो समस्याएं समाप्त हो जाएंगी। कांग्रेस पार्टी सरकार के इस रवैये की निंदा करती है।  

चिदंबरम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पूछा कि क्या सरकार यह बताने का कष्ट करेगी कि लोगों को क्या खाना चाहिए? लोगों को काम पर कैसे जाना चाहिए? घर कैसे चलाना चाहिए? चिदंबरम ने कहा कि महामारी के कारण लोगों की नौकरियां चली गई हैं। बेरोज़गारी दर 8.1 फीसदी हो गयी है, लोगों की आय में कटौती हुई है। चारों तरफ व्याप्त तनावपूर्ण माहौल में सरकार चीज़ों की कीमतें बढ़ाकर लोगों की कमर तोड़ने का काम कर रही है।  

चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस पार्टी जल्द से जल्द रसोई गैस, पेट्रोल और डीज़ल के दाम घटाने की मांग करती है। इसके साथ ही सरकार को उन चीज़ों से जीएसटी हटा देनी चाहिए, जिसे बड़े स्तर पर लोग उपयोग में लाते हैं। चिदंबरम ने बताया कि आगामी मॉनसून सत्र में कांग्रेस पार्टी महंगाई का मुद्दा प्रमुखता के साथ सदन में उठाएगी। 

वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी और महंगाई दोनों देश को मार रहे हैं। डीज़ल, गैस और पेट्रोल की बढती कीमतें बज़ट बिगाड़ गयी और बाकी कुछ बचा था तो महंगाई मार गयी। सुरजेवाला ने कहा कि अच्छे दिन तो आये नहीं, महंगे दिनों ने देश की जनता का बजट बिगाड़ दिया। सुरजेवाला ने कहा कि अब सवाल यह है कि क्या खाएं, क्या पकाएं और घर का बज़ट कैसे चलाएं? आज ये सीधे तीन सवाल मुंह बाएं हिन्दुस्तान की जनता के सामने खड़े हैं; उपभोक्ता मूल्य महंगाई के ताजा आंकडें जारी हो गए हैं और वो 6.26% या लगभग 6.3% तक पहुँच गयी है। 

सुरजेवाला ने कहा कि शहरों में महंगाई और ज्यादा है; चाहे वो खाने-पीने का सामान हो, दाल-सब्जी-फल हो, यातायात के साधन हों, पेट्रोल-डीज़ल हों या रसोई गैस हो और अब CNG-PNG गैस के दाम भी सरकार ने इसी हफ्ते और बढ़ा दिए हैं। सुरजेवाला ने महंगाई के लिए मोदी सरकार को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि इस महंगाई के लिए अगर कोई जिम्मेदार है, तो वो सिर्फ मोदी सरकार है; यह महंगाई मांग बढ़ने की वजह से नहीं हुई है, लोगों के हाथ में ज्यादा पैसा ह, इसलिए भी नहीं हुई, यह महंगाई सरकार की गलत और जन विरोधी नीतियों का परिणाम है। 

रणदीप सुरजेवाला ने महंगाई से आम जनता को निजात दिलाने के लिए कुछ मांगें भी सामने रखीं। सुरजेवाला ने कहा कि पेट्रोल-डीज़ल और रसोई गैस के दाम फ़ौरन कम किए जाएँ। सरकार जो सेस लगाकार लाखों-करोड़ों का मुनाफा कमा रही है उसमें कटौती करे और उससे जनता को राहत पहुंचाई जाए। उपभोक्ता के इस्तेमाल की चीज़ों पर जो आयात शुल्क लगा हुआ है, फौरी तौर पर उस पर पुनर्विचार कर उसे कम किया जाए। साबुन, तेल, बिस्किट, टूथपेस्ट, कपड़े जैसी रोजमर्रा की चीजों पर जीएसटी काउंसिल की मीटिंग बुलाकर प्रधानमंत्री इसमें हस्तक्षेप करें।