अंधविश्वास ने ली मासूम की जान, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए दिया 6 वर्षीय बच्चे की नर बलि

आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि आरोपी धन दौलत हासिल करने की चाह के चलते बलि देना चाहते थे। और काफी समय से इसकी फिराक में थे।

Updated: Oct 03, 2022, 07:13 PM IST

अंधविश्वास ने ली मासूम की जान, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए दिया 6 वर्षीय बच्चे की नर बलि

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली के अंधविश्वास ने एक मासूम की जान ले ली। यहां दो आरोपियों ने भगवान शिव को खुश करने के लिए 6 वर्षीय बच्चे की गला रेतकर नर बलि दी। आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि आरोपी धन दौलत हासिल करने की चाह के चलते बलि देना चाहते थे। 

घटना लोधी कॉलोनी एरिया में CRPF हेडक्वार्टर्स की कंस्ट्रक्शन साइट पर शनिवार रात को हुई। आरोपियों ने हत्या करने से पहले गांजा पिया था। दोनो आरोपी की पहचान विजय और अमन के रूप में हुई है जो बिहार के रहने वाले हैं और कंस्ट्रक्शन साइट पर मजदूरी करते हैं। जिस बच्चे की हत्या की गई, उसका नाम धर्मेंद्र है। धर्मेंद्र के पिता अशोक भी मजदूर हैं। वे यूपी के बरेली के रहने वाले हैं। 

विजय ने पुलिस से कहा कि सपने में भगवान शंकर आए थे और वे नर बलि मांग रहे थे। रात करीब साढ़े दस बजे 6 साल का धर्मेंद्र अकेला दिखा। विजय और अमन को बच्चा जानता था। इसी का फायदा उठाकर आरोपी उसे अपनी झुग्गी में ले गए। सब्जी काटने वाले चाकुओं से बच्चे का गला रेत दिया। आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि आरोपी धन दौलत हासिल करने की चाह के चलते बलि देना चाहते थे। और काफी समय से इसकी फिराक में थे।

डीसीपी चंदन चौधरी ने बताया है कि आरोपियों ने बच्चे की हत्या से पहले उसके सिर पर कई बार चाकू से हमला किया और फिर उसे चाकू से गला काट दिया। पुलिस जब मौके पर पहुंची थी तो बच्चे की गर्दन काफी कटी हुई थी। उसके माथे पर भी कई निशान थे पुलिस ने बच्चे के शव को बरामद कर लिया। इसके साथ ही आरोपियों के खून से सने कपड़े और चाकू भी बरामद कर लिया। फिलहाल इस मामले में लोधी रोड थाने में एफआईआर दर्ज कर ली गई है और आरोपियों की गिरफ्तारी भी कर ली गई है।