फ्लाईओवर हादसे में अनाथ हुई बच्ची को छत्तीसगढ़ सरकार ने लिया गोद, सीएम बघेल ने दी जानकारी

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के कुम्‍हारी ओवरब्रिज हादसे में दंपती की मौत के बाद अनाथ हुई बच्ची को राज्य सरकार ने गोद लिया है। बच्ची की समस्त जिम्मेदारी अब सरकार की है।

Updated: Dec 20, 2022, 03:44 PM IST

फ्लाईओवर हादसे में अनाथ हुई बच्ची को छत्तीसगढ़ सरकार ने लिया गोद, सीएम बघेल ने दी जानकारी

रायपुर। कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के कुम्‍हारी फ्लाईओवर ब्रिज हादसे में दंपती की मौत के बाद अनाथ हुई बच्ची को राज्य सरकार ने गोद लिया है। बच्ची की समस्त जिम्मेदारी अब सरकार की है। मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। 

सीएम बघेल ने अपने ट्वीट में लिखा है कि इस दुखद घटना में अनाथ हुई बच्ची अब हम सबकी जिम्मेदारी है। हमने इस बच्ची को गोद लेने का निर्णय लिया है। बच्ची की समस्त जिम्मेदारी अब सरकार की है।

दरअसल 9-10 दिसंबर की रात 12 बजे के करीब कुम्हारी में एक निर्माणाधीन फ्लाइओवर से एक बाइक नीचे गिर गई थी। इस हादसे में रायपुर के चंगोराभाठा निवासी आजू राम देवांगन और उनकी पत्नी निर्मला देवांगन की मौके पर ही मौत हो गई। बाइक पर सवार 13 साल की उनकी बेटी अन्नू देवांगन घायल हो गई थी।

हादसे की जांच में पता चला कि निर्माण एजेंसी ने फ्लाइओवर के एंट्री पर ऐसा कोई अवरोध या साइन नहीं लगाया था, जिससे पता चले कि वह अधूरा है। रात में दुर्ग से रायपुर के लिए निकले आजूराम खतरे का अंदाजा नहीं लगा पाए और फ्लाइओवर पर चढ़ गए। 100 मीटर आगे उन्हें पुल अधूरा दिखा तो उन्होंने ब्रेक लगाया, लेकिन बाइक की स्पीड नियंत्रित नहीं हो पाई और पति, पत्नी और बेटी के साथ वे नीचे गिर गए।

सीएम बघेल ने इस मामले में सक्रियता दिखाते हुए दोषी कंपनी के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए थे। कंपनी की तरफ से भी अनाथ बच्ची को 15 लाख रुपए दिए गए हैं।