पीएचडी और मास्टर डिग्री की कोई वैल्यू नहीं है, हमें देखो बिना पढ़े ही महान हैं: तालिबानी शिक्षा मंत्री का छात्रों के नाम संदेश

अफगानिस्तान में सरकार गठन के बाद तालिबानी आतंकियों के मंसूबे सामने आए, नए नवेले शिक्षा मंत्री का अजीबोगरीब बयान, बोले- अब पीएचडी और मास्टर डिग्री की कोई जरूरत नहीं

Updated: Sep 08, 2021, 05:49 PM IST

पीएचडी और मास्टर डिग्री की कोई वैल्यू नहीं है, हमें देखो बिना पढ़े ही महान हैं: तालिबानी शिक्षा मंत्री का छात्रों के नाम संदेश

काबुल। अफगानिस्तान में तालिबानी सरकार के गठन के साथ ही नए मंत्रिमंडल के काम करने के तौर-तरीकों की झलक मिलने लगी है। तालिबानी सरकार में नए नवेले शिक्षा मंत्री ने छात्रों से कहा है कि अब पीएचडी करने या मास्टर्स डिग्री रखने वालों की कोई वैल्यू नहीं है। उन्होंने उदाहरण स्वरूप पढ़े लिखे लोगों की तुलना तालिबानी सरकार के मंत्रियों से करते हुए कहा है कि हम बिना पढ़े-लिखे भी महान हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक अफगानिस्तान के शिक्षा मंत्री बनने के बाद शेख मौलवी नुरुल्ला मुनीर ने छात्रों के नाम एक संदेश जारी किया। इस दौरान उन्होंने उच्च शिक्षा की प्रासंगिकता पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज पीएचडी और मास्टर्स डिग्री की कोई वैल्यू नहीं है। आप देख सकते हैं कि मुल्ला और हम तालिबानी नेता जो आज सत्ता में हैं, हमारे पास पीएचडी, एमए क्या हाईस्कूल की भी डिग्री नहीं है। लेकिन आज डिग्री न होने के बावजूद भी हम सबसे महान हैं।

यह भी पढ़ें: मासूम लोगों ने चुकाई तालिबान के जश्न की कीमत, हवाई फायरिंग में 17 लोगों की मौत

तालिबानी शिक्षा मंत्री का यह बयान सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है। यूजर्स इस बयान को लेकर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। एक ट्विटर यूजर ने लिखा है कि इस तरह के मूर्ख लोगों को शिक्षा मंत्री बनाया जाना अफगानिस्तान के भविष्य के लिए विनाशकारी है। वहीं एक अन्य यूजर ने शिक्षा मंत्री पद की प्रासंगिकता पर ही सवाल उठाते हुए कहा है कि बम-बारूद वाले तालिबानी राज में शिक्षा विभाग के मंत्री की कोई वैल्यू नहीं है। 

बता दें कि अफगानिस्तान पर क़ब्ज़े के 3 हफ्ते बाद मंगलवार को आखिरकार अफगानिस्तान में सरकार का गठन हो गया है। हालांकि तालिबान ने इसे अंतरिम सरकार है। फिलहाल मुल्ला हसन अखुंद को प्रधानमंत्री बनाया गया है। जबकि तालिबान के सह संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को उप प्रधानमंत्री बनाया गया है।

यह भी पढ़ें: अफ़ग़ानिस्तान में तालिबानी सरकार का गठन, मुल्ला हसन अखुंद पीएम और अब्दुल गनी बरादर बने डिप्टी पीएम

 तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर के बेटे, मुल्ला याकूब को अफगानिस्तान का रक्षा मंत्री बनाया गया है। जबकि अमीर मुत्तकी को विदेश मंत्री के पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं गृह मंत्री के पद की जिम्मेदारी सिराजुद्दीन हक्कानी को सौंपी गई है। अफगानिस्तान के होने वाले नए प्रधानमंत्री का नाम वैश्विक आतंकवादियों की सूची में है। जबकि गृहमंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी की सूचना देने पर अमेरिका ने तो 50 लाख डॉलर का इनाम भी घोषित कर रखा है।