नीमच कलेक्टर का बड़ा आरोप, कोरोना पर नियंत्रण के लिए फंड नहीं दे रही है शिवराज सरकार

कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ द्वारा लगाए गए तमाम आरोप अब सच साबित हो रहे हैं, केके मिश्रा के मुताबिक कोरोना जागरूकता के लिए मुख्यमंत्री द्वारा किया गया स्वास्थ्य आग्रह महज़ फोटो सेशन के लिए किया गया था

Updated: Apr 07, 2021, 04:00 PM IST

नीमच कलेक्टर का बड़ा आरोप, कोरोना पर नियंत्रण के लिए फंड नहीं दे रही है शिवराज सरकार
Photo Courtesy : India Tv

भोपाल। शिवराज सरकार ने प्रदेश में बेकाबू होते कोरोना को नियंत्रित करने के बजाय ज़िलों को फंड देना भी रोक दिया है। यह दावा खुद नीमच कलेक्टर मयंक अग्रवाल ने किया है। नीमच कलेक्टर मयंक अग्रवाल के मुताबिक इस समय ज़िले में कोरोना को नियंत्रित करने के लिए रेडक्रॉस के फंड से ही सारी व्यवस्था की जा रही है। कलेक्टर के मुताबिक इस समय ज़िले में साधन से लेकर संसाधन तक का आभाव है।  

यह भी पढ़ें : जब भी जनता को सरकार की ज़रूरत होती है तो शिवराज जी उपवास पर बैठ जाते हैं, शिवराज के स्वास्थ्य आग्रह कर कमल नाथ का वार

नीमच कलेक्टर ने यह बात मुख्यमंत्री के साथ हुई वर्चुअल बैठक के बाद पत्रकारों से बात करने के दौरान कही। मयंक अग्रवाल ने पत्रकारों को बताया कि इस समय राज्य सरकार की तरफ से कोरोना को काबू में करने के लिए किसी तरह की कोई आर्थिक सहायता नहीं दी जा रही है।  हालांकि कलेक्टर ने खुद ज़िला प्रशासन के स्तर पर किए जा रहे प्रयासों को ज़रूर बताया। मयंक अग्रवाल ने बताया कि नीमच का जिला प्रशासन किसी मैरिज गार्डन या निजी होटल को कोविड केयर सेंटर बनाने पर विचार कर रहा है।  

यह भी पढ़ें : प्रदेश में कहीं ऑक्सीजन तो कहीं इंजेक्शन की कमी से जूझ रहे लोग, लेकिन मुख्यमंत्री योगा करने में व्यस्त

सीएम साहब सुझाव नहीं समाधान कीजिए : केके मिश्रा 
नीमच की दुर्दशा का हवाला देते हुए कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोला है। केके मिश्रा ने शिवराज के स्वास्थ्य आग्रह का ज़िक्र करते हुए कहा कि शिवराज जी ने "स्वास्थ्य सत्याग्रह" में कोरोना के लिए नागरिकों से सुझाव लिए। सीएम साहब सुझाव नहीं समाधान कीजिए। जो कि दिखाई नहीं दे रहे हैं।  

केके मिश्रा ने कहा कि आपके कलेक्टर,नीमच कह रहे हैं कोविड के नाम पर सरकार ने कोई फंड नहीं दिया? यह कमलनाथ जी के आरोप की पुष्टि है।शायद उद्देश्य "फोटो" ही था,जो हो गया? दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जब सोमवार को अपने स्वास्थ्य आग्रह के कार्यक्रम की घोषणा की। तब कमल नाथ ने इसे शिवराज की नौटंकी करार देते हुए कहा था कि जब भी प्रदेश की जनता को सरकार की ज़रूरत होती है, तब शिवराज सिंह चौहान जनता का मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए उपवास पर बैठ जाते हैं।