संभावित तीसरी लहर को थामने की तैयारी, पीएम मोदी ने दिए 1500 ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने के निर्देश

कोरोना की तीसरी लहर की संभावनाओं के बीच पीएम मोदी ने संभाला कमान, देशभर में तत्काल लगाए जाएंगे डेढ़ हजार ऑक्सीजन प्लांट्स, 4 लाख ऑक्सीजन बेड्स की क्षमता बढ़ाने पर जोर

Updated: Jul 09, 2021, 05:34 PM IST

संभावित तीसरी लहर को थामने की तैयारी, पीएम मोदी ने दिए 1500 ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने के निर्देश

नई दिल्ली। केंद्रीय कैबिनेट विस्तार के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पहली हाई लेवल मीटिंग ली है। पीएम की यह बैठक स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर थी। पीएम मोदी ने इस बैठक के दौरान अधिकारियों को कई अहम निर्देश दिए। पीएमओ द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक उन्होंने देशभर में तत्काल 1500 ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने के निर्देश दिए जिससे करीब 4 लाख ऑक्सिजनयुक्त बेड्स स्थापित हो सकेंगे।

कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर को लेकर केंद्र सरकार ने युद्ध स्तर की तैयारियां शुरू कर दी है। पीएम केयर्स फंड से ये ऑक्सीजन प्लांट देश के विभिन्न राज्यों और जिलों में स्थापित किए जा रहे हैं। पीएम मोदी ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी प्लांट जल्द से जल्द संचालित किए जाएं। उन्होंने कहा है कि इसके लिए राज्य सरकारों का भी सहयोग अहम है। इस दौरान अधिकारियों ने बताया कि वे ऑक्सीजन संयंत्रों की फास्ट ट्रैकिंग के लिए राज्य सरकारों के संपर्क में हैं।

पीएम मोदी ने अस्पताल के स्टॉफ को ऑक्सीजन प्लांट या बेड के संचालन को लेकर पर्याप्त प्रशिक्षण और ऐसे संयंत्रों की मरम्मत को लेकर भी हिदायत दी। उन्होंने अधिकारियों को कहा कि वो ऑक्सीजन प्लांट के रखरखाव और उसे चलाने की ट्रेनिंग अस्पतालों के स्टाफ को भी दिलवाने का इंतजाम करें। हर जिले में इन प्लांट को चलाने के लिए प्रशिक्षित लोग होने चाहिए। साथ ही ऑक्सीजन प्लांट के संचालन और निगरानी के लिए इंटरनेट ऑफ थिंग्स जैसी डिजिटल तकनीकों के इस्तेमाल पर जोर दिया। 

यह भी पढ़ें: केरल में फैला जीका वायरस, 13 लोग पॉजिटिव, अलर्ट पर सरकार, जानें कितना खतरनाक है यह वायरस

मीटिंग के दौरान अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को बताया कि ट्रेनिंग का मॉड्यूल विशेषज्ञों द्वारा तैयार कर लिया गया है और देश भर में 8,000 लोगों को ट्रेनिंग देने का हमारा टारगेट है। दरअसल, इस साल मार्च से मई तक चली दूसरी लहर के दौरान देशभर में ऑक्सीजन की भारी किल्लत उत्पन्न हो गई थी और सांसें न मिल पाने के कारण ही हजारों लोगों की मौत हुई। इस बात को लेकर केंद्र सरकार की खासी किरकिरी हुई। दूसरी लहर से सबक लेते हुए केंद्र ने अब ऑक्सीजन प्लांट्स स्थापित करने पर जोर दिया है।