ऑनलाइन क्लास के दौरान आप सच में पढ़ाई करते हैं, या फिर Reels देखते हैं: छात्रों से पीएम का सवाल

परीक्षा पे चर्चा के दौरान छात्रों को पीएम मोदी के टिप्स, बोले- माध्यम नहीं मन समस्या है, जीवन में खुद से जुड़ें, ऑनलाइन से पाकर ऑफलाइन में साकार करें

Updated: Apr 01, 2022, 03:10 PM IST

ऑनलाइन क्लास के दौरान आप सच में पढ़ाई करते हैं, या फिर Reels देखते हैं: छात्रों से पीएम का सवाल

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज परीक्षा पे चर्चा' के दौरान 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्रों को संबोधित किया। इसके लिए दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में विशेष तैयारियां की गई थी, जहां सैंकड़ों की संख्या में छात्रों को बुलाया गया था। पीएम मोदी ने इस दौरान छात्रों से पूछा कि ऑनलाइन क्लास के दौरान आप सच में पढ़ाई करते हैं, या फिर Reels देखते हैं?

छात्रों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, 'मन में तय कर लीजिए कि परीक्षा जीवन का सहज हिस्सा है। हमारी विकास यात्रा के ये छोटे-छोटे पड़ाव हैं। इस पड़ाव से पहले भी हम गुजर चुके हैं। पहले भी हम कई बार परीक्षा दे चुके हैं। जब ये विश्वास पैदा हो जाता है तो आने वाले एक्जाम के लिए ये अनुभव आपकी ताकत बन जाता हैं। त्योहारों के बीच में एग्जाम भी होते हैं। इस वजह से त्योहारों का मजा नहीं ले पाते। लेकिन अगर exam को ही त्योहार बना दें, तो उसमें कईं रंग भर जाते हैं।'

यह भी पढ़ें: एलपीजी सिलेंडर के दाम में 250 रुपये का हुआ इजाफा, 19 KG वाले कमर्शियल सिलिंडर हुआ महंगा

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि, 'जब आप ऑनलाइन पढ़ाई करते हैं तो क्या आप सच में पढ़ाई करते हैं, या reel देखते हैं? दोष ऑनलाइन या ऑफलाइन का नहीं है। क्लासरूम में भी कई बार आपका शरीर क्लासरूम में होगा, आपकी आंखें टीचर की तरफ होंगी, लेकिन कान में एक भी बात नहीं जाती होगी, क्योंकि आपका दिमाग कहीं और होगा। मन कहीं और होगा तो सुनना ही बंद हो जाता है। जो चीजें ऑफलाइन होती हैं, वही ऑनलाइन भी होती हैं। इसका मतलब है कि माध्यम समस्या नहीं है, मन समस्या है। माध्यम ऑनलाइन हो या ऑफलाइन, अगर मन पूरा उसमें डूबा हुआ है, तो आपके लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन का कोई फर्क नहीं पड़ेगा।'

पीएम मोदी ने छात्रों को टिप्स दिया कि, 'दिन भर में कुछ पल ऐसे निकालिए, जब आप ऑनलाइन भी नहीं होंगे, ऑफलाइन भी नहीं होंगे बल्कि इनरलाइन होंगे। जितना अपने अंदर जाएंगे, आप अपनी ऊर्जा को अनुभव करेंगे।अगर इन चीजों को कर लेते हैं तो मुझे नहीं लगता कि ये सारे संकट आपके लिए कोई कठिनाई पैदा कर सकते हैं। आज हम डिजिटल गैजेट के माध्यम से बड़ी आसानी से और व्यापक रूप से चीजों को प्राप्त कर सकते हैं। हमें इसे एक अवसर मानना चाहिए, न कि समस्या।'

बच्चों पर अपने सपने न थोपें: पीएम मोदी

उन्होंने पैरेंट्स और शिक्षकों से कहा कि, 'आप अपने सपने, जिन्हें आप पूरा नहीं कर पाए, उन्हें आप बच्चों पर डालने का प्रयास न करें। हमारे बच्चों के विकास में ये सब बहुत चिंता का विषय है। हर बच्चे की अपनी सामर्थ होती है। परिजनों, शिक्षकों के तराजू में वो फिट हो या न हो, लेकिन ईश्वर ने उसे किसी न किसी विशेष ताकत के साथ भेजा है।  ये आपकी कमी है कि आप उसकी सामर्थ, उसके सपनों को समझ नहीं पा रहे हैं। इससे आपकी बच्चों से दूरी भी बढ़ने लगती है।'

यह भी पढ़ें: जिस स्कीम का आपने मजाक उड़ाया उसी ने कोरोना काल में... लोकसभा में सरकार पर बरसीं सोनिया गांधी

पीएम मोदी ने कहा, 'पुराने जमाने में शिक्षक का परिवार से संपर्क रहता था। परिवार अपने बच्चों के लिए क्या सोचते हैं उससे शिक्षक परिचित होते थे। शिक्षक क्या करते हैं, उससे परिजन परिचित होते थे। लेकिन अब बच्चा दिन भर क्या करता है, उसके लिए मां बाप के पास समय नहीं है। शिक्षक को केवल सिलेबस से लेना देना है कि मेरा काम हो गया, मैंने बहुत अच्छी तरह पढ़ाया। लेकिन बच्चे का मन कुछ और करता है। जब तक हम बच्चे की शक्ति, सीमाएं, रुचि और उसकी अपेक्षा को बारीकी से जानने का प्रयास नहीं करते हैं, तो कहीं न कहीं वो लड़खड़ा जाता है। इसलिए मैं हर अभिभावक और शिक्षक को कहना चाहूंगा कि आप अपने मन की आशा, अपेक्षा के अनुसार अपने बच्चे पर बोझ बढ़ जाए, इससे बचने का प्रयास करें।'