कोविड क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप में अपराधियों को शामिल करने पर बिफरे गोविंद सिंह, खुद को समिति से किया अलग

भिंड के लहार और रौन ब्लॉक का मामला, कोरोना नियंत्रण के लिए बनाई गई समिति में ज़्यादातर बीजेपी के सदस्यों को किया गया शामिल, ज़्यादातर नेताओं पर हैं आपराधिक मुकदमे दर्ज, कांग्रेस नेता गोविंद सिंह ने समिति से खुद को और कांग्रेस के अन्य नेताओं को किया अलग, लहार एसडीएम पर लगे भाजपा के दबाव में काम करने का आरोप

Updated: May 22, 2021, 03:42 PM IST

कोविड क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप में अपराधियों को शामिल करने पर बिफरे गोविंद सिंह, खुद को समिति से किया अलग
Photo Courtesy: NDTV

भिंड। भिंड जिले में लहार विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले लहार और रौन ब्लॉक ब्लॉक में कोरोना नियंत्रण हेतु गठित की गई समिति से कांग्रेस नेता गोविंद सिंह ने खुद को और समिति में शामिल कांग्रेस के नेताओं को समिति से अलग कर लिया है। समिति में शामिल 90 फीसदी सदस्य भाजपा से ताल्लुक रखते हैं और ज़्यादातर सदस्यों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। गोविन्द सिंह ने लहार के एसडीएम आरए प्रजापति पर भाजपा के दबाव में काम करने का आरोप लगाते हुए समिति से अलग होने की घोषणा की है। 

कांग्रेस नेता गोविंद सिंह ने इसकी जानकारी भिंड कलेक्टर सतीश कुमार को दी है। कांग्रेस नेता ने सतीश कुमार को लिखे अपने शिकायत पत्र में कहा है कि 12 मई को कलेक्टर ने क्षेत्र में कोरोना की रोकथाम के लिए क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप का गठन किया था। गोविन्द सिंह ने कहा है कि इस समिति में शामिल लगभग 90 फीसदी सदस्य सत्ताधारी दल यानी बीजेपी के हैं। कांग्रेस नेता ने कहा है कि इनमें ज़्यादातर लोगों पर अपराधिक मामले दर्ज हैं, कई सजायाफ्ता भी हैं। कांग्रेस नेता ने यह भी कहा है कि समिति के कई सदस्य तो लहार या रौन में रहते ही नहीं। 

यह भी पढ़ें : नरोत्तम मिश्रा ने कमल नाथ से मांगा था मौतों का प्रमाण, जीतू पटवारी ने खुद सीएम के सामने इंदौर में तीस हजार मौतों का आंकड़ा किया पेश

इसके साथ ही गोविंद सिंह ने लहार के एसडीएम आरए प्रजापति पर भाजपा नेताओं के दबाव में काम करने का आरोप लगाया है। गोविन्द सिंह ने कहा है कि भाजपा के नेताओं ने एसडीएम कार्यालय में बैठकर समिति के सदस्यों की लिस्ट तैयार कराई। जिससे पता चलता है कि एसडीएम कार्यालय एसडीएम द्वारा नहीं बल्कि बीजेपी के नेताओं द्वारा संचालित किया जा रहा है। कांग्रेस नेता ने कहा है कि इन कारणों से वे खुद और समिति में शामिल कांग्रेस के अन्य सदस्य काम करने में असमर्थ हैं। लिहाज़ा समिति में शामिल कांग्रेस के सभी नेताओं सहित वे खुद भी इस समिति से अलग हो रहे हैं। 

दूसरी तरफ कोविड क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं। सोशल मीडिया पर समिति के वॉट्सएप ग्रुप में की गई बातचीत भी वायरल हो रही है। जिसमें समिति के सदस्य और रौन ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्ष सत्येंद्र सिंह राजावत कह रहे हैं कि ग्रुप में कोविड क्राइसिस मैनेजमेंट की योजना के इतर बीजेपी की वर्चुअल मीटिंग की खबरें प्रेषित की जा रही हैं।