ईद के दिन जोधपुर में सांप्रदायिक तनाव, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, इंटरनेट सेवाएं ठप

जोधपुर में झंडा लगाने की बात पर सोमवार आधी रात को दो पक्ष आमने-सामने हो गये, इस दोनों पक्षों की तरफ से करीब एक दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गये, बाद में भारी पुलिस फोर्स ने मौके पर पहुंचकर भीड़ को खदेड़ा

Updated: May 03, 2022, 10:11 AM IST

ईद के दिन जोधपुर में सांप्रदायिक तनाव, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, इंटरनेट सेवाएं ठप

जोधपुर। आज देशभर में बड़ी धूमधाम से ईद मनाई जा रही है। लेकिन ईद के दिन राजस्थान के जोधपुर से सांप्रदायिक तनाव की घटना सामने आ रही है। यहां सोमवार देर रात झंडे लगाने को लेकर हुए विवाद के बाद जमकर पत्थरबाजी हुई। प्रशासन से शहर में रात 1 बजे से ही इंटरनेट सेवाएं सस्पेंड करवा दी है।

जानकारी के अनुसार बवाल की शुरुआत जोधपुर शहर के हदृयस्थल जालोरी गेट पर झंडे लगाने को लेकर हुआ। इस बात को लेकर दोनों समुदाय के लोग आमने सामने हो गये। बाद में यह विवाद बढ़ गया। विवाद की सूचना पर वहां दोनों समुदायों के लोगों की भीड़ बढ़ती गई। देखते ही देखते बातचीत मारपीट और पत्थरबाजी तक पहुंच गई। उसके बाद वहां दोनों तरफ से जमकर पत्थर बरसने शुरू हो गये।

हालात बिगड़ने की सूचना पर पुलिस-प्रशासन के आला अधिकारी, करीब दस थानों की पुलिस, अतिरिक्त जाब्ता और आरएसी के जवान लेकर वहां पहुंचे। उन्होंने दोनों पक्षों को समझाने का प्रयास किया लेकिन मामला लगातार बिगड़ता ही चला गया। इस पर पुलिस-प्रशासन ने हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को खदेड़ा और हालात को संभाला। लेकिन तब तक चार पत्रकारों और कैमरामैन समेत दोनों पक्षों के एक दर्जन लोग जख्मी हो चुके थे। पुलिस ने जालोरी गेट चौरोह के सभी रास्ते बंद कर दिये हैं।

बता दें कि जालोरी गेट पर ही जोधपुर शहर की सबसे बड़ी मस्जिद है। इस इलाके को बड़ी ईदगाह क्षेत्र कहा जाता है। यहां ईद पर बड़े स्तर पर सामूहिक रूप से नमाज होती है। कोरोना काल के कारण 2 साल से सामूहिक नमाज नहीं हो सकी थी। लिहाजा इस बार इसकी व्यापक तैयारियां की गई थी। इसके लिये बेरिकेडिंग आदि की हुई थी। लेकिन आधी रात को हुये बवाल में इस बेरिकेडिंग को तोड़ दिया गया।