मुंबई में कंगना रनौत के खिलाफ मुकदमा दर्ज, सिख समुदाय को लेकर की थी विवादित टिप्पणी

कंगना रनौत ने आंदोलनरत किसानों को खालिस्तानी आतंकवादी करार दिया था, कंगना ने अपने फेसबुक पोस्ट में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बारे में कहा था कि उन्होंने अपनी जूती के नीचे खालिस्तानी आतंकवादियों को कुचल दिया था

Publish: Nov 24, 2021, 06:21 AM IST

मुंबई में कंगना रनौत के खिलाफ मुकदमा दर्ज, सिख समुदाय को लेकर की थी विवादित टिप्पणी

नई दिल्ली/मुंबई। अपने विवादित बयानों के लिए मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज हो गया है। कंगना के खिलाफ यह मुकदमा उनके एक फेसबुक पोस्ट के संबंध में दर्ज हुआ है, जिसमें बॉलीवुड अभिनेत्री ने आंदोलनरत किसानों को खालिस्तानी आतंकवादी करार दिया था। मुंबई पुलिस ने दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति की शिकायत के आधार पर कंगना के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। 

सोमवार को अकाली दल नेता व दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने खार पुलिस को कंगना रनौत के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। प्रतिनिधिमंडल ने बॉलीवुड अभिनेत्री पर सिख समुदाय का अपमान करने का आरोप लगाया था। जिसके बाद खार पुलिस ने कंगना के खिलाफ धारा 295(A) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया।

कंगना रनौत ने हाल ही में अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट किया था। जिसमें उन्होंने सिख समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते हुए कहा था कि खालिस्तानी आतंकवादी आज भले ही सरकार का हाथ मरोड़ रहे हों, लेकिन उन्हें उस महिला (पूर्व पीएम इंदिरा गांधी) को नहीं भूलना चाहिए, जिसने अपनी जूती के नीचे इन्हें कुचल दिया था।

कंगना ने पूर्व प्रधानमंत्री का ज़िक्र करते हुए आगे कहा था कि उन्होंने अपनी जान की कीमत पर उन्हें मच्छरों की तरह कुचल दिया, मगर देश के दो टुकड़े नहीं होने दिए। कंगना ने आगे कहा कि उनकी मृत्यु के दशकों बाद भी ये लोग उनके नाम से कांपते हैं। इन्हें वैसा ही गुरु चाहिए। 

कंगना रनौत ने हाल ही में एक के बाद एक लगातार विवादित बयान दिए हैं। कंगना ने सबसे पहले 1947 में मिली आजादी को भीख बताते हुए कहा कि इस देश को असली आज़ादी 2014 में मिली है। वहीं इसके बाद बॉलीवुड अभिनेत्री ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को सत्ता का भूखा और लालची करार दे दिया। कंगना के इन विवादित बयानों को लेकर भी देश के विभिन्न हिस्सों में मुकदमा दर्ज कराया गया। जबकि कई जगहों पर कंगना का पुतला भी दहन किया गया।