गहलोत को CM पद से हटाने की थी साजिश, शांति धारीवाल का अजय माकन पर सीधा हमला

धारीवाल ने कहा कि हम सोनिया जी के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन हम धोखेबाजी और धोखेबाजों को नहीं टॉलरेट कर सकते। अजय माकन यहां गहलोत सरकार के खिलाफ साजिश रच रहे थे।

Updated: Sep 26, 2022, 10:54 PM IST

गहलोत को CM पद से हटाने की थी साजिश, शांति धारीवाल का अजय माकन पर सीधा हमला

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस के अंदर चल रही खींचतान रुकने का नाम नहीं ले रही है। सीएम गहलोत के करीबी माने जाने वाले शांति धारीवाल ने अब एआईसीसी में राजस्थान प्रभारी अजय माकन पर सीधा हमला बोला है। धारीवाल ने आरोप लगाया कि माकन गहलोत को सीएम पद से हटाने की साजिश रच रहे थे।

धारीवाल ने सोमवार को मीडिया से कहा कि अजय माकन एकतरफा फैसला करने वाले थे। माकन सिर्फ सचिन पायलट को ही प्रमोट करने को लेकर काम कर रहे हैं। वो चाहते हैं कि सचिन पायलट को ही राज्य का नया सीएम बनाया जाए। अजय माकन के इस रवैये की वजह से पार्टी के विधायकों ने मुझे कॉल किया था। सभी विधायक गुस्से में थे।

धारीवाल ने आगे कहा कि हम सोनिया जी के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन हम धोखेबाजी और धोखेबाजों को नहीं टॉलरेट कर सकते। धारीवाल ने अजय माकन पर साजिश रचने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अजय माकन एक साजिश के तहत अशोक गहलोत को सीएम पद से हटाकर सचिन पायलट को सीएम बनाना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें: गुलाम नबी की नयी पार्टी का नाम होगा डेमोक्रेटिक आजाद पार्टी, नवरात्रि के पहले दिन हुई लॉन्चिंग

शांति धारीवाल ने मीडिया से कहा कि ये बात गलत है कि मैंने विधायक दल की बैठक के समान्तर मैंने एक बैठक बुलाई थी। मैंने किसी विधायको अपने घर नहीं बुलाया था। वो तो खुद विधायकों ने मुझे फोन किया था। इसके बाद वो मिलने आए। मैं तो आपको साफ कर देना चाहता हूं कि हमारे पास तो तब भी बहुमत रहेगा जब पायलट छोड़कर चले जाते हैं। कई दिनों से लगातार ये सूचनाएं आ रही थीं कि माकन सचिन पायलट के पक्ष में प्रचार करने के लिए कहा करते थे। वह विधायकों को उनसे जुड़ने के लिए कहा करते थे, हमारे पास इसके सबूत हैं।

इससे पहले अजय माकन ने सोनिया गांधी से मुलाकात करने के बाद दिल्ली में मीडिया से बात की थी। उन्होंने इस दौरान कहा कि, 'कांग्रेस अध्यक्ष को मैने और खड़गे जी ने राजस्थान की स्थिति से अवगत कराया है। सोनिया गांधी ने हमसे एक लिखित रिपोर्ट हमसे मांगी है। हम वो रिपोर्ट आज रात या कल सुबह तक दे देंगे।' अब देखना ये होगा कि हाई कमान द्वारा राजस्थान मामले में क्या फैसला लिया जाता है। कयास लगाए जा रहे हैं कि बागियों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जा सकता है।