एक महीने में हम जितना रूस से तेल खरीदते हैं, उतना यूरोप एक दिन में खरीद लेता है: एस जयशंकर

विदेश मंत्री एस जयशंकर से प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पूछा गया रूस से तेल खरीद से जुड़ा सवाल, जवाब में विदेश मंत्री ने दिया तेल खरीद के आंकड़ों का हवाला

Updated: Apr 12, 2022, 08:41 PM IST

एक महीने में हम जितना रूस से तेल खरीदते हैं, उतना यूरोप एक दिन में खरीद लेता है: एस जयशंकर

नई दिल्ली। यूक्रेन रूस के बीच जारी संघर्ष के बीच भारत रूस से तेल की खरीद कर रहा है। अमेरिका में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विदेश मंत्री एस जयशंकर से इसी खरीद से जुड़ा एक सवाल पूछा गया। जिसके जवाब में एस जयशंकर ने कहा कि जितना हम एक महीने में रूस से तेल की खरीद करते हैं, उतना तो यूरोप एक दिन में खरीद लेता है। 

2+2 मंत्री स्तरीय बैठक के बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह क्रमशः अपने अमेरिकी समकक्षों एंटोनी ब्लिंकन और लॉयड ऑस्टिन के साथ एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान एक पत्रकार ने युद्ध के दौरान रूस से भारत की तेल खरीद पर सवाल कर दिया। 

पत्रकार के सवाल पर एस जयशंकर ने तेल खरीद के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि मैंने देखा है कि आप तेल खरीद का उल्लेख कर रहे हैं। लेकिन अगर आप रूस से भारत की तेल खरीद को देख रहे हैं तो आपका ध्यान यूरोप पर भी होना चाहिए। हम अपनी ऊर्जा सुरक्षा के लिहाज से ऊर्जा खरीद करते हैं। लेकिन मुझे आंकड़ों पर संदेह है। एक महीने में हमारी कुल खरीद यूरोप की एक दिन में हुई कुल खरीद के मुक़ाबले कम ही होगी। 

यह भी पढ़ें : मैंने राष्ट्रपति पुतिन को यूक्रेन के राष्ट्रपति से बातचीत का सुझाव दिया: जो बाइडेन से बोले पीएम मोदी

इससे पहले अमेरिका की तरफ़ से कहा गया था कि रूस से ऊर्जा के आयात पर प्रतिबंध नहीं है और भारत अमेरिका के प्रतिबंधों का उल्लंघन नहीं कर रहा है। वहीं व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जेन साकी ने अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हुई बातचीत को लेकर कहा कि दोनों नेताओं के बीच सकारात्मक बातचीत हुई। हालांकि साकी ने यह भी बताया कि बातचीत के दौरान राष्ट्रपति बाइडेन ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा कि रूस से हर आयात को बढ़ाना भारत के हित में नहीं है।