टीएमसी का गंभीर आरोप, शुभेंदु ने नंदीग्राम में बुलाए भाड़े के गुंडे, चुनाव आयोग से की शिकायत

तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखकर कहा है कि निर्वाचन क्षेत्र के बाहरी लोगों से नंदीग्राम में काम करवाया जा रहा है जिनका अलग-अलग जगह क्रिमिनल रिकॉर्ड है

Updated: Mar 23, 2021, 03:06 PM IST

टीएमसी का गंभीर आरोप, शुभेंदु ने नंदीग्राम में बुलाए भाड़े के गुंडे, चुनाव आयोग से की शिकायत
Photo Courtesy: Zeenews

नंदीग्राम। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के सबसे हाईप्रोफाइल सीट नंदीग्राम से बीजेपी उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी पर टीएमसी ने गंभीर आरोप लगाए हैं। टीएमसी ने आरोप लगाया है कि शुभेंदु अधिकारी ने चुनाव से पहले नंदीग्राम में भाड़े के गुंडों को बुलाया है। तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रॉयन ने चुनाव आयोग से इस बात की शिकायत की है।

चुनाव आयोग को भेजी चिट्ठी में टीएसमी ने कहा है कि, 'नंदिग्राम में शुभेंदु अधिकारी अपराधियों और असामाजिक तत्वों को शरण दे रहे हैं, जो निर्वाचन क्षेत्र के निवासी नहीं हैं, इन लोगों को यहां लाकर काम कराया जा रहा है। इन सभी लोगों के खिलाफ अलग-अलग जगहों पर क्रिमिनल रिकॉर्ड दर्ज हैं।'

तृणमूल कांग्रेस ने बाकायदा उन इलाकों के घरों की जानकारी और उनके मालिकों का नाम चुनाव आयोग को सौंपी है जिनमें इन कथित अपराधियों को पनाह दी गई है। टीएमसी ने चिट्ठी में कहा है कि कालीपद शी के दो मंजिले मकान में 30-40 लड़के रह रहे हैं, जो मोटर बाईक्स पर घूमते हैं। ये सभी कोलाघाट, पिंगला, कांठी और कोंटाई के रहने वाले हैं। टीएमसी का दावा है कि अधिकारी यहां इनसे अक्सर मिलने आते हैं।

टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रॉयन का दावा है कि शुभेंदु अधिकारी के एलेक्शन एजेंट मेघनाथ पाल के घर करीब 50 अपराधियों को शरण दी गई है। इसी तरह बोवेल-1 और बोवेल एमएसके इलाके के घरों की जानकारी दी गई है जहां दर्जनों बाहरी लोग रह रहे हैं। टीएमसी ने निर्वाचन आयोग से तत्काल इस मामले में हस्तक्षेप कर आवश्यक कार्रवाई करने की मांग की है। 

पश्चिम बंगाल मेें 27 मार्च से शुरू हो रहे विधानसभा चुनाव को लेकर नंदीग्राम सबसे हॉट सीट बन चुकी है। नंदीग्राम से ही टीएमसी चीफ और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी दांव आजमा रही हैं। वहीं बीजेपी ने इस सीट से कभी ममता के सबसे करीबी रहे शुभेंदु अधिकारी को टिकट दिया है। अधिकारी इलाके के दिग्गज नेता माने जाते हैं, उन्होंने कुछ महीने पहले ही टीएमसी छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया।