एकनाथ शिंदे बने महाराष्ट्र के नए सीएम, फडणवीस ने ली डिप्टी सीएम पद की शपथ

देवेंद्र फडणवीस ने पहले सरकार में शामिल होने से मना किया था बाद में नड्डा के दखल के बाद वे डिप्टी सीएम बनने के लिए राजी हो गए

Updated: Jun 30, 2022, 09:13 PM IST

एकनाथ शिंदे बने महाराष्ट्र के नए सीएम, फडणवीस ने ली डिप्टी सीएम पद की शपथ

मुंबई। महाराष्ट्र में तेजी से बदल रहे सियासी घटनाक्रमों के बीच आखिरकार शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है। पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने पहले कहा था कि मैं सरकार से बाहर रहूंगा। हालांकि, नड्डा की दखल के बाद वह डिप्टी सीएम बनने के लिए राजी हो गए और आज उन्होंने भी राजभवन में शपथ ली।

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि, 'हिन्दुत्व के नाम भाजपा शिंदे को समर्थन देगी। वही राज्य के मुख्यमंत्री होंगे। उद्धवजी ने इस्तीफा दिया तो राज्य को वैकल्पिक सरकार देने की जरूरत है। सरकार गिरने के बाद वैकल्पिक सरकार आएगी ऐसा मैंने पहले ही कहा था, इसलिए आज शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट, भाजपा और कुछ छोटे दलों ने मिलकर सरकार बनाने का फैसला लिया है।'

पत्रकार वार्ता के दौरान फडणवीस ने उद्धव ठाकरे पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि हमें 2019 में 105 सीटें मिली थीं, उस चुनाव से पहले हमारा और शिवसेना का गठबंधन था। सरकार बनाने के लिए शविसेना अपने विरोधी विचार धारा वाली पार्टियों से जाकर मिल गई। एनसीपी और कांग्रेस से गठबंधन करके सरकार बना लिया और हमको छोड़ दिया।

फडणवीस ने आगे कहा कि जनता ने महाविकास अघाड़ी को बहुमत नहीं दिया था। चुनाव के बाद बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी थी। शिवसेना ने हमारे साथ चुनाव लड़ा था, लेकिन कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाई। उद्धव ठाकरे ने बाला साहेब ठाकरे के विचारों को भी ताक पर रख दिया। महाराष्ट्र के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि सरकार के दो-दो मंत्री जेल में हैं। बालासाहेब ने हमेशा दाउद का विरोध किया, लेकिन उद्धव सरकार का एक मंत्री दाउद से जुड़ा हुआ है। जेल में जाने के बाद भी उसे मंत्री पद से हटाया नहीं गया। ये बाला साहेब का अपमान है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एकनाथ शिंदे ने कहा कि बाला साहेब के हिंदुत्व और राज्य का विकास के एजेंडा के साथ हम साथ आए हैं। हम पिछली सरकार में रहते हुए भी कुछ कर नहीं पा रहे थे। इसमे किसी का कोई स्वार्थ नहीं है। बड़ी पार्टी होते हुए भी बीजेपी ने मुझे मौका दिया। देवेंद्र जी ने बड़ा दिल दिखाया। इसके लिए देवेंद्र जी का शुक्रगुजार हूं। मैं पीएम नरेंद्र मोदी जी, गृहमंत्री अमित शाहजी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्‌डा का शुक्रगुजार हूं।