P 305 के कैप्टन के खिलाफ मुकदमा दर्ज, जानबूझकर लोगों की ज़िंदगियां खतरे में डालने का है आरोप

मुंबई पुलिस ने इस मामले में जहाज के कैप्टन सहित अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज किया है, जहाज़ के कैप्टन पर आरोप है कि उसने चक्रवात के खतरे को नज़रअंदाज़ किया और उसे किसी सुरक्षित जगह पर नहीं ले गया

Publish: May 21, 2021, 05:00 PM IST

P 305 के कैप्टन के खिलाफ मुकदमा दर्ज, जानबूझकर लोगों की ज़िंदगियां खतरे में डालने का है आरोप
Photo Courtesy: Scroll.in

मुंबई। ताउते चक्रवात का शिकार हुआ पी 305 जहाज़ का कैप्टन अब मुंबई पुलिस के निशाने पर है। मुंबई पुलिस ने जहाज़ के कप्तान के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। जहाज़ के कप्तान पर जानबूझकर लोगों की ज़िंदगियां खतरे में डालने का आरोप है। मुंबई पुलिस ने जहाज़ में सवार चीफ इंजीनियर के बयान के आधार पर कैप्टन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। 

मुंबई पुलिस ने जहाज़ के कैप्टन राकेश बल्लव सहित अन्य लोगों पर आईपीसी की धारा 304(2), 338 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। राकेश बल्लव पर आरोप है कि कैप्टन ने चक्रवाती तूफान के खतरे को देखते हुए भी इसे पूरी तरह से नजरअंदाज किया। जिस वजह से बड़ी संख्या में लोगों को अपनी ज़िंदगियों से हाथ धोना पड़ गया। हालांकि फिलहाल राकेश बल्लव अभी लापता हैं और उनकी तलाश जारी है। 

मुंबई पुलिस के अधिकारी डीसीपी एस चैतन्य ने मीडिया को बताया कि बार्ज के कप्तान ने चक्रवाती तूफान की तमाम चेतावनियों को दरकिनार किया। जिसके कारण अब तक 51 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। इस वजह से हमने कप्तान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। डीसीपी ने कहा कि अभी तो फिलहाल जहाज़ के कैप्टन और अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ है। जांच में आगे और अधिकारियों पर शिकंजा कसा जा सकता है। 

दरअसल सोमवार देर रात पी 305 जहाज़ अरब सागर में डूब गया। इसके बाद से ही नौसेना का लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन जारी रहा। नौसेना ने अब तक 188 लोगों को सुरक्षित बचा लिया है। जबकि 51 लोगों के शव बरामद किए जा चुके हैं। इस समय 27 लोग लापता हैं। हालांकि उनके ज़िन्दा होने की संभावना बेहद कम है।