भाजपा की शोले: पहले भुट्टे खाए अब लड्डू खाओ, किसने कहा देखिए समाचार सारांश

ऐसी अनगिनत खबरों के लिए सुनें हम समवेत की ख़ास पेशकश 'समाचार सारांश'

Updated: Aug 13, 2021, 09:01 AM IST

अब अलग अलग अखबार पढ़ने से मुक्ति। हम समवेत के 'समाचार सारांश' में सुनिए एमपी के अखबारों में छपी खबरें एक साथ। यहां आपको मिलेगी वो खबरें जो आपके लिए जानना महत्वपूर्ण हैं।

 

भाजपा की 'शोले', पहले भुट्टे खाये अब लड्डू खाओ

मध्यप्रदेश की राजनीति में भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की भुट्टा पार्टी की चर्चा है। इस पार्टी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विजयवर्गीय के साथ 'ये दोस्ती हम नहीं छोड़ेंगे' गाना गाया था। कांग्रेस ने इसे भाजपा की 'शोले' कहा है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि यदि भुट्टे खाने से भाजपा में एकता आ सकती है तो उसे अब लड्डू पार्टी करनी चाहिए। 


ओबीसी आरक्षण के लिए सरकार कोर्ट में उतरेगी  बड़े वकील

ओबीसी के 27 फीसदी आरक्षण को लेकर घिरी भाजपा सरकार ने तय किया है कि वह अब हाईकोर्ट में इस आरक्षण के पक्ष में बड़े वकीलों को खड़ा करेगी। इसमें रविशंकर प्रसाद और तुषार मेहता शामिल होंगे। एक सितंबर को इसकी सुनवाई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आरक्षण को लेकर ही गुरुवार को मंत्रालय में ओबीसी मंत्रियों, विधायकों और महाधिवक्ता के साथ तीन घंटे तक बैठक की। इसमें तमाम पक्षों की चर्चा हुई। बैठक के बाद नगरीय विकास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया कि कोर्ट के स्तर पर लड़ाई लड़ने के साथ ही भाजपा यह भी देखेगी कि सरकार के स्तर पर ओबीसी को क्या सुविधाएं दी जा सकती हैं। 


मंडी बोर्ड फिर शुरू करेगा कृषि मंडी नाके

नए केन्द्रीय कृषि कानून के आने से प्रदेश की कृषि उपज मंडियों की आय घट गई है। इस कारण आउटसोर्स से रखे गए करीब तीन हजार सुरक्षाकर्मियों और एक हजार डाटा एंट्री ऑपरेटर्स ग्रेडर और सेंपलर को हटा दिया गया है। आय घटने से परेशान सरकार अपना ही निर्णय पलटने जा रही है। अब पूर्व में बंद की गई 52 मंडी नाकों को फिर से प्रारंभ करने की तैयारी है। इस संबंध का एक प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। प्रदेशभर में 259 मुख्य मंडियां हैं। इनके साथ 297 उप मॉडयां संचालित हैं। इन सभी मंडियों से वार्षिक आय औसतन 1,200 करोड़ होती है लेकिन तीन केन्द्रीय कृषि कानून के आने से पिछले डेढ़ साल में पौने दो सौ करोड़ (करीब 18%) का अंतर आया है। नाके शुरू कर आय बढ़ाने के प्रयास होंगे।