कंगना के बयानों पर भोजपुरी सिंगर का कटाक्ष, पद्मश्री पाके धधाइ गईलु कंगना हुआ वायरल

भोजपुरी सिंगर नेहा सिंह राठौर ने कंगना के आजादी वाले विवादित बयान पर रचा धिक्कार गीत, सोशल मीडिया पर यूजर ने की तारीफ बोले गरम लोहे पर बढ़िया चोट मारी

Updated: Nov 18, 2021, 01:45 PM IST

कंगना के बयानों पर भोजपुरी सिंगर का कटाक्ष, पद्मश्री पाके धधाइ गईलु कंगना हुआ वायरल
Photo courtesy: Begusarai.in

कंगना रनोत के आजादी वाले बयान से लोगों में कितना रोष है इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि भोजपुरी सिंगर नेहा सिंह राठौर ने उन पर एक धिक्कार गीत रच डाला। इस धिक्कार गीत के माध्यम से भोजपुरी सिंगर ने बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनोत पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कंगना को याद दिलाया है कि अगर आपने इतिहास नहीं पढ़ा है, तो कम से कम ऐसे बेतुके बयान देने से पहले अपनी फिल्म मणिकर्णिका झांसी की रानी याद कर लेंती, जिसमें उन्होंने अंग्रेजों से लोहा लिया था। नेहा सिंहा राठौर का यह गाना सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। ट्वीटर पर इसे करीब 17 हजार व्यूज मिल चुके हैं। वहीं इसे सैकड़ों शेयर और हजारों लाइक्स मिले हैं।

पद्मश्री पाने के तुरंत बाद कंगना रनोत ने आजादी को लेकर विवादित बयान दिया था, उनका कहना था कि 75 साल पहले हमें भीख में आजादी मिली थी, अब 2014 के बाद असली आजादी मिली है। कंगना रनोत के इस बयान का चारों तरफ निंदा हो रही है। राष्ट्रपति से पद्मश्री सम्मान लेने के बाद उनका यह बयान आया था। जिसके बाद कई नेताओं समेत बड़ी संख्या में लोगों ने उनसे पुरस्कार वापस लेने की मांग की थी।

अब इसे लेकर भोजपुरी सिंगर नेहा सिंह राठौर ने भी गाने के जरिए अपना विरोध जताया है। नेहा अपने गाने को 'धिक्कार गीत' नाम दिया है। वे एक्ट्रेस को नसीहत देते गाती हैं पद्मश्री पाके हेतना धधा गईलु कंगना।

और पढ़ें: बड़बोली कंगना ने फिर उगला जहर, कहा गांधी के भीख के कटोरे में मिली आज़ादी, जा और रो अब

नेहा सिंह राठौर भोजपुरी गीत लिखती भी हैं और उसे गाती भी हैं, उनका अपना अगल ही स्टाइल है। वे पारंपरिक लोकगीतों की तर्ज पर करंट मुद्दों गाने लिखती हैं, वे अक्सर अपने गाने को लेकर चर्चा में रहती हैं। अब उन्होंने बालीवुड क्वीन कंगना को नसीहत दी है। उनके इस भोजपुरी गाने में रानी लक्ष्मीबाई, 1857 की लड़ाई, राजगुरु, भगत सिंह, सुखदेव का भी जिक्र है। नेहा सिंह यूपी, बिहार चुनाव, राजनीति, महंगाई, बेरोजगारी के मुद्दे पर चुटीले गीत लिखती रहती हैं।