उत्तराखंड सुरंग में फंसे श्रमिकों को बचाने का अभियान अंतिम चरण में पहुंचा, 13 दिन से फंसे हैं 41 श्रमिक

उत्तराखंड में उत्तरकाशी की सिलक्यारा सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों को बाहर निकालने का अभियान 13वें दिन भी जारी है। रेस्क्यू में आ रही दिक्कत से सभी की सांसें अटकी हुई हैं।

Updated: Nov 24, 2023, 09:15 AM IST

उत्तराखंड में उत्तरकाशी की सिलक्यारा सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों को बाहर निकालने का अभियान 13वें दिन भी जारी है। उत्तरकाशी टनल में फंसे 41 मजदूरों के बाहर निकलने का इंतजार पूरा देश कर रहा है। लेकिन रेस्क्यू में आ रही दिक्कत से सभी की सांसें अटकी हुई हैं। कभी सरिया तो कभी पत्थर उन तक पहुंचने में बाधा बन रहे हैं।

गुरुवार को फिर ऐसा ही हुआ। रेस्क्यू ऑपरेशन के 12वें दिन अमेरिकी ऑगर ड्रिल मशीन तीन बार रोकनी पड़ी। देर शाम ड्रिलिंग के दौरान तेज कंपन होने से मशीन का प्लेटफाॅर्म धंस गया। इसके बाद ड्रिलिंग शुक्रवार सुबह तक रोक दी गई। हालांकि, एक्सपर्ट्स ने आज सुबह 8 बजे तक इसे अब दुरुस्त कर लिया और जल्द ड्रिलिंग का काम शुरू हो जाएगा।

ड्रिलिंग के दौरान यदि कोई बाधा नहीं आती है, तो आज 41 मजदूरों को बाहर निकाला जा सकता है। टनल के अंदर फंसे उन्हें आज 13वां दिन है। फंसे 41 मजदूरों के लिए खाने-पीने के लिए पैकेट भी तैयार किए जा रहे हैं। उन्हें सुबह के नाश्ते में दलिया और फ्रूट्स भेजे जाएंगे।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) सैयद अता हसनैन के अनुसार, फंसे हुए श्रमिकों को बचाने के लिए हॉरिजोंटल ड्रिलिंग ऑपरेशन में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। हसनैन ने जोर देकर कहा कि कार्य की अप्रत्याशित और चुनौतीपूर्ण प्रकृति को देखते हुए, बचाव अभियान के लिए समय सीमा की भविष्यवाणी करना अविवेकपूर्ण होगा।

हसनैन ने आगे कहा कि 41 एम्बुलेंस (प्रत्येक फंसे हुए श्रमिक के लिए एक) सुरंग स्थल पर तैनात हैं, और गंभीर रूप से घायल श्रमिकों को हवाई मार्ग से ले जाने की व्यवस्था की गई है। जैसे ही मजदूर बाहर आते हैं, उन्‍हें उचित मेडिकल सहायता प्रदान की जाएगी।