वरिष्ठ कांग्रेस नेता और देश के पूर्व गृह मंत्री बूटा सिंह नहीं रहे

पूर्व गृह मंत्री बूटा सिंह का 86 की उम्र में निधन, 8 बार लोकसभा सांसद रहे बूटा सिंह ने गृह मंत्रालय के अलावा कृषि मंत्रालय और खेल मंत्रालय का दायित्व भी निभाया

Updated: Jan 02, 2021, 05:03 PM IST

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और देश के पूर्व गृह मंत्री बूटा सिंह नहीं रहे
Photo Courtesy: Twitter/INC MP

जालंधर। पूर्व गृह मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ दलित नेता बूटा सिंह नहीं रहे। 86 साल के बूटा सिंह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। नेहरू-गांधी परिवार के भरोसेमंद रहे बूटा ने गृह मंत्रालय के अलावा कृषि मंत्रालय, रेल मंत्रालय और खेल मंत्रालय जैसे विभागों का कार्यभार संभाला। इसके अलावा वे बिहार के राज्यपाल और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष भी रहे। 

बूटा सिंह के निधन पर कांग्रेस ने गहरा शोक जाहिर किया है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने उनके निधन पर शोक जाहिर करते हुए लिखा, "सरदार बूटा सिंह जी के देहांत से देश ने एक सच्चा जनसेवक और निष्ठावान नेता खो दिया है। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा और जनता की भलाई के लिए समर्पित कर दिया, जिसके लिए उन्हें सदैव याद रखा जाएगा। इस मुश्किल समय में उनके परिवारजनों को मेरी संवेदनाएँ।"

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने भी सरदार बूटा सिंह के निधन पर शोक जाहिर करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर जारी शोक संदेश में लिखा है, "कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री बूटा सिंह जी के निधन की दुखद ख़बर है। कांग्रेस परिवार भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करता है। “नमन”

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बूटा सिंह के निधन पर शोक जाहिर किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विटर पर लिखा है, "बूटा सिंह जी एक अनुभवी प्रशासक थे। गरीबों के कल्याण के लिए उन्होंने मजबूती से आवाज उठाई। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।"

 

 

21 मार्च, 1934 को पंजाब के जालंधर के मुस्तफापुर गांव में जन्मे बूटा 8 बार लोकसभा सांसद रहे। 1977 में जनता पार्टी की लहर के दौरान मिली हार के बाद कांग्रेस में विभाजन हो गया था। उस वक्त बूटा सिंह ने इंदिरा गांधी की अगुआई वाली कांग्रेस के इकलौते राष्ट्रीय महासचिव रहे। पार्टी को 1980 में दोबारा सत्ता में लाने के लिए भी उन्होंने कड़ी मेहनत की थी। बूटा सिंह के परिवार में पत्नी, दो बेटे और एक बेटी हैं।