पंजशीर पर तालिबान के कब्जे के दावे को नॉर्दर्न एलायंस ने किया खारिज, कहा, आजादी मिलने तक जारी रहेगी जंग

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि तालिबानी लड़ाकों ने पंजशीर पर अपना कब्जा जमा लिया है, लेकिन नॉर्दर्न एलायंस ने इस दावे को खारिज किया है

Publish: Sep 06, 2021, 12:37 PM IST

पंजशीर पर तालिबान के कब्जे के दावे को नॉर्दर्न एलायंस ने किया खारिज, कहा, आजादी मिलने तक जारी रहेगी जंग
काबुल में हवाई फायरिंग करते हुए तालिबानी

नई दिल्ली। अफगानिस्तान में तालिबान और नॉर्दर्न एलायंस के बीच जारी संघर्ष के बीच तालिबान द्वारा पंजशीर को हथियाने का दावा शुरू हो गया है। लेकिन खुद नॉर्दर्न एलायंस ने पंजशीर पर तालिबानी कब्जे के दावे को खारिज किया है। नॉर्दर्न एलायंस ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा है कि आजादी और न्याय मिलने तक तालिबान के खिलाफ उनका संघर्ष जारी रहेगा। 

अफगानिस्तान के नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट ने अपने ट्विटर हैंडल से इस सिलसिले में एक ट्वीट किया है। NRF ने ट्वीट में कहा है कि पंजशीर पर कब्जे का तालिबान का दावा झूठा है। NRF पंजशीर घाटी के महत्वपूर्ण ठिकानों पर संघर्ष के लिए अब भी काबिज है। ट्वीट में अफगानिस्तान के लोगों को आश्वासन देते हुए कहा है कि आजादी और न्याय मिलने तक तालिबान और उसके सहयोगियों के खिलाफ नॉर्दर्न एलायंस का संघर्ष जारी रहेगा। 

दरअसल मीडिया रिपोर्ट्स में तालिबान द्वारा पंजशीर को अपने कब्जे में किए जाने का दावा किया जा रहा था। तालिबान के प्रवक्ता के हवाले से विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में इस बात का उल्लेख किया गया कि तालिबान ने पंजशीर के आठ जिलों को हथिया लिया है। वहीं सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें भी वायरल हो रही हैं, जिनमें तालिबानी लड़ाकों को पंजशीर में गवर्नर हाउस के बाहर देखा गया है।

यह भी पढ़ें : मासूम लोगों ने चुकाई तालिबान के जश्न की कीमत, हवाई फायरिंग में 17 लोगों की मौत

इससे पहले शुक्रवार रात को भी कथित तौर पर पंजशीर पर कब्जा जमाने के बाद तालिबानी लड़ाकों ने काबुल में हवाई फायरिंग की थी। इस फायरिंग में मासूम बच्चों समेत कम से कम 17 लोगों की जान चली गई थी। जबकि 40 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। वहीं शनिवार को काबुल में महिलाओं ने एक मार्च भी निकाला था। जिसमें उन्होंने तालिबानी हुकूमत से उनके अधिकार वापस देने की मांग की थी। महिलाएं अपनी बच्चियों को पढ़ाई करने की छूट देने की मांग कर रही थीं। इस दौरान तालिबान ने महिलाओं पर आंसू गैस के गोले छोड़े थे।