जैसे भारत ने हमारा साथ दिया, हम भी भारत के साथ खड़े रहेंगे, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पीएम मोदी को दिया आश्वासन

संकट की इस घड़ी में अमेरिका ने भारत को वैक्सीन के लिए कच्चा माल सहित जैसी तमाम ज़रूरी चीजें उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है, कल ही अमेरिकी राष्ट्रपति और भारतीय प्रधानमंत्री के बीच कोरोना को लेकर फोन पर बातचीत हुई है

Publish: Apr 27, 2021, 09:55 AM IST

जैसे भारत ने हमारा साथ दिया, हम भी भारत के साथ खड़े रहेंगे, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पीएम मोदी को दिया आश्वासन
Photo Courtesy: The Print

 

नई दिल्ली। कोरोना से जूझ रहे भारत का साथ देने के लिए अब एक एक कर दुनिया भर के देश सामने आ रहे हैं। अमेरिका ने भी अब भारत की तरफ मदद का हाथ बढ़ा दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि जैसे महामारी के शुरुआती दौर में भारत ने हमारी मदद की थी, वैसे ही हम इस लड़ाई में भारत के साथ खड़े रहेंगे। 

यह भी पढ़ें : भारत में हृदय विदारक से भी परे हैं हालात, WHO चीफ की भारत में कोरोना के कहर पर टिप्पणी

जो बाइडेन ने प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत की जानकारी बीती रात अपने ट्विटर हैंडल पर दी। बाइडेन ने कहा कि आज मैंने प्रधानमंत्री मोदी से बात की और कोरोना की इस लड़ाई में भारत को पूर्ण रूप से सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया। बाइडेन ने कहा कि जिस तरह से महामारी के शुरुआती दिनों में भारत ने अमेरिका का साथ दिया था, वैसे ही हम भी भारत के साथ खड़े रहेंगे। 

प्रधानमंत्री मोदी ने भी अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ हुई बातचीत की जानकारी अपने ट्विटर हैंडल पर साझा की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जो बाइडेन के साथ आज सार्थक चर्चा हुई। हमने दोनों ही देशों में कोरोना की परिस्थिति पर विस्तृत चर्चा की। मैं राष्ट्रपति जो बाइडेन का भारत को दी जाने वाली मदद के लिए शुक्रिया अदा करता हूं। 

मोदी ने यह भी बताया कि उन्होंने जो बाइडेन के साथ वैक्सीन के कच्चे माल और ज़रूरी दवाइयों की आपूर्ति पर चर्चा की। मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका की स्वास्थ्य साझेदारी इस वैश्विक चुनौती से निपट सकती है।

यह भी पढ़ें : 10 फीसदी संक्रमण दर और 60 फीसदी आईसीयू बेड भरने की स्थिति में इलाके को कंटेनमेंट किया जाए घोषित, राज्यों को जारी हुई कोरोना गाइडलाइंस

उधर यूएई, और सिंगापुर सहित दक्षिण एशिया के तमाम देशों के साथ भारत बातचीत कर रहा है। रूस ने भी भारत की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है। खबरों मुताबिक रूस जल्द ही भारत को ऑक्सीजन और रेमडेसिविर मुहैया करा सकता है। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन भी भारत की हर संभव मदद कर रहा है।