पन्ना राजघराने की महारानी जीतेश्वरी देवी गिरफ्तार, संपत्ति विवाद मामले में राजमाता ने जताया था जान का खतरा

पन्ना की महारानी ने गिरफ्तारी को बताया साजिश, बोलीं महाराज की बीमारी का उठाया जा रहा गलत फायदा, राजमाता दिलहर कुमारी ने पुलिस में की थी शिकायत, जान से मारने की धमकी का लगाया था आरोप

Updated: Jul 22, 2021, 03:27 PM IST

पन्ना राजघराने की महारानी जीतेश्वरी देवी गिरफ्तार, संपत्ति विवाद मामले में राजमाता ने जताया था जान का खतरा
Photo Courtesy: twitter

पन्ना। पन्ना राजघराने का संपत्ति विवाद एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार राजमाता दिलहर कुमारी नहीं बल्की महारानी जीतेश्वरी देवी को घर से बाहर का रास्ता दिखाया गया है। राजमाता की शिकायत पर पन्ना कोतवाली पुलिस ने गुरुवार को महारानी को गिरफ्तार कर लिया है। महारानी के खिलाफ राजमाती दिलहर कुमारी ने थाने में शिकायत की थी। जिसके बाद पुलिस ने राजमाता को जान से मारने की धमकी, बलवा करने और आर्म्स एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लिया है। पन्ना राजमाता की शिकायत पर पुलिस ने महाराज राघवेंद्र समेत उनके पूरे परिवार पर केस दर्ज कर किया है। दरअसल पन्ना राजपरिवार में अरबों की संपत्ति को लेकर पारिवारिक विवाद चल रहा है। जिससे तंग आकर राजमाता दिलहर कुमारी ने पुलिस में मामला दर्ज करवाया है।

 

गिरफ्तारी से नाराज पन्ना महारानी जीतेश्वरी देवी ने साजिश करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि घर के छोटे से विवाद को बड़ा करके दुनिया को दिखाया जा रहा है। महारानी ने कहा है कि लोगों ने महाराज की तबीयत खराब होने का गलत फायदा उठाया गया है।

कुछ दिन पहले पन्ना राजघराने में प्रापर्टी में स्वामित्व को लेकर विवाद हुआ था, जिससे परेशान होकर राजमाता दिलहर कुमारी ने जून में पन्ना कोतवाली पुलिस में मामला दर्ज करवाया था। राजमाता दिलहर कुमारी का आरोप है कि महाराज और महारानी ने उनके आवास पर आकर हथियार दिखाए, उनसे अभद्रता की और जान से मारने की धमकी दी। अब वे खुद को इन लोगों से असुरक्षित महसूस कर रही हैं। जिसके बाद कोतवाली थाना पुलिस ने एक्शन लेते हुए महारानी को गिरफ्तार कर लिया है। महाराज राघवेंद्र सिंह का स्वास्थ्य खराब है, इसलिए फिलहाल उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पन्ना की रॉयल फैमिली में अरबों-खरबों की प्रापर्टी और हीरों के स्वामित्व को लेकर विवाद करीब 15-16 साल से चल रहा है। परिवार के सदस्य आपस में एक दूसरे पर संपत्ति हड़पने की साजिश का आरोप लगाते रहे हैं। संपत्ति में स्वामित्व का केस कोर्ट में पहले से ही चल रहा है, लेकिन फैसला होने से पहले ही राजमाता और महारानी का आए दिन विवाद मीडिया में सुर्खियों में रहता है।

पन्ना राज परिवार परिवार की अरबों की संपत्ति मध्यप्रदेश के साथ-साथ कई प्रदेशों में हैं। पन्ना के अलावा भोपाल, लखनऊ, दिल्ली, मुंबई समेत कई अन्य जगहों बेशकीमती जमीनें हैं।  

यह पहला मौका नहीं है जब महारानी जीतेश्वरी  पर कोई आरोप लगा है, साल 2008 में पन्ना राजघराने के महाराजा मानवेंद्र सिंह के भाई और स्थानीय विधायक लोकेंद्र सिंह ने पुलिस में शिकायत की थी कि महारानी जीतेश्वरी देवी महल की दीवारें तोड़कर महल गिराने की साजिश की है।अब पन्ना के महाराज लोकेंद्र सिंह इस दुनिया में नहीं हैं, इसी साल 26 जनवरी को निधन हो गया था। उन्होंने भी युवरानी जीतेश्वरी देवी पर जमीनों पर अवैध कब्जा का आरोप लगाया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार साल 2017 में महारानी जीतेश्वरी देवी ने अपनी सास याने राजमाता दिलहर कुमारी, देवर लोकेंद्रे सिंह और उनकी पत्नी को राजमंदिर पैलेस से निकाल दिया था। उन पर आरोप है कि उन्होंने गेट पर ताला जड़ दिया था, जिसकी वजह से राजमाता दिलहर कुमारी को घंटों बारिश में खड़ा रहना पड़ा था। तब जिला प्रशासन की पहल पर राजमाता के साथ सभी को पैलेस में एंट्री मिली थी।