भारतीय मूल की कमला हैरिस ने रचा इतिहास, 85 मिनट के लिए बनीं अमेरिकी राष्ट्रपति

अमेरिका में राष्ट्रपति की शक्तियां हासिल करने वाली पहली महिला बनीं कमला हैरिस, जब जो बाइडेन को किया गया बेहोश तो कमला ने संभाला राष्ट्रपति का दायित्व

Updated: Nov 20, 2021, 09:19 AM IST

भारतीय मूल की कमला हैरिस ने रचा इतिहास, 85 मिनट के लिए बनीं अमेरिकी राष्ट्रपति

वॉशिंगटन। भारतीय मूल की कमला हैरिस ने एक बार फिर इतिहास रच दिया है। कमला हैरिस अमेरिकी राष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी संभालने वाली पहली महिला बन गई हैं। व्हाइट हाउस ने बताया कि हैरिस ने 1 घंटा 25 मिनट के लिए राष्ट्रपति का दायित्व संभाला। बता दें कि अमेरिका के 250 साल के इतिहास में अब तक कोई भी महिला राष्ट्रपति नहीं बनी है।

दरअसल, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन शुक्रवार को रूटीन ‘कोलोनस्कॉपी’ चेकअप कराने के लिए वाल्टर रीड नेशनल मिलिट्री मेडिकल सेंटर गए हुए थे। यहां उन्हें बेहोश किया गया था। चूंकि, अमेरिका में प्रावधान है कि जब प्रेसिडेंट को एनस्थीसिया से गुजरना होता है, तो वह अपनी शक्तियां, उपराष्ट्रपति को ट्रांसफर कर देता है। ऐसे में बाइडेन ने भी एनस्थीसिया लेने से पहले हैरिस को शक्तियां ट्रांसफर कर दी।

यह भी पढ़ें: दुनियाभर में भारतीय किसानों के संघर्ष की चर्चा, देखें वर्ल्ड मीडिया द्वारा किसानों के सत्याग्रह का कवरेज

अपनी शक्तियों के हस्तांतरण के लिए बाइडेन ने अमेरिकी समयानुसार शुक्रवार सुबह 10 बजकर 10 मिनट पर स्पीकर नैन्सी पेलोसी और डेमोक्रेटिक सीनेटर पैट्रिक लीहाय (वार्मोंट) को खत भेजा था।  इसके बाद वे एनस्थीसिया के लिए गए थे। व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकी ने बताया कि सुबह करीब 11 बजकर 35 मिनट पर हैरिस ने व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ रोन क्लेन से बातचीत की और उसके बाद हैरिस ने अपना दायित्व संभाला। 

जेन साकी ने बताया की ऐसी परिस्थितियों में यह अभूतपूर्व घटना नहीं है बल्कि अमेरिकी संविधान में निर्धारित प्रक्रिया का हिस्सा है। बता दें कि उपराष्ट्रपति बनते ही कमला हैरिस कई रिकॉर्ड अपने नाम कर चुकी हैं। वे अमेरिका में उपराष्ट्रपति बनने वाली पहली महिला हैं, साथ ही ऐसा करने वाली पहली दक्षिण एशियाई मूल की शख्स और पहली अश्वेत व्यक्ति हैं।