मध्य प्रदेश में कोरोना ने बढ़ाई चिंता, महाराष्ट्र से आने वाली बसों के प्रवेश पर रोक

महाराष्ट्र में बेकाबू हो चुके संक्रमण के फैलाव को देखते हुए राज्य से आने-जाने वाली यात्री बसों के आवागमन पर 20 मार्च से 31 मार्च तक के लिए रोक लगा दी गयी है

Updated: Mar 19, 2021, 09:36 AM IST

मध्य प्रदेश में कोरोना ने बढ़ाई चिंता, महाराष्ट्र से आने वाली बसों के प्रवेश पर रोक
Photo Courtesy: News18

भोपाल। मध्य प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों ने राज्य सरकार की चिंता बढ़ा दी है। राज्य में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए राज्य सरकार ने सख्त फैसले लेना शुरू कर दिया है। मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में महाराष्ट्र से आने वाली बसों के प्रवेश पर रोक लगा दी है। सरकारी आदेश के मुताबिक 20 मार्च से मध्य प्रदेश से महाराष्ट्र न तो बसें जाएंगी और न ही आएंगी। 

गुरुवार को सीएम शिवराज ने कोरोना को लेकर कैबिनेट मंत्रियों और सभी विभागों के अधिकारियों के साथ एक अहम बैठक की। वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई इस बैठक में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कोरोना संक्रमण फिर तेजी से फैल रहा है। इसके नियंत्रण के‍ लिए आर्थिक गतिविधियों पर रोक नहीं लगाई जा सकती। व्यापार और रोजगार में कोरोना से बचाव के लिए सावधानियों का कड़ाई से पालन करें, नहीं तो सरकार कड़ाई करेगी। यह प्रदेश में गुड गवर्नेंस की परीक्षा है। बिना पैनिक हुए हमें कोरोना को परास्त करना है।

इस दौरान राज्य परिवहन प्राधिकरण के अधिकारियों ने बताया कि 'कोरोना के बढ़ते मामलों देखते हुए महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के बीच अंतरराज्यीय बसों की आवाजाही को अस्थायी रूप से प्रतिबंधित कर दिया गया है। यह प्रतिबंध 20 मार्च से 31 मार्च तक लागू रहेगा।' इसके साथ ही ग्वालियर, जबलपुर सहित प्रदेश के सर्वाधिक प्रभावित जिलों उज्जैन, सागर, बैतूल, बुरहानपुर, खरगोन, रतलाम और‍ छिंदवाड़ा में भी रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक व्यावसायिक प्रतिष्ठान और बाजार बंद रखने का फैसला लिया गया है।'

सीएम शिवराज ने बैठक के दौरान कहा कि प्रदेश को बेहद मुश्किल हालात से निपटने के लिए भी तैयार रहना होगा। सीएम के इस बयान को लॉकडाउन की आहट के रूप में देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि अगर इसी तरह से राज्य में संक्रमण का फैलाव बढ़ता गया, तो कुछ जगहों पर लॉकडाउन जैसे सख्त फैसले लिए जा सकते हैं। बैठक के दौरान जानकारी दी गई कि पिछले सात दिन में इंदौर में 1778, भोपाल में 1170, जबलपुर में 358, ग्वालियर में 185, उज्जैन में 187, रतलाम में 162, छिंदवाड़ा में 147, बुरहानपुर में 130, बैतूल में 110 और खरगोन में 92 कोरोना पॉजिटिव प्रकरण दर्ज किए गए हैं।

इस दौरान सीएम शिवराज ने कहा कि ग्वालियर व्यापार मेला कबतक चलेगा इस बारे में निर्णय लेने का अधिकार क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप को दिया गया है। बीते 24 घंटों की बात की जाए तो राज्य में कुल 917 नए कोरोना मामले सामने आए हैं। इसके अलावा 500 मरीज इस बीमारी से ठीक हुए हैं और एक मरीज की मौत भी हुई है। इसके साथ ही राज्य में कुल एक्टिव मामलों की संख्या 6,032 तक पहुंच गई है।